नक्षत्र - एक विश्लेषण

02 फरवरी 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

नक्षत्र - एक विश्लेषण  - शब्द (shabd.in)

नक्षत्रों के तारकसमूह, देवता, स्वामी ग्रह, संज्ञा तथा विभिन्न राशियों में उनका प्रस्तार

नक्षत्रों का विश्लेषण करते हुए अभी तक हमने सभी 27 नक्षत्रों के आरम्भिक रूप और गुण पर बात की | इस विषय पर बात की कि सभी बारह हिन्दी महीनों में 27 नक्षत्रों का विभाजन किस प्रकार हुआ तथा हिन्दी महीनों के वैदिक नामों पर बात की | जिससे यह भी स्पष्ट होता है कि हिन्दी महीनों के नाम तो नक्षत्रों के नाम पर ही रखे गए हैं, किन्तु उनके वैदिक नाम किसी नक्षत्र के आधार पर नहीं रखे गए अपितु उन वैदिक नामों के भी गहन अर्थ हैं, जिन पर हम बाद में चर्चा करेंगे | हम उन नामों के आधार पर उस नक्षत्र की विशेषताओं को अवश्य समझ सकते हैं | अब आगे बढ़ते हुए इस विषय पर बात करते हैं कि 27 नक्षत्रों में प्रत्येक नक्षत्र में कितने तारे (Stars) होते हैं, प्रत्येक नक्षत्र के देवता (Deity) तथा स्वामी अथवा अधिपति ग्रह (Lordship) कौन हैं कौन हैं, प्रत्येक नक्षत्र को क्या संज्ञा दी गई है | नक्षत्रों की संज्ञा से उनकी प्रकृति का भी कुछ अनुमान हो जाता है | साथ ही यह भी बताएँगे कि विभिन्न राशियों में कितने अंशों तक किस नक्षत्र का प्रस्तार होता है |

ये तो पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि राशिचक्र यानी Zodiac के पूरे 360 अंशों को बारह राशियों में विभाजित करने पर प्रत्येक राशि में 30 अंश आते हैं तथा पूरे चौबीस घण्टों में बारह राशियों का क्रम से उदय होता है | जब 27 नक्षत्रों को इन बारह राशियों अथवा 360 अंशों में विभाजित किया जाता है तो प्रत्येक नक्षत्र की अवधि 13°20’ अंशों की होती है | इसी आधार प्रस्तुत है 27 नक्षत्रों का बारह राशियों में वर्गीकरण…

अश्विनी : इस नक्षत्र में तीन तारे होते हैं | इसका देवता अश्विनी कुमारों को माना जाता है तथा इसका अधिपति ग्रह है केतु | इस नक्षत्र की संज्ञा लघु है और इसका प्रस्तार मेष राशि के आरम्भ से लेकर 13°20’ तक होता है |

भरणी : इस नक्षत्र में भी अश्विनी नक्षत्र की ही भाँति तीन तारे होते हैं | इसका देवता यम को माना गया है तथा शुक्र इसका अधिपति ग्रह है | इसकी संज्ञा उग्र है तथा मेष राशि में इसका विस्तार 13°20’ अंशों से लेकर 26°40’ अंशों तक होता है |

कृत्तिका : इस नक्षत्र में छह तारों का समावेश होता है | इसका देवता अग्नि को माना गया है तथा सूर्य को इसका आधिपतित्व दिया गया है | मृदुतीक्ष्ण प्रकृति का यह नक्षत्र मेष राशि में 26°40’ से लेकर 30 डिग्री तक तथा वृषभ राशि में शून्य डिग्री से लेकर 10’ तक विद्यमान रहता है |

रोहिणी : पाँच तारे मिलकर रोहिणी नक्षत्र बनाते हैं | इसका देवता ब्रह्मा को तथा अधिपति ग्रह चन्द्रमा को माना गया है | ध्रुव प्रकृति का यह नक्षत्र वृषभ राशि में 10° से लेकर 23°20’ अंशों तक विद्यमान रहता है |

मृगशिर : तीन तारों का समूह मृगशिर नक्षत्र में होता है | इसका देवता चन्द्रमा को माना गया है तथा इसका अधिपति ग्रह है मंगल | इसकी संज्ञा है मृदु तथा वृषभ राशि में इसका प्रस्तार 23°20’ से 30° अंशों तक और मिथुन राशि में शून्य से 6°40’ तक होता है |

आर्द्रा : इस नक्षत्र में केवल एक ही तारा होता है | इसका देवता शिव को मान अगया है तथा इसका अधिपति ग्रह है राहु | तीक्ष्ण प्रकृति के इस नक्षत्र का प्रस्तार मिथुन राशि में 6°40’ से लेकर 20° अंशों तक होता है |

पुनर्वसु : इस नक्षत्र में चार तारे होते हैं तथा इसका देवता अदिति और अधिपति ग्रह गुरु को माना जाता है | चर संज्ञक यह नक्षत्र मिथुन राशि में 20’ से 30’ अंश तक रहता है तथा कर्क राशि में शून्य डिग्री से लेकर 3°20’ अंशों तक इसका प्रस्तार होता है |

पुष्य : चार तारों से युक्त इस नक्षत्र के देवत्व बृहस्पति को तथा अधिपतित्व शनि को प्राप्त है | लघु संज्ञा वाले इस नक्षत्र का विस्तार कर्क राशि में 3°20’ से लेकर 16°40’ तक रहता है |

आश्लेषा : इस नक्षत्र में पाँच तारे मिलकर सर्प के जैसी आकृति बनाते हैं | इसका देवता है सर्प तथा इसका अधिपति ग्रह है बुध | यह नक्षत्र तीक्ष्ण संज्ञक होता है और इसका विस्तार कर्क राशि में 16°40’ से 30° अंशों तक होता है |

शेष अगले लेख में…..

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/02/02/constellation-nakshatras-37/

अगला लेख: बुध का कुम्भ में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 फरवरी 2019
बुधका कुम्भ में गोचरकल यानी गुरूवार सात फरवरी को प्रातःदस बजकर ग्यारह मिनट के लगभग माघ शुक्ल द्वितीया को तैतिल करण और परिघ योग में बुधका गोचर कुम्भ राशि में होने जा रहा है | बुध इस समय धनिष्ठा नक्षत्र पर है तथाअस्त है | कुम्भ राशि में निवास करते हुए बुध 11 फरवरी को शतभिषज नक्षत्र पर और 18फरवरी को पू
06 फरवरी 2019
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
12 फरवरी 2019
यह सच है कि ईश्‍वर सर्वव्यापी हैं और वे हमेशा सबका कल्याण ही करेंगे, लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि दिशाओं के स्वामी भी देवता ही हैं। अत: आवश्यक है कि पूजा स्थल बनवाते समय भी वास्तु के कुछ नियमों का ध्यान रखा जाए।वास्तु विज्ञान के अनुसार देवी-देवताओं की कृपा घर पर बनी रहे, इसके लिए पूजाघर वास्तुदोष से
12 फरवरी 2019
28 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
28 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
30 जनवरी 2019
22 जनवरी 2019
ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है गौरी पुत्र गणेश की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष व
22 जनवरी 2019
20 जनवरी 2019
पूर्णिमा व्रत 2019कल सोमवार यानी 21 जनवरी को पौषी पूर्णिमा – पौष माह की पूर्णिमा है | जिनप्रदेशों में माह को अमान्त मानकर शुक्ल प्रतिपदा से माह का आरम्भ मानते हैं वहाँपूर्णिमा माह का पन्द्रहवाँ दिन होता है | जिन प्रदेशों में माह को पूर्णिमान्तमानकर कृष्ण प्रतिपदा से माह का आरम्भ माना जाता है वहाँ पू
20 जनवरी 2019
01 फरवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
01 फरवरी 2019
22 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछ लिख चुके हैं | अब
22 जनवरी 2019
27 जनवरी 2019
28 जनवरी से 3 फरवरी 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोच
27 जनवरी 2019
29 जनवरी 2019
शुक्र का धनु राशि में गोचर आज रात्रि 11:29 के लगभग समस्त सांसारिकसुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा मेंवृद्धि आदि का कारक शुक्र वृश्चिक राशि से निकल करधनु राशि और मूल नक्षत्र में प्रस्थान करेगा | शुक्र के धनु राशि में प्रवेश केसमय माघ
29 जनवरी 2019
19 जनवरी 2019
ठिठुराती भीषण ठण्ड में जब प्रकृति नटी ने छिपा लिया हो स्वयं को चमकीली बर्फ की घनी चादर में छाई हो चारों ओर घरों की छत पर और आँगन में खामोशी के साथ “टप टप” बरसती धुँध नहीं दीख पड़ता कि चादर के उस पार दूसरा कौन है और फिर इसी द्विविधा को दूर करने धीरे धीरे मीठी मुस्कान के सूर्यदेव का ऊपरउठाना जो कर दे
19 जनवरी 2019
30 जनवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
30 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x