कबीर के दोहे - Kabir ke Dohe in Hindi

01 फरवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (1748 बार पढ़ा जा चुका है)

कबीर के दोहे - Kabir ke Dohe in Hindi

भारत के इतिहास में कई महान संत हुए हैं जिन्होंने अपने जीवन में कविताओं के जरिए लोगों के दिलों में जगह बनाई। मगर संत कबीरदास की रचनाओं का कोई जोड़ नहीं था। वे एक आध्यात्मिक कवि थे जिन्होंने अपनी रचनाओं से हिंदी साहित्य को बदल दिया था और मुस्लिम होकर भी उन्होंने अपने जीवन को हर धर्म के रूप से ढाला और हर किसी के लिए अपनी रचनाओं में जगह दी। कबीर पंथ एक विशाल समुदाय है जिन्होंने संत आसन संप्रदाय के उत्पन्न कर्ता के रूप में बताया है।

कबीर दास से जुड़ी कुछ बातें-

कबीरदास

14वीं शताब्दी में जन्में कबीरदास के जन्म स्थान के बारे में ठीक से कुछ भी ज्ञात नहीं है लेकिन ज्यादातर लोग उनका जन्मस्थान काशी बताते हैं. जिसकी पुष्टि खुद कबीरदास जी अपने कथन में करते थे। कबीर दास जी भारत के रहस्यवादी कवि और संत थे जिनके बारे में पूर्णरूप से नहीं पता है और हिंदी साहित्य के भक्तिकालीन युग में ज्ञानाश्रयी निर्गुण शाखा की काव्यधारा के प्रवर्तक भी इन्हें ही माना जाता है। इस्लाम में कबीर का अर्थ महान होता है और वे अपने दोहों में अक्सर अपने नाम का प्रयोग भी करते थे। उनके माता-पिता कौन थे इस बारे में कुछ भी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है लेकिन ऐसा बताया जाता है कि उनकी परवरिश बहुत ही गरीब मुस्लिम बुनकर परिवार में हुई थी। कबीर बहुत ही धार्मिक व्यक्ति थे और उन्हें महान साधू बताया जाता है वे अपने प्रभावशाली परंपरा और संस्कृति से उन्हें पूरे विश्व में प्रसिद्धि मिली है। कुछ इतिहासकारों के मुताबिक, कबीर दास जी ने धार्मिक शिक्षा रामानंद नाम के एक गुरु से ली थी और वे गुरु रामानंद के अच्छे शिष्य के रूप में जाने जाते थे।


कबीरदास


वराणसी में संत कबीक की कई तस्वीरें हैं और बताया गया है कि नीरूटीला में उनके माता-पिता का घर था जिसका नाम नीमा था। अब ये घर विद्यार्थियों और अध्येताओं के ठहरने की जगह बन चुका है। हिंदू धर्म इस्लाम के बिना छवि वाले भगवान के साथ व्यक्तिगत भक्तिभाव के साथ ही तंत्रवाद जैसे उस समय के प्रचलित धार्मिक स्वभाव के द्वारा कबीर दास के लिए पूर्वाग्रह हुआ करता था। कबीर के अनुसार हर जीवन के दो धार्मिक सिद्धांत होते हैं मोक्ष के बारे में उनका विचार हुआ करता था कि इन दो दैवीय सिद्धांतों को एक करने की प्रक्रिया होती है। उनकी महान रचनाओं बीजक में कविताओं की भरमार होती है जो कबीर के धार्मिकता पर सामान्य विचार को स्पष्ट करता है। कबीर की हिंदी उनके दर्शन की तरह ही सरल हुआ करती थी जिसमें ईश्वर में एकात्मकता का अनुसरण हुआ करता है।


कबीर के दोहे - Kabir ke Dohe in Hindi


संत कबीर दास के दोहे गागर में सागर के समान हैं। आइये जानते हैं कबीर के कुछ सुप्रसिद्ध दोहे अर्थ सहित -


अगला लेख: आपके अनुसार महागठबंधन में से कौन सा नेता मोदी जी को टक्कर दे सकता है? आपको ऐसा क्यों लगता है?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 फरवरी 2019
चु
चुनाव-2019विजय कुमार तिवारीहम वोट देने वाले हैं।वोट देना हमारा अधिकार है और कर्तव्य भी।यह बहुत संयम, धैर्य और विचार का विषय है।आज से पहले शायद कभी भी हमने इस तरह नहीं सोचा।चुनाव आयोग और हमारे संविधान ने इस विषय में बहुत से दिशा-निर्देश जारी किये हैं।हम सभी सामान्य वोटर को बहुत कुछ पता भी नहीं है।कई
10 फरवरी 2019
30 जनवरी 2019
हर माँ-बाप अपने बच्चों के लिए कोई न कोई सपना ज़रूर देखते हैं कोई चाहता हैं उनका बच्चा डॉक्टर बने तो किसी का ख्वाब होता है कि उनका बच्चा इंजीनियर बने लेकिन आपको ये बात सुनकर थोड़ी हैरानी होगी कि उत्तर प्रदेश के मैनपुरी ज़िले में नगला दरबारी नाम का एक गांव है, जहां माता-पिता बच्चों को इंजीनियर या डॉक्टर
30 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
हर कोई व्यक्ति चाहता है कि वह अपने माता-पिता का नाम रौशन करें जिसके बारे में वह काफी सोचता है उसका ऐसा मानना होता है कि हमारे माता-पिता ने बहुत ही दुख और कष्ट झेल कर हमको इतना बड़ा किया है उसके बदले में हमारा भी यह कर्तव्य होता है कि हम अपने माता-पिता के लिए कुछ करें
21 जनवरी 2019
08 फरवरी 2019
आज के समय में लोगों की जिंदगी इतनी व्यस्त हो गई है कि लोग अपने स्वास्थय पर ध्यान ही नहीं दे पाते हैं। आजकल की लाइफस्टाइल और दिनचर्या लोगों के स्वास्थय के लिए काफी नुकसानदायक होती है। लेकिन अपने बिजी शेड्यूल के चलते लोग अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। बता दें कि वैसे तो रेग्यूलर चेकअप हमार
08 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
कांग्रेस ने आज तक उस राज्य और वहाँ के लोगो को भी सिर्फ सत्ता भोग के लिए गुमराह कर के रखा था। नार्थ ईस्ट का राज्य नागालैंड विकास के पथ पर - संजय अमानज्यो -ज्यो लोकसभा चुनाव के दिन नजदीक आते जा रहे है चुनावी सरगर्मिया बढ़ती जा रही है तरह -तरह के आरोप राजनीतिक पार्टिया एक दूसरे पर लगा रही है यैसे मे
10 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
कभी किसी से बिछड़ने का दुख, कभी कुछ हारने के दुख, कभी किसी की याद का दुख, कुछ ना कुछ दुख हम हमेशा झेल रहे होते हैं। इसीलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही सैड शायरी इन हिन्दी (girls sad shayri in hindi|) लेकर आये है, जिससे कि आप अपने दुखों को भी लोगो को समझा सकें।Girls Sad Shayari in hindi #1 उतरे जो ज़िन्द
07 फरवरी 2019
01 फरवरी 2019
आज हम आज़ादी का मजा लेते हुए अपने घरों में बड़े-बड़े मुद्दों को बड़ी आसानी से बहस में उड़ा देते है, लेकिन कभी सोचा है कि जिन्होंने अपनी जान की परवाह ना करते हुए देश को आज़ाद कराया, उनमें से जो जिंदा हैं, वो किस हाल में हैं ?ये हैं झाँसी के रहने वाले श्रीपत जी, 93 साल से भी ज्यादा की उम्र पार कर चुके श्रीप
01 फरवरी 2019
14 फरवरी 2019
- संजय अमान भारत का ईतिहास गवाह है सत्ता के लिए किसी भी हद तक चले जाना राजनीतिक संस्कृति का हिस्सा ही नहीं ज़रूरत भी होता है परन्तु इनसब से ऊपर राष्ट्र हीत की चिंता बहुत ही कम राजनीतिज्ञों को करते हुए देखा गया है वर्त्तमान में यही दृश्य देखने को मिलता है। अब वह दिन नहीं रहे या सिर्फ क़िताबों में या पु
14 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x