नाम का प्रभाव :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 फरवरी 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (22 बार पढ़ा जा चुका है)

नाम का प्रभाव :-- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *मानव जीवन में दुख एवं सुख की अनुभूति समय समय पर होती रहती है | जीवन में दुख के दिन किसी के लिए पहाड़ से होते हैं तो किसी के लिए मात्र साधारण बात | जिस तरह रात के बाद दिन आता है ठीक वैसे ही दुख के बाद सुख आता है पर हम कुछ मामूली मगर बड़े काम के उपायों से इन अनचाहे दुखों को कम कर सकते हैं कभी-कभी एक दम कम कर सकते हैं | जीवन रूपी इस नैया को संतुलित रखने में “राम” नाम का विशेष महत्‍व है | सभी दुखों से छूटकारा दिलाने वाला तारक मंत्र श्री राम, जय राम, जय जय राम का जप इस साधारण दिखने वाले मंत्र में असीम शक्ति छिपी हुई | या यूं कहें कि ब्रह्मांड का सबसे शक्तिशाली नाम राम का नाम है जिसका स्‍मरण करने से एक पल में मनुष्‍य सारे पापों से मुक्ति पा जाता है | एक सार्थक नाम के रूप में हमारे ऋषियों-मुनियों ने राम नाम के महत्व को पहचाना | उन्होंने इस पूजनीय नाम की परख की और नामों के आगे लगाने का चलन प्रारंभ किया | प्रत्येक हिन्दू परिवार में देखा जा सकता है कि बच्चे के जन्म में श्री राम के नाम का सोहर होता है | विवाह आदि मांगलिक कार्यों के अवसर पर श्री राम के गीत गाए जाते हैं , यहां तक कि मनुष्य की अंतिम यात्रा में भी राम नाम का ही घोष किया जाता है | तुलसीदास जी ने लिखा है :- "तुलसी रा के कहत ही निकसत पाप पहार ! फिर आवन पावत नहीं देत मकार किंवार !! अर्थात :- जब व्यक्ति ‘रा’ शब्द का उच्चारण करता है तो इसके साथ-साथ उसके आंतरिक पाप बाहर आ जाते हैं | इस समय अंतःकरण निष्पाप हो जाता है | अब ‘म’ का उच्चारण करें | ‘म’ शब्द बोलते ही दोनों होठ स्वतः एक ताले के समय बंद हो जाते है | और इस प्रकार वाह्य विकार के पुनः अंतःकरण में प्रवेश पर बंद होठ रोक लगा देते हैं | यह है राम नाम का रहस्य |* *आज युग व्यतीत हो जाने के बाद भी श्री राम नाम की महिमा विद्यमान है | प्राचीन काल में इस नाम की महिमा को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए माता पिता के द्वारा अपने बच्चों का नाम भगवान श्री राम के नाम पर रखा जाता था , जिसका मुख्य उद्देश्य होता था कि इसी बहाने भगवान का नाम उच्चारण तो होगा ही साथ ही बच्चे में भी भगवान राम के आदर्श प्रभावी होंगे , और ऐसा देखने को भी मिलता था | हमारे महापुरुषों ने बताया है :- "यथा नामो तथा गुणे " जैसा जिसका नाम होता है वैसे गुण उसके जीवन में परिलक्षित होते हैं | परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज जिस प्रकार बच्चों का नामकरण टिंकू , पिंकू , बबलू , डब्लू आदि हो रहा है उसी प्रकार उनके आचरण भी दिखाई पड़ रहे है | हम अपने बच्चों को तो दोषी कहते हैं परंतु हमने उनका नामकरण कैसा किया है इस पर ध्यान नहीं देना चाहते | यदि आज की पीढ़ी को यह दोष दिया जाता है कि वह भ्रमित हो रही है तो सारा दोष उनका ही नहीं बल्कि इसमें माता पिता भी दोषी हैं , जिन्होंने अपने बच्चों को राम नाम की महत्ता को समझाने का प्रयास नहीं किया |* *सृष्टि के कण-कण में , मनुष्य के रोम रोम में रहने वाले श्री राम के नाम का महत्व समझना एवं समझाना होगा |*

अगला लेख: आत्मबल :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जनवरी 2019
*इस संसार में मनुष्य समय-समय पर सुख - दुख , प्रसन्नता एवं कष्ट का अनुभव करता रहता है | संसार में कई प्रकार के कष्टों से मनुष्य घिरा हुआ है परंतु मुख्यतः दो प्रकार के कष्ट होते हैं एक शारीरिक कष्ट और दूसरा मानसिक कष्ट | शारीरिक कष्ट से मनुष्य यदि ग्रसित है तो वह औषधि ले करके अपना कष्ट मिटा सकता है पर
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *ईश्वर ने सर्वप्रथम जड़ शरीर का सृजन किया फिर उसमें आत्मारूपी चेतनाशक्ति प्रकट की | देखना , सुनना , अनुभव करना , विचार करना , निर्णय करना आदि सभी कार्य चेतनाशक्ति के कारण होते हैं | चेतना के अभाव में यह जड़ शरीर कुछ भी नहीं कर सकता | यह चेतनशक्ति तीन अवस्थाओं में रहती
24 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे देश में समय समय पर जहाँ धार्मिक पर्व / त्यौहार मनाये जाते हैं वहीं राष्ट्रीय पर्व मनाने की परम्परा भी रही है | राष्ट्रीय पर्व हमारे स्वाभिमान का प्रतीक हैं | सैकड़ों वर्षों की गुलामी के बाद अनगिनत बलिदान देकर हमने आजादी प्राप्त की | हमें आजादी तो मिली परंतु हमार
26 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
हर कोई व्यक्ति चाहता है कि वह अपने माता-पिता का नाम रौशन करें जिसके बारे में वह काफी सोचता है उसका ऐसा मानना होता है कि हमारे माता-पिता ने बहुत ही दुख और कष्ट झेल कर हमको इतना बड़ा किया है उसके बदले में हमारा भी यह कर्तव्य होता है कि हम अपने माता-पिता के लिए कुछ करें
21 जनवरी 2019
23 जनवरी 2019
हमारा भारत वर्ष बहुत ही धार्मिक देश है यहां पर भिन्न भिन्न प्रकार की जातियों के लोग मौजूद हैं परंतु यह सभी भाई चारे से एक साथ रहते हैं और यह अपने अपने धर्म के अनुसार अपने-अपने देवताओं की पूजा करते हैं वैसे देखा जाए तो जब हम मंदिरों में भगवान की पूजा करने जाते हैं तब हम अप
23 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे भारत देश में नित्य प्रति त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते हैं | यहाँ कोई ऐसा दिन नहीं है जिस दिन कोई पर्व न हो | वर्ष के बारहों महीने के प्रत्येक दिन कोई ना कोई पर्व अवश्य होता है जिसे हम भारतवासी पूर्ण श्रद्धा से मनाते हैं | इसी क्रम में आज माघ मास की कृष्ण पक्ष की च
24 जनवरी 2019
18 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है माँ लक्ष्मी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष किसी
18 जनवरी 2019
21 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है भोलेनाथ की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष आप स्नेह
21 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*सनातन धर्म इतना विस्तृत है , उसकी मान्यताएं इतनी विशाल हैं जिन्हें एक साथ समझ पाना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव है | हां यह कहा जा सकता है यदि प्राचीन सनातन संस्कृति को एक ही शब्द में समेटना हो तो वह है यज्ञ | हमारी भारतीय संस्कृति में यज्ञ का बहुत व्यापक अर्थ है | यज्ञ मात्र अग्निहोत्र ना होकर के
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
हमारा घर (भवन/आवास/मकान) एक ऐसी जगह होती है जहां खुलकर सांस ले सकते हैं ।अगर घर में सभी जरूरी चीजों के लिए शुभ-अशुभ दिशाओं का ध्यान रखा जाए तो नकारात्मकता से मुक्ति मिल सकती है। वास्तु शास्त्र में घर के लिए कई नियम बताए गए हैं, इनका पालन करने पर घर की पवित्रता बनी रहती है। उज्जैन के वास्तु विशेषज्ञ
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
*सनातन धर्म इतना विस्तृत है , उसकी मान्यताएं इतनी विशाल हैं जिन्हें एक साथ समझ पाना मुश्किल ही नहीं बल्कि असंभव है | हां यह कहा जा सकता है यदि प्राचीन सनातन संस्कृति को एक ही शब्द में समेटना हो तो वह है यज्ञ | हमारी भारतीय संस्कृति में यज्ञ का बहुत व्यापक अर्थ है | यज्ञ मात्र अग्निहोत्र ना होकर के
22 जनवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *सकल सृष्टि में चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मनुष्य को माना गया है | कालांतर में चार वर्ण बन गये | इन चारों वर्णों में हमारे पुराणों ने ब्राम्हण को सर्वश्रेष्ठ कहा है | ब्राह्मण सर्वश्रेष्ठ अपने त्याग एवं तपस्या से हुआ है | त्यागमय जीवन एवं तपस्या के बल पर ब्रह्म
24 जनवरी 2019
26 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *आज भारत अपना गणतंत्र दिवस मना रहा है | आज के ही दिन आजाद भारत में भारत के विद्वानों द्वारा निर्मित संविधान धरातल पर आया | भारत गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था तब भारत के वीर सपूतों ने अपनी जान की बाजी लगाकर अपने प्राण निछावर करके देश को आजादी दिलाई | गणतंत्र का अर्
26 जनवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
22 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x