क्या सीखें रामायण में वर्णित शबरी प्रसंग से

06 फरवरी 2019   |  श्रीमती अर्चना श्रीवास्तव   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

क्या सीखें रामायण में वर्णित शबरी प्रसंग से - शब्द (shabd.in)

त्याग, संघर्षपूर्ण जीवन, नि: स्वार्थ सेवा और निष्काम भक्ति

रामायण और रामचरित मानस में भगवान श्रीराम की वनयात्रा में माता शबरी का प्रसंग सर्वाधिक भावपूर्ण है। भक्त और भगवान के मिलन की इस कथा को गाते सुनाते बड़े-बड़े पंडित और विद्वान भाव विभोर हो जाते हैं। माता शबरी का त्याग और संघर्षपूर्ण जीवन, नि: स्वार्थ सेवा, निष्काम भक्ति और गुरू तथा श्रीराम के प्रति समर्पण दूसरी जगह देखने में नहीं आता इसलिए माता शबरी आज भी जीवंत है।

माता शबरी की सेवा से मुग्ध मतंग मुनि जी जब प्राण त्यागने लगे तब दुखी माता शबरी उनके साथ जाने की जिद करने लगी।

उस समय मतंग मुनि जी ने कहा:- शबरी, मेरी भक्ति अधूरी रह गई; मुझे श्रीराम के दर्शन नहीं हो पायेंगे किन्तु तेरी भक्ति पूर्ण होगी।

श्रीराम तुम्हें दर्शन देंगे, वे तुमसे मिलने जरूर आयेंगे; तुम श्रद्धा और धीरज रखकर उनकी प्रतीक्षा करना।

मतंग मुनि जी के वचनों माता शबरी ने पूर्ण विश्वास किया और माता शबरी ने भक्ति और संयम के साथ प्रभु की प्रतीक्षा की।

प्रतीक्षा के अंतिम दिनों में माता शबरी को ऐसा लगता था कि श्रीराम अब आये कि तब आये।

वह प्रतिदिन मार्ग की सफाई करती, ताजे फल, फूल तोड़ लाती और प्रभु के मार्ग को एकटक निहारती रहती, भगवान की प्रतिक्षा मे शबरी स्वयं प्रतिक्षा का प्रतिमान हो जाती है।

भगवान श्रीराम जब अनुज लक्ष्मण जी के साथ माता शबरी के आश्रम में पधारे तो माता शबरी धन्य हो गई। माता शबरी सुधबुध खोकर नाचने लगी, उन्हें दुनिया तो क्या अपने वस्त्रों का भी ध्यान न रहा।शायद यही श्री राम की सबसे बड़ी पूजा थी, क्योंकि आदर सत्कार तो वह भूल गई थी।

लक्ष्मण जी ने जब याद दिलाया तब माता शबरी एकदम भाव-विभोर हो उठी और ऋषि मतंग के दिए आशीर्वाद को स्मरण करके गद्गद हो गयी, वह दौडकर अपने प्रभु श्री राम चरण कमलों से लिपट गयी।

इस भावनात्मक दृश्य को गोस्वामी तुलसीदास जी इस प्रकार रेखांकित करते हुए कहते है:-

सरसिज लोचन बाहु बिसाला।

जटा मुकुट सिर उर बनमाला॥

स्याम गौर सुंदर दोउ भाई।

सबरी परी चरन लपटाई॥

भावार्थ:- कमल सदृश नेत्र और विशाल भुजाओं वाले, सिर पर जटाओं का मुकुट और हृदय पर वनमाला धारण किए हुए सुंदर, साँवले और गोरे दोनों भाइयों के चरणों में शबरी जी लिपट पड़ीं॥

माता शबरी ने मुग्धभाव से उनको बिठाया, चरण पखारे, पूजा की और फल, मेवे जो उसने संचित कर रखे थे, लाकर खिलाना शुरू किया। सभी फल पिछले दिनों के थे, केवल बेर के फल ताजे थे इसलिए उसने प्रभु को बेर खिलाना शुरू किया और भगवान बड़े प्रेम से बड़ाई करते हुए बेर खाने लगे।

श्रीराम की बेर खाती हुई मुद्रा देखकर माता शबरी पुन: मुग्ध हो गई, उसी मुग्धावस्था में छाँट - छाँटकर बेर प्रभु को दिए। श्री राम पुन: बार बार बेर मांगने लगे तो वह अति प्रसन्नता में बेर चख-चखकर देने लगी और भगवान वाह-वाह करते हुए बेर खाने लगे।

प्रेम मगन मुख बचन न आवा।

पुनि पुनि पद सरोज सिर नावा॥

सादर जल लै चरन पखारे।

पुनि सुंदर आसन बैठारे॥

कंद मूल फल सुरस अति दिए राम कहुँ आनि।

प्रेम सहित प्रभु खाए बारंबार बखानि॥

भावार्थ:- वे प्रेम में मग्न हो गईं, मुख से वचन नहीं निकलता, बार-बार चरण-कमलों में सिर नवा रही हैं।फिर उन्होंने जल लेकर आदरपूर्वक दोनों भाइयों के चरण धोए और फिर उन्हें सुंदर आसनों पर बैठाया॥ माता शबरी ने अत्यंत रसीले और स्वादिष्ट कन्द, मूल और फल लाकर श्री रामजी को दिए, प्रभु ने बार-बार प्रशंसा करके उन्हें प्रेम सहित खाया॥

दोनों भाईयों को माता शबरी के जूठे बेर खाते देखकर देवगण आकाश से फूलों की वर्षा करने लगे और दुन्दुभी बजाने लगे। भक्त और भगवान के इस भावपूर्ण मिलन को देखने आस पास के साधु-संत और महात्मा भी इकठ्ठे हो गये। अन्नदाता को शबरी से बार-बार मांग कर बेर खाने की यह लीला देखकर सब धन्य हो गये; सबके सब शबरी को धन्य-धन्य कहकर जय बोलाने लगे।

भगवान श्रीराम ने बाद में माता शबरी को धीरज से बैठाकर उनका कुशल-क्षेम पूछा और अपने विलंब से आने के लिए खेद भी व्यक्त किया। उन्होंने माता शबरी के त्याग, तप, संयम, श्रद्धा और भक्ति की भूरि-भूरि प्रशंसा की। श्रीराम ने माता शबरी को नवधा भक्ति (नौ प्रकार की भक्ति) का उपदेश दिया जो उन्होंने बड़े-बड़े ऋषियों को भी नहीं दिया था।

माता शबरी दण्डकवन की कुशल जानकार थी, इतना ही नहीं शबरी दिव्य द्रष्टा भी थी इसलिए श्रीराम ने उनसे माता सीताजी का पता तथा आगे जाने का मार्ग भी पूछा। माता शबरी ने भी उन्हें पंपासर जाकर वानर राज सुग्रीव से मित्रता करके सहयोग से लंका विजय की सलाह दी।

भगवान श्रीराम ने माता शबरी से वर मांगने कहा तो शबरी जी ने जनम-जनम भगवान की भक्ति ही माँगी। भगवान जब जाने लगे तो माता शबरी ने भाव विह्रल होकर उन्हें बिदाई दी।

प्रभु चले गये तो शबरी ने स्वयं योग अग्रि पैदा कर अपने नश्वर शरीर का परित्याग कर दिया और माता शबरी अमर हो गई।

माता शबरी और श्रीराम का मिलन दक्षिण कौशल अब छत्तीसगढ़ के धार्मिक इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटना है, इसलिए आज भी लोग इस कथा को पूरी श्रद्धा से गाते और सुनते हैं।

माता शबरी की कथा वर्णन रामायण और रामचरित मानस में ही नहीं अनेक प्राचीन ग्रंथों में है। महर्षि वेद व्यास जी ने शबरी का वर्णन पद्म पुराण में किया है। धर्म के उच्च मानदंडों पर माता शबरी का जीवन खरा उतरता है, इसका प्रमाण यह है कि स्वयं श्रीराम उससे मिलने आये और उसे इतना प्रेम और सम्मान दिया।

माता शबरी की भक्ती की जितना प्रशंसा की जाय कम है; माता शबरी इस धरती की प्रथम आदिवासी नारी है जिसने भगवान को प्राप्त कर लिया।

तुलसीदास जी लिखते है:-

कहि कथा सकल बिलोकि हरि मुख हृदय पद पंकज धरे।

तजि जोग पावक देह परि पद लीन भइ जहँ नहिं फिरे॥

नर बिबिध कर्म अधर्म बहु मत सोकप्रद सब त्यागहू।

बिस्वास करि कह दास तुलसी राम पद अनुरागहू॥

भावार्थ:- सब कथा कहकर भगवान्‌ के मुख के दर्शन कर, उनके चरणकमलों को धारण कर लिया और योगाग्नि से देह को त्याग कर (जलाकर) वह उस दुर्लभ हरिपद में लीन हो गई, जहाँ से लौटना नहीं होता।

तुलसीदासजी कहते हैं कि अनेकों प्रकार के कर्म, अधर्म और बहुत से मत- ये सब शोकप्रद हैं।

हे मनुष्यों, इनका त्याग कर दो और विश्वास करके (माता शबरी के जैसे) श्री रामजी के चरणों में प्रेम करो।

क्या सीखें रामायण में वर्णित शबरी प्रसंग से - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: अटल टिंकरिंग लैब (ATL) क्या है?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जनवरी 2019
करणी माता मंदिर इस मंदिर को चूहों वाली माता का मंदिर, चूहों वाला मंदिर और मूषक मंदिर भी कहा जाता है, जो राजस्थान के बीकानेर से 30 किलोमीटर दूर देशनोक शहर में स्थित है। करनी माता इस मंदिर की अधिष्ठात्री देवी हैं, जिनकी छत्रछाया में चूहों का साम्राज्य स्थापित है। इन चूहों में
30 जनवरी 2019
10 फरवरी 2019
आप चाहे गांव या कस्बे के मध्यवर्गीय परिवार के पढ़े-लिखे व्यक्ति हों अथवा महानगर के किसी संपन्न कुलीन परिवार के सदस्य हों या फिर सामान्य आर्थिक स्तर के कोई अधिकारी अथवा व्यापारी, इस सत्य को मन-ही-मन स्वीकार कर लें कि दाम्पत्य जीवन की सफलत
10 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
प्
प्रार्थना जितनी सरल होती शायद ही कुछ इतना सरल हो, मैं यहाँ पर उतने ही कम शब्दों में और इसके बारे में कहना चाहूँ की प्रार्थना जितनी निःशब्द रहे उतनी सरल और तेज प्रभाव वाली होती है। शब्दों में कमी रह सकती है मगर निःशब्द प्रार्थना बहुत कुछ कहती है।वैसे प्रार्थना निवेदन करके ऊर्जा प्राप्त करने की शक्ति
06 फरवरी 2019
24 जनवरी 2019
मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जुगनाथ गुरूवार को पत्नी कोविता रामदीन के साथ कुंभ आए हैं। हम आपको उनके कुंभ दर्शन की फोटोज दिखाएंगे। मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवींद्र जुगनाथ ने पत्नी कविता जुग नाथ के साथ त्रिवेणी बांध स्थित बड़े हनुमान मंदिर में पूजन किया। वाराणसी से वह वि
24 जनवरी 2019
13 फरवरी 2019
दाम्पत्य जीवन में प्राय: पारिवारिक विवादों के कैक्टस: स्वत: ही उग जाते हैं। कभी मां बेटे के कान भरती है, तो कभी बेटी मां के कान भरती है। आस पास पड़ोस में रहने वाली औरतें भी सास से बहु को सिर पर न चढ़ाने की सलाह देती रहती हैं। कभी नंद-भाभी तो कभी देवरानी-जेठानी आदि रिश्तों को कहीं न कहीं थोड़ी बहुत खटा
13 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
मन्वन्तर एक संस्कॄत शब्द है, जिसका संधि-विच्छेद करने पर = मनु+अन्तर मिलता है। इसका अर्थ है मनु की आयु. प्रत्येक मन्वन्तर एक विशेष मनु द्वारा रचित एवं शासित होता है, जिन्हें ब्रह्मा द्वारा सॄजित किया जाता है। मनु विश्व की और सभी प्राणियों की उत्पत्ति करते हैं, जो कि उनकी आयु की अवधि तक बनती और चलती र
06 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
नींद व्यक्ति की सबसे ज्यादा आवश्यक है, बिना नींद या कम नींद के हम कई बीमारियों और समस्याओं के शिकार हो सकते हैं.जिस तरह पोषण के लिए आहार की जरुरत होती है उसी तरह थकान मिटने के लिए पर्याप्त नींद की जरुरत होती है, निद्रा के समय मस्तिष्क सर्वथा शान्त, निस्तब्ध या निष्क्रिय होता हो, सो बात नहीं। पाचन तं
07 फरवरी 2019
09 फरवरी 2019
मौन की महिमा अपरंपार है, इसके महत्व को शब्दों के जरिए अभिव्यक्त करना संभव नहीं है।प्रकृति में सदैव मौन का साम्राज्य रहता है। पुष्प वाटिका से हमें कोई पुकारता नहीं, पर हम अनायास ही उस ओर खिंचते चले जाते हैं। बड़े से बड़े वृक्षों से लदे सघन वन भी मौन रहकर ही अपनी सुषमा से सारी वसुधा को सुशोभित करते है
09 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
घर पर गर्भावस्था की जांच (प्रेग्नेंसी टेस्ट) करने से आपके पेशाब में गर्भावस्था के हॉर्मोन ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन की मौजूदगी का पता चलता है। अधिकांश टेस्ट माहवारी चूकने के पहले दिन ही आपको बता सकते हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं। अधिक संवेदनशील जांचे तो आपकी माहवारी की नियत तिथि से कुछ दिन पहल
07 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
मन्वन्तर एक संस्कॄत शब्द है, जिसका संधि-विच्छेद करने पर = मनु+अन्तर मिलता है। इसका अर्थ है मनु की आयु. प्रत्येक मन्वन्तर एक विशेष मनु द्वारा रचित एवं शासित होता है, जिन्हें ब्रह्मा द्वारा सॄजित किया जाता है। मनु विश्व की और सभी प्राणियों की उत्पत्ति करते हैं, जो कि उनकी आयु की अवधि तक बनती और चलती र
06 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
प्
प्रार्थना जितनी सरल होती शायद ही कुछ इतना सरल हो, मैं यहाँ पर उतने ही कम शब्दों में और इसके बारे में कहना चाहूँ की प्रार्थना जितनी निःशब्द रहे उतनी सरल और तेज प्रभाव वाली होती है। शब्दों में कमी रह सकती है मगर निःशब्द प्रार्थना बहुत कुछ कहती है।वैसे प्रार्थना निवेदन करके ऊर्जा प्राप्त करने की शक्ति
06 फरवरी 2019
24 जनवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *हमारे भारत देश में नित्य प्रति त्यौहार एवं पर्व मनाए जाते हैं | यहाँ कोई ऐसा दिन नहीं है जिस दिन कोई पर्व न हो | वर्ष के बारहों महीने के प्रत्येक दिन कोई ना कोई पर्व अवश्य होता है जिसे हम भारतवासी पूर्ण श्रद्धा से मनाते हैं | इसी क्रम में आज माघ मास की कृष्ण पक्ष की च
24 जनवरी 2019
28 जनवरी 2019
ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति अपनी किस्मत खुद बनाता है क्योंकि व्यक्ति द्वारा किए गए कर्म के अनुसार वह अपनी किस्मत बदल सकता है लेकिन इस दुनिया में बहुत से व्यक्ति ऐसे हैं जो कड़ी मेहनत करते हैं और अच्छे कर्म भी करते हैं इसके बावजूद भी उनकी किस्मत नहीं बदल पाती है। आम भाषा में ये भी कहा जाता हैं कि हर
28 जनवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x