बजरंग बाण का क्या महत्व है?

09 फरवरी 2019   |  श्रीमती अर्चना श्रीवास्तव   (37 बार पढ़ा जा चुका है)

बजरंग बाण का क्या महत्व है? - शब्द (shabd.in)

बजरंग बाण. जिस भी घर,परिवार में बजरंग बाण का नियमित पाठ,अनुष्ठान होता है वहां दुर्भाग्य, दारिद्रय,भूत-प्रेत का प्रकोप और असाध्य रोग,शारीरिक कष्ट कभी नहीं सताते। बजरंग बाण में पूरी श्रद्धा रखने और निष्ठापूर्वक उसके बार बार दोहराने से हमारे मन में हनुमान जी की शक्तियां जमने लगती हैं। शक्ति के विचारों में रमण करने से शरीर में वही शक्तियां बढ़ती हैं। शुभ विचारों को मन में जमाने से मनुष्य की भलाई की शक्तियों में बढोत्तरी होने लगती है। उसका सत् चित् आनंद स्वरूप खिलता जाता है। मामूली कष्टों और संकटों के निरोध की शक्तियां विकसित हो जाती हैं तथा साहस और र्निभीकता आ जाती है।

बजरंग बाण के श्रद्धापूर्वक उच्चारण कर लेने से जो मनुष्य शक्ति के पुंज महावीर हनुमान जी को स्थायी रूप से अपने मन में धारण कर लेता है उसके सब संकट अल्पकाल में ही दूर हो जाते हैं। साधक को चाहिए कि वह अपने सामने हनुमान जी का कोई चित्र रख ले और पूरे आत्मविश्वास तथा निष्ठाभाव से उनका मानसिक ध्यान करें। मन में ऐसी धारणा करें कि हनुमान जी की दिव्य शक्तियां धीरे धीरे मेरे अंदर प्रवेश कर रही हैं। मेरे अंतर तथा चारों ओर के वायु मंडल आकास में स्थित संकल्प के परमाणु उत्तेजित हो रहे हैं। ऐसे सशक्त वातावरण में निवास करने से मेरी मन शक्ति के बढ़ने में सहायता मिलती है। जब यह मूर्ति मन मंदिर में स्थायी रूप से उतरने लगे, अंदर से शक्ति का स्त्रोत खुलने लगे तभी बजरंग बाण की सिद्धि समझनी चाहिए। श्रद्धायुक्त अभ्यास ही पूर्णता की सिद्धि में सहायक होता है। पूजन में हनुमान जी की शक्तियों पर एकाग्रता की आवश्यकता है।

यह साधना कहीं एकान्त स्थान अथवा एकान्त में स्थित हनुमानजी के मन्दिर में प्रयोग करें। हनुमान जी के अनुष्ठान में अथवा पूजा आदि में दीपदान का विशेष महत्त्व होता है। 5 अनाजों (गेहूं, चावल, मूंग, उड़द और काले तिल) को अनुष्ठान से पूर्व एक-एक मुट्ठी प्रमाण में लेकर शुद्ध गंगाजल में भिगो दें। अनुष्ठान वाले दिन इन अनाजों को पीसकर उनका दीया बनाएं।

बजरंग बाण का जप और पाठ मंगलवार या शनिवार के दिन शुरु करें.इस दिन यथाशक्ति हनुमान कृपा और शनिदेव की प्रसन्नता के लिए व्रत भी रख सकते हैं. बजरंग बाण के नित्य पाठ से व्यक्ति के तन, मन और धन से जुड़े सभी कलह और संताप दूर होते हैं और भौतिक सुख प्राप्त होते हैं.

अगला लेख: अटल टिंकरिंग लैब (ATL) क्या है?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जनवरी 2019
देखो ओ दीवानो तुम ये काम ना करो राम का नाम बदनाम ना करो. शायद दशकों पहले किसी गीतकार ने सच ही कहा था. जिस भगवान् राम की मर्ज़ी के बिना पत्ता तक नहीं हिल सकता तो उस भगवान् राम के मंदिर को कोई कैसे तोड़ सकता है. जो इस सम्पूर्ण सृष्टि के रचियेता है,
26 जनवरी 2019
07 फरवरी 2019
घर पर गर्भावस्था की जांच (प्रेग्नेंसी टेस्ट) करने से आपके पेशाब में गर्भावस्था के हॉर्मोन ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन की मौजूदगी का पता चलता है। अधिकांश टेस्ट माहवारी चूकने के पहले दिन ही आपको बता सकते हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं। अधिक संवेदनशील जांचे तो आपकी माहवारी की नियत तिथि से कुछ दिन पहल
07 फरवरी 2019
02 फरवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *मानव जीवन में दुख एवं सुख की अनुभूति समय समय पर होती रहती है | जीवन में दुख के दिन किसी के लिए पहाड़ से होते हैं तो किसी के लिए मात्र साधारण बात | जिस तरह रात के बाद दिन आता है ठीक वैसे ही दुख के बाद सुख आता है पर हम कुछ मामूली मगर बड़े काम के उपायों से इन अनचाहे दुखो
02 फरवरी 2019
28 जनवरी 2019
ऐसा कहा जाता है कि व्यक्ति अपनी किस्मत खुद बनाता है क्योंकि व्यक्ति द्वारा किए गए कर्म के अनुसार वह अपनी किस्मत बदल सकता है लेकिन इस दुनिया में बहुत से व्यक्ति ऐसे हैं जो कड़ी मेहनत करते हैं और अच्छे कर्म भी करते हैं इसके बावजूद भी उनकी किस्मत नहीं बदल पाती है। आम भाषा में ये भी कहा जाता हैं कि हर
28 जनवरी 2019
05 फरवरी 2019
तुलसी दास कहते हैं- 'भाव-अभाव, अनख-आलसहुं, नाम जपत मंगल दिषी होहुं।' भाव से, अभाव से, बेमन से या आलस से, और तो और, यदि भूल से भी भगवान के नाम का स्मरण कर लो तो दसों दिशाओं में मंगल होता है। भगवान स्वयं कहते हैं, भाव का भूखा हूं मैं, और भाव ही इक सार है, भाव बिन सर्वस्व भी दें तो मुझे स्वीकार नहीं! ऐ
05 फरवरी 2019
16 फरवरी 2019
सुशीला जो की एक मध्यम परिवार की महिला हैं॰॰॰॰॰ उसका पति मोहन गावों के बाहर एक मील में सुबह 10 बजे से रात को 11 बजे तक की नौकरी करता हैं. सुशीला और मोहन के अलावा घर में बापूजी भी साथ रहते हैं. तीनो में आपस में बड़ा लगाव और प्रेम है. ये छोटा सा परिवार बड़ी ख़ुशी से अपनी ज़िंदगी जीता है. बापूजी भी आपने आप
16 फरवरी 2019
09 फरवरी 2019
नीति आयोग के अटल इनोवेशन मिशन (एआईएम) के तहत अटल टिंकरिंग लैब (एटीएल) की स्‍थापना की इसका क्या काम है कृपया बताएं.
09 फरवरी 2019
02 फरवरी 2019
!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *सनातन धर्म में समस्त मानव जाति को सुखी बने रहने के अनेकानेक उपाय बताये गये हैं | वैसे तो मनुष्य को सुख एवं दुख उसके आचरण के अनुसार ही प्राप्त होते हैं | हमारे ऋषियों ने प्रत्येक मनुष्य को सुखी रहने के लिए धर्म का पालन करने का निर्देश दिया है | धर्मपालन के कई अंग हैं उ
02 फरवरी 2019
09 फरवरी 2019
जैसे छींकने पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। छींकते समय जैसे आंखे बंद हो जाती है वैसे ही महिलाएं भी चरमसुख के समय चाह कर भी आंखे नहीं खोल पातीं। दरअसल इस वक्त उनकी ग्लैंड से तरल स्त्रावित होता है जो दिमाग को आंखें बंद करने के लिए संदेश भेजता है।लवमेकिंग, दो विपर‍ित लिंग के बीच न सिर्फ एक इंटीमेसी बल्क
09 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
नींद व्यक्ति की सबसे ज्यादा आवश्यक है, बिना नींद या कम नींद के हम कई बीमारियों और समस्याओं के शिकार हो सकते हैं.जिस तरह पोषण के लिए आहार की जरुरत होती है उसी तरह थकान मिटने के लिए पर्याप्त नींद की जरुरत होती है, निद्रा के समय मस्तिष्क सर्वथा शान्त, निस्तब्ध या निष्क्रिय होता हो, सो बात नहीं। पाचन तं
07 फरवरी 2019
09 फरवरी 2019
नींद में कुछ लोग बड़बड़ाने लगते हैं जिससे ना सिर्फ उनकी नींद टूट जाती है बल्कि कमरे में मौजूद दूसरे लोग भी परेशान हो जाते हैं। नींद में बड़बड़ाना कोई बीमारी नही है लेकिन ये इससे पता चलता है कि आपकी सेहत कुछ गड़बड़ है।क्‍यों बड़बड़ाते हैं नींद में लोग?नींद में बोलने को बड़बड़ा कहते हैं क्योंकि जब आप
09 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x