स्टोन क्रशर

04 फरवरी 2019   |  रवीन्द्र सिंह यादव   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

पथरीले हठीले

हरियाली से सजे पहाड़

ग़ाएब हो रहे हैं

बसुंधरा के शृंगार

खंडित हो रहे हैं

एक अवसरवादी

सर्वे के परिणाम पढ़कर

जानकारों से मशवरा ले

स्टोन क्रशर ख़रीदकर

एक दल में शामिल हो गया

चँदा भरपूर दिया

संयोगवश / धाँधली करके

हवा का रुख़

सुविधानुसार हुआ

पत्थर खदान का ठेका मिला

कारोबार में बरकत हुई

कुछ और स्टोन क्रशर की

आमद हुई

खदान पर कार्यरत मज़दूर

घिरे हैं गर्द-ओ-ग़ुबार से

पत्थरों को तोड़कर

बनती पृथक-पृथक आकार की

बेडौल गर्वीली गिट्टी

पत्थर होते खंड-खंड

महीन से महीनतर

फिर महीनतम होती

चूरा-चूरा गिट्टी

मज़दूरों की साँसों के रास्ते

फेफड़ों में जमा हो रही है

और दौलत.....

तथाकथित नेता की

तिजोरियों में!

अगले चुनाव तक

ठेकेदार नेता हो जायेगा

और मज़दूर

भगवान् को प्यारा हो जायेगा !!!

© रवीन्द्र सिंह यादव


अगला लेख: कन्धों पर सरहद के जाँबाज़ प्रहरी आ गये



रेणु
05 फरवरी 2019

अवसरवादियों ने वसुंधरा का श्रृंगार-- हरीतिमा युक्त पर्वत मालाओं का सीना छलनी कर उन्हें खंडित कर दिया | उन्हें उन्सनों की प्रवाह नहीं बेजुबान पहाड़ों का दर्द कैसे जानेगे | ये स्टोन कटर अभी ना जाने कितने और पर्वतों को खंडित करेंगे और ना जाए कितने मजदूरों की सांसे अवरुद्ध कर अपनी तिजोरी भरेंगे | विचारणीय रचना आदरणीय रवीन्द्र जी | सादर --

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
13 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
11 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x