Top 10 Schools in delhi - ये हैं दिल्ली के 10 सबसे बेहतरीन स्कूल जहाँ मिलेगा आपके बच्चे को उज्व्वल भविष्य

11 फरवरी 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (6 बार पढ़ा जा चुका है)

Top 10 Schools in delhi - ये हैं दिल्ली के 10 सबसे बेहतरीन स्कूल जहाँ मिलेगा आपके बच्चे को उज्व्वल भविष्य  - शब्द (shabd.in)

हर माता-पिता अपने बच्चों के लिए एक अच्छा स्कूल सर्च करता हैं वो चाहता है कि उनका बच्चा एक अच्छे स्कूल में पढ़े। यदि आपका बच्चा अपने पढ़ाई शुरू करने जा रहा है और आप दिल्ली निवासी हैं तो हम आपके लिए इस लेख में लाये हैं दिल्ली के Top 10 school की list जहां मिलती है सबसे बेहतरीन शिक्षा।

Top 10 Schools in delhi

1. श्री राम स्कूल, दिल्ली (The Shri Ram School, Delhi):


1988 में स्थापित, टीएसआरएस वर्तमान में चार कैंपस में विभाजित है. वसंत विहार कैम्पस जोकि जुनिर सेक्शन है तथा सीनियर सेक्शन की भी तीन शाखाएं दिल्ली में व्यवस्थित है. टीएसआरएस प्रत्येक छात्र में विविध शिक्षा को बढ़ावा देकर एक सुरक्षित वातावरण प्रदान करने पर केंद्रित है ताकि प्रत्येक अपने लक्ष्यों तक पहुंचने की अपनी क्षमता को महसूस कर सके. छात्रों के मनोबल को बढ़ावा देने के लिए कई तरह के कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं.



उद्देश्य

विद्या ददाति विनयम्

स्थापना

जुलाई 1988

चेयरपर्सन

अरुण भारत राम

निर्देशक

मनिका शर्मा

प्रिंसिपल

सुधा सहाय (सीनियर स्कूलअरावली)

प्रिंसिपल

मनीषा मल्होत्रा (सीनियर स्कूल, मौलसरी)

प्रिंसिपल

पूजा ठाकुर (जूनियर स्कूल, वसंत विहार)

परिसर

वसंत विहार, नई दिल्ली;
मौलसारी एवेन्यू, डीएलएफ III, गुड़गांव;
अरावली - हैमिल्टन कोर्ट कॉम्प्लेक्स, डीएलएफ IV, गुड़गांव; श्री राम पुलिस पब्लिक स्कूल, भोंडसी

वेबसाइट

www.trsr.org

संपर्क

26140884, 26149572



2. वसंत वेली स्कूल, दिल्ली(Vasant Valley School, Delhi):


1990 में स्थापित, वसंत वेली स्कूल एक सेल्फ-financed स्कूल है जिसमें 1,257 छात्र नामांकित हैं. शिक्षा विश्व C के पहले सर्वेक्षण 2011 में इस स्कूल को चौथे स्थान पर सम्मानित भी किया गया था. वसंत वेली स्कूल सीबीएसई से affilated है. छात्रों के अकादमिक विकास को खास प्राथमिकता दी जाती है, छात्रों के रचनात्मक तथा मानसिक विकास को ध्यान में रखते हुए स्कूल कई तरह की गतिविधियों भी समय-समय पर संचालित करती रहती है. स्कूल का पूरा परिसर आठ एकड़ में है और प्रयोगशालाओं और खेल सुविधाओं से सुसज्जित है.



उद्देश्य

श्रेष्ठतमाय कर्मणे

स्थापना

जून 1990

निर्देशक

अरुण कपूर

प्रिंसिपल

रेखा कृष्णा (सीनियर स्कूल)

प्रिंसिपल

रेखा बक्शी (जूनियर स्कूल)

परिसर

वसंत वेली स्कूल, सेक्टर सी, वसंत कुंज

वेबसाइट

http://www.vasantvalley.org/vasantvalley/default.shtml

संपर्क

26892787, 2689654


3. संस्कृति स्कूल (Sanskriti school):


1996 में स्थापित और सीबीएसई से affilated, संस्कृति स्कूल को न केवल दिल्ली में बल्कि देश भर में टॉप स्कूल के रूप में भी स्थान दिया गया है. विद्यालय 2012 के शिक्षा विश्व-सी के सर्वेक्षण के अनुसार इसे स्कूल श्रेणी में 10 वें स्थान पर रखा गया था.

परिसर में एक पुस्तकालय, खेल सुविधाएं, और एक अलग आर्ट ब्लॉक शामिल है. 2500 छात्र वर्तमान में संस्कृति स्कूल में नामांकित हैं, प्रत्येक बच्चे की प्रगति को ध्यान में रखते हुए, शिक्षक-छात्र अनुपात का भी स्कूल में खास ध्यान रखा गया है.



स्थापना

1998

प्रिंसिपल

रिचा अग्निहोत्री

परिसर

डॉ एस राधाकृष्णन मार्ग, चाणक्यपुरी

वेबसाइट

http://www.sanskritischool.edu.in/

संपर्क

+ 91-11-26883335, +91-11-26883336,

+ 91-11-26883337

+ 91-11-26883338



4. द मदर्स इंटरनेशनल स्कूल, दिल्ली (The Mother’s International School, Delhi):



1956 में स्थापित MIS, श्री अरबिंदो मार्ग पर श्री अरबिंदो आश्रम के शांत वातावरण में स्थित है. विद्यालय में लगभग 2500 छात्र प्री-प्राइमरी, प्राइमरी, माध्यमिक और वरिष्ठ माध्यमिक कक्षाओं में पढ़ रहे हैं. स्कूल सीबीएसई से संबद्ध (affilated) है और इसमें लगभग 200 शिक्षक हैं. इस स्कूल का उद्देश्य ऐसी शिक्षा प्रदान करना है जो आपके बच्चे के शारीरिक, भावनात्मक, मानसिक और आध्यात्मिक व्यक्तित्व को बढ़ावा दे.



उद्देश्य

More true, forever, more true

स्थापना

23 अप्रैल 1956

स्थापक

श्री सुरेन्द्र नाथ जौहर "फकीर"

प्रिंसिपल

श्रीमती संगमित्रा घोष

परिसर

श्री अरबिंदो मार्ग

वेबसाइट

http://www.themis.in/

संपर्क

+ 91-11-26964140



5. स्प्रिंगडेलस ( Springdales):



स्प्रिंगडेल्स की स्थापना शुरुवाती तौर पर स्प्रिंगडेल एजुकेशन सोसाइटी की अध्यक्ष श्रीमती रजनी कुमार और उनके पति श्री युधिशर कुमार ने घर पर ही नर्सरी और किंडरगार्टन के रूप में शुरू किया था.

आज के समय में स्प्रिंगडेलस की नई दिल्ली में प्रमुख स्थानों पर तीन पूर्ण परिसर हैं और जयपुर में जल्द ही इसका चौथा परिसर स्थापित होने वाला है. यह स्कूल सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस है ताकि छात्रों को आवश्यक सुविधाओं के अनुसार बेहतर शिक्षा प्राप्त हो सके.

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की इस स्कूल के छात्र कक्षा 10वीं तथा 12वीं के अंत में, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित अखिल भारतीय परीक्षा के लिए उपस्थित होते हैं.




उद्देश्य

वसुधैव कुटुम्बकम

स्थापना

1955

स्थापक

डॉ रजनी कुमार

परिसर

बेनिटो जुआरेज मार्ग, धौला कुआं

वेबसाइट

http://www.springdales.com/

संपर्क

011 2411 6657



6. सरदार पटेल विद्यालय (Sardar Patel Vidyalaya):


सरदार पटेल विद्यालय सीबीएसई से affilated एक सह-शिक्षा स्कूल है. इसकी स्थापना 1958 गुजरात एजुकेशन सोसाइटी द्वारा की गई थी. कैंपस सुविधाओं में एक ऑडिटोरियम, विशाल और अच्छी तरह से सुसज्जित कक्षाएं शामिल हैं. स्कूल संगीत, नृत्य, और डिबेट्स जैसे कई अतिरिक्त पाठ्यचर्या गतिविधियों को बढ़ावा देती है. छात्र भारतीय शास्त्रीय संगीत और संस्कृति के प्रचार के लिए कई सारे स्कूल में होने वाले गतिविधियों में सम्मिलित होते हैं.




उद्देश्य

विद्यैव धनमक्षयम

स्थापना

14 अगस्त 1947

परिसर

लोदी एस्टेट

वेबसाइट

http://spvdelhi.org/index.php?PAGE=1

संपर्क

011-24627344 / 55,24620355


7. अहलकॉन इंटरनेशनल स्कूल (Ahlcon International School):


यह सीबीएसई से affilated एक सह-शिक्षा स्कूल है. स्कूल का उद्देश्य छात्रों की सहज प्रतिभा को प्रशिक्षित करना और उन्हें बेहतर भविष्य के लिए आगे बढ़ाना है. साथ ही स्कूल बच्चों को खेल, योग और अन्य सह-पाठ्यचर्या गतिविधियों में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करती है.



उद्देश्य

वैश्विक परिप्रेक्ष्य, भारतीय मूल्य

स्थापक

शांति देवी प्रगतिशील शिक्षा समिति
श्री बिक्रमजीत अहलूवालिया (अध्यक्ष)

प्रिंसिपल

श्री अशोक कुमार पाण्डेय

परिसर

मयूर विहार, फेज़ -1, उना एन्क्लेव, दिल्ली पुलिस अपार्टमेंट के पास

वेबसाइट

http://www.ahlconinternational.com/

संपर्क

011 4777 0777




8. निर्मल भारती (Nirmal Bhartia):


निर्मल सोसाइटी फॉर एजुकेशन प्रमोशन की स्थापना वर्ष 1997 में हुई थी, स्कूल के कैंपस में लॉन, हवादार कक्षाएं, प्रयोगशाला और खेल के लिए प्लेग्राउंड की पूरी व्यवस्था छात्रों को दी गई है. साथ ही छात्रों के शिक्षा के साथ-साथ उनके पर्सनालिटी डेवलपमेंट पर भी ख़ास ध्यान दिया जाता है.



स्थापना

1997

परिसर

सेक्टर 14, द्वारका

वेबसाइट

http://www.nirmalbhartia.org/

संपर्क

011 45609702



9. मोर्डेन स्कूल (Morden school):


1920 में स्थापित, मोर्डेन स्कूल देश के सबसे पुराने शैक्षणिक केंद्रों में से एक है. तथा यह भारत के टॉप बोर्डिंग स्कूल में से एक है. यह सीबीएसई से affilated है और इसमें लगभग 2500 छात्र माध्यमिक और उच्च माध्यमिक कक्षाओं में नामांकित हैं. स्कूल में 130 शिक्षक हैं तथा पूरा परिसर 25 एकड़ में है, साथ ही वर्चुअल कक्षाओं, प्रयोगशालाओं, खेल और अच्छी बोर्डिंग सुविधाओं के साथ यह स्कूल छात्रों के मानसिक विकास पर ख़ास ध्यान रखता है.



स्थापना

1920

परिसर

बाराखंबा रोड

वेबसाइट

http://www.modernschool.net/

संपर्क

011-23311618 / 19 /20



10. एपीजे स्कूल (Apeejay School):


आधुनिक और नवीनतम शिक्षण तकनीक, उदाहरण और प्रोत्साहन के माध्यम से अनुशासन, सह-पाठ्यचर्या और खेल गतिविधियों के लिए उत्कृष्ट सुविधाएं, छात्रों में शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक विकास के लिए आदर्श मंच के रूप में एपीजे स्कूल एक बहुत अच्छा मार्ग है.



स्थापना

1967

स्थापक

डॉ सत्य पॉल

परिसर

प्लॉट संख्या 10, सड़क संख्या 42, सैनिक विहार, पितमपुर

वेबसाइट

http://www.apeejay.edu/pitampura/

संपर्क

(011) 27022140, 27012615

अगला लेख: Basic Shiksha News: भारत में साक्षरता दर का पूर्ण विवरण



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 फरवरी 2019
हिंदू धर्म में किसी की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाता है, शव को मुखाग्नि दी जाती है औऱ फिर उसकी अस्थियों को गंगा जी में प्रवाहित किया जाता हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मृतक की आत्मा को शांति मिलती है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताएंगे जिनक
05 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
पाकिस्तान में लड़कियों के लिए कई कड़े नियम होते हैं। वहां रहने वाले लोगों को इन नियमों को मानना भी होता है, लेकिन कहते हैं ना कि जहां चाह वहां राह। एक ऐसा ही वाक्या पाकिस्तान में घटा है जिसके चलते वहां पर पहली बार कोई हिंदू महिला जज बनी हैं। बता दें सुमन पवन बोदानी नाम की ये महिला पहली महिला सिविल ज
04 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
“कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली” ये कहावत तो आपने कई बार सुनी होगी, कभी किसी पर तंज कसते हुए, तो कभी गोविंदा के गाने में. साफ़ शब्दों में कहा जाए तो हज़ारों बार आप ये कहावत आम बोलचाल में सुन चुके होंगे. कई बार इसका इस्तेमाल किसी छोटे व्यक्ति की बड़े व्यक्ति से तुलना के लिए किया जाता है. भले ही ये कहावत म
07 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
Sandeep Maheshwari के ये 21 Quotes आपको जिंदगी में हर पल को आसान करेगे और आपको ज़िंदगी जीने के और ज़िंदगी में निराशा से आशा की ओर ले जायेगें।Sandeep Maheshwari Quotes in hindi #1“जितना आप प्रकृति से जुड़ते जाओगे, उतना अच्छा एहसास करोगे।”#2“दुनिया को आप तब तक नहीं बदल सकते जब तक आप खुद को नहीं बदलोगे ।”
04 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x