प्रेम का मौसम

09 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेम का मौसम

विजय कुमार तिवारी


प्रेम का मौसम चल रहा है और बहुत से युवा,वयस्क और स्वयं को जवान मानने वाले वृद्ध खूब मस्ती में हैं।इनकी व्यस्तता देखते बनती है और इनकी दुनिया में खूब भाग-दौड़ है।प्रयास यही है कि कुछ छूट न जाय और दिल के भीतर की बातें सही ढंग से उस दिल तक पहुँच जाय।बस एक ही धुन है,एक ही लगन कि प्रेम की ज्वाला जो अभी मेरे भीतर है,वह उस ओर भी जल उठे और उनका दिल भी प्रेम की भावना से भर जाये।उनसे नजरें मिले और दिल धड़क जाये।उनकी पलकें उन्मिलित हों और यहाँ रोम-रोम रोमांचित हो जाये। उधर से चितवन तिरछी हो और इधर सीधे दिल की गहराई में उतर जाये। उधर आँखों में शरारत उभरे और इधर पूरा शरीर पिघलने लगे।सभी की मनसा यही है कि प्रेम की आग दोनो तरफ पूरे जोश से लगे।

बसन्त ने दस्तक दी है।कलियाँ खिलने लगी हैं,भौरें मंडराने लगे हैं और मस्ती की बयार बहने लगी है। शीत ऋतु के बाद का यह बदलाव बहुत ही मधूरतम रुप में प्रकट होता है।भगवान सूर्य अपनी किरणों के माध्यम से उष्मा देकर धरती के आँगन को जगाने लगते हैं।धरती की यह अँगड़ाई चारो तरफ दिखती है।बसन्त के आगमन का संकेत है और चारो ओर शरारत भरी मुस्कराहट खिल रही है।यह सब स्वाभाविक है-प्रकृति का बिहँसना,मुस्कराना और खिलखिलाना।

बसन्त और प्रेम के मौसम की उष्मा तभी सार्थक है जब हमारे सभी सम्बन्ध नयी उर्जा के साथ एक-दूसरे से जुड़ जाय और अटूट बने रहें। कहीं कोई दरार ना बने।सभी एक-दूसरे के सहयोगी और प्रेमी बने।हमारा रोम-रोम खिले और इसकी अनुभूति सभी को हो। हम वहाँ जरुर खड़ा मिलें जहाँ कोई हमे देखना चाहता हो। सभी का सुख बढ़ाने में हमारा सहयोग हो। किसी के दुख का कारण हमें नहीं बनना। इतनी भी साधना कर लें तो जन्म लेना सार्थक हो जायेगा। हमारी पुतलियों में प्यार की चमक हो और होठों पर नैसर्गिक मुस्कान।

अगला लेख: गुरु और चेला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 फरवरी 2019
- संजय अमान भारत का ईतिहास गवाह है सत्ता के लिए किसी भी हद तक चले जाना राजनीतिक संस्कृति का हिस्सा ही नहीं ज़रूरत भी होता है परन्तु इनसब से ऊपर राष्ट्र हीत की चिंता बहुत ही कम राजनीतिज्ञों को करते हुए देखा गया है वर्त्तमान में यही दृश्य देखने को मिलता है। अब वह दिन नहीं रहे या सिर्फ क़िताबों में या पु
14 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
आप चाहे गांव या कस्बे के मध्यवर्गीय परिवार के पढ़े-लिखे व्यक्ति हों अथवा महानगर के किसी संपन्न कुलीन परिवार के सदस्य हों या फिर सामान्य आर्थिक स्तर के कोई अधिकारी अथवा व्यापारी, इस सत्य को मन-ही-मन स्वीकार कर लें कि दाम्पत्य जीवन की सफलत
10 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
06 फरवरी 2019
23 फरवरी 2019
शा
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
23 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
कवितापहली मुलाकातविजय कुमार तिवारीयह हठ था या जीवन का कोई विराट दर्शन,या मुकुलित मन की चंचल हलचल?रवि की सुनहरी किरणें जागी,बहा मलय का मधुर मस्त सा झोंका,हुई सुवासित डाली डाली, जागी कोई मधुर कल्पना।शशि लौट चुका थानिज चन्द्रिका-पंख समेटे। उमग रहे थे भौरे फूलों कलियों में,मधुर सुनहले आलिंगन की चाह संजो
21 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x