दाम्पत्य जीवन में पारिवारिक विवाद

13 फरवरी 2019   |  श्रीमती अर्चना श्रीवास्तव   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

दाम्पत्य जीवन में पारिवारिक विवाद - शब्द (shabd.in)

दाम्पत्य जीवन में प्राय: पारिवारिक विवादों के कैक्टस: स्वत: ही उग जाते हैं। कभी मां बेटे के कान भरती है, तो कभी बेटी मां के कान भरती है। आस पास पड़ोस में रहने वाली औरतें भी सास से बहु को सिर पर न चढ़ाने की सलाह देती रहती हैं। कभी नंद-भाभी तो कभी देवरानी-जेठानी आदि रिश्तों को कहीं न कहीं थोड़ी बहुत खटास आ ही जाती है। परिवार मेें यहां मिठास होती है वहां थोड़ी बहुत खटास होना कोई बड़ी बात नहीं है परंतु इस खटास को यदि हम स्थायी रूप देदे तो परिवार टूटने की नौबत आ जाती है। परिवार में स्थायी मिठास या मधुरता लाने के लिए सकारात्मक सोच रखना या होना जरूरी है।



परिवार में सास-बहु का रिश्ता हमारे सामाजिक जीवन का सबसे बड़ा और संवेदनशील विवाद है। इस पूरे विवाद का कारण परस्पर में समन्वय और समझ का न होना है। यदि बहू थोड़े-से विवेक और समझ से काम ले, तो वह सास की खास बन सकती है। वहीं दूसरी ओर सास भी यदि उसी स्रेह और प्रेम से बहू को अपनाती है, तो वह भी बहु का मन जीत सकती है लेकिन आज के दौर में अधिकांश परिवार में शीत युद्ध के लक्षण प्राय: देखे जा सकते हैं।



आपने देखा होगा या महसूस करा होगा कि कई घरों में जब सुबह-सुबह ही जब बहु मूंह फुलाकर सिर दर्द का बहाना बना कर या किसी भी अन्य कारण से रसोई घर से दूर-दूर रहे, बच्चों को अकारण ही मारे-पीटे, उन पर चिलाएं या जोर जोर बर्तन की आवाज करें देर तक बिना नहाय या बाल बिखरे रहे तो समझ लीजिए कि परिवार में शीतयुद्ध का वातावरण निर्मित हो रहा है। इस शीत युद्ध को आप सीरियस न लेकर उसे अपने स्तर पर सुलझाने की कोशिश करें न की उसे और बढ़ाने की कोशिश लगे। यदि आप सास हो तो बहु बेटे को अकेले होने या घूमने का अवसर दें। यदि बहु प्रतिभावन है तो उसकी प्रशंसा करें उसकी व्यावाहरिक सोच की प्रशंसा करें। क्योंकि बहु होती है जिसका रिश्ता बाकी रिश्तों से नाजुक होता है। बहु को कोई छोटी मोटी सजा न दें क्योंकि बहु को दी हूई सजा आपके बेटे द्वारा आपको ही मिलेगी। कहने का तात्पर्य बस इतना है कि बहु की गलती की सजा उसके साथ-साथ आप और अन्य लोगों को भी बांटना चाहिए। जिससे बहु अपराधभाव से ग्रसत न हो।


परिवार के विवाद के निपटारे के लिए आपका निष्पक्ष होना जरूरी है। परिवार में अपने संबंध सभी से मधुर बनाएं। घर में परिवार के सभी सदस्य बहू का मान-सम्मान करें। जिससे परिवार का विवाद संवाद में परिवर्तित हो।

दाम्पत्य जीवन में पारिवारिक विवाद - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: बजरंग बाण का क्या महत्व है?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 फरवरी 2019
नींद में कुछ लोग बड़बड़ाने लगते हैं जिससे ना सिर्फ उनकी नींद टूट जाती है बल्कि कमरे में मौजूद दूसरे लोग भी परेशान हो जाते हैं। नींद में बड़बड़ाना कोई बीमारी नही है लेकिन ये इससे पता चलता है कि आपकी सेहत कुछ गड़बड़ है।क्‍यों बड़बड़ाते हैं नींद में लोग?नींद में बोलने को बड़बड़ा कहते हैं क्योंकि जब आप
09 फरवरी 2019
09 फरवरी 2019
जैसे छींकने पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है। छींकते समय जैसे आंखे बंद हो जाती है वैसे ही महिलाएं भी चरमसुख के समय चाह कर भी आंखे नहीं खोल पातीं। दरअसल इस वक्त उनकी ग्लैंड से तरल स्त्रावित होता है जो दिमाग को आंखें बंद करने के लिए संदेश भेजता है।लवमेकिंग, दो विपर‍ित लिंग के बीच न सिर्फ एक इंटीमेसी बल्क
09 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
'तुमको तो कोई चिंता ही नहीं है बस अपने चार पंचों को लेके बैठ जाते हो गपशप करने, थोड़ा घर की तरफ भी देख लिया करो, घर में जवान बेटी बैठी हुई है, लोग बातें करने लगे हैं तरह-तरह की। मगर..तुम... तुमको क्या....' नंदिनी की मां ने मुंशी जी के घर आते ही उन पर लगभग रोज की तरह बरसना शुरू कर दिया। करती भी क्या ब
21 फरवरी 2019
08 फरवरी 2019
जिस प्रकार पौधा लगाने से पहले बीज आरोपित किया जाता है उसी प्रकार के युवा लड़के-लड़कियों के मन में दाम्पत्य जीवन के संबंधों के भावों को पैदा करने के लिए विवाह पूर्व ही अनेक संस्कार आरोपित किए जाते हैं। यद्यपि वे सारे के सारे विवाह के ही अंग माने जाते हैं। जैसे-हल्दी चढ़ाना, तैल चढ़ाना, कन्या पूजन, गाना ब
08 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
प्
प्रार्थना जितनी सरल होती शायद ही कुछ इतना सरल हो, मैं यहाँ पर उतने ही कम शब्दों में और इसके बारे में कहना चाहूँ की प्रार्थना जितनी निःशब्द रहे उतनी सरल और तेज प्रभाव वाली होती है। शब्दों में कमी रह सकती है मगर निःशब्द प्रार्थना बहुत कुछ कहती है।वैसे प्रार्थना निवेदन करके ऊर्जा प्राप्त करने की शक्ति
06 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
दा
आप चाहे गांव या कस्बे के मध्यवर्गीय परिवार के पढ़े-लिखे व्यक्ति हों अथवा महानगर के किसी संपन्न कुलीन परिवार के सदस्य हों या फिर सामान्य आर्थिक स्तर के कोई अधिकारी अथवा व्यापारी, इस सत्य को मन-ही-मन स्वीकार कर लें कि दाम्पत्य जीवन की सफलता का सीध संबंध पति-पत्नि के आपसी रिश्तों से होता है। पति-पत्नि म
10 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
आप चाहे गांव या कस्बे के मध्यवर्गीय परिवार के पढ़े-लिखे व्यक्ति हों अथवा महानगर के किसी संपन्न कुलीन परिवार के सदस्य हों या फिर सामान्य आर्थिक स्तर के कोई अधिकारी अथवा व्यापारी, इस सत्य को मन-ही-मन स्वीकार कर लें कि दाम्पत्य जीवन की सफलत
10 फरवरी 2019
16 फरवरी 2019
सुशीला जो की एक मध्यम परिवार की महिला हैं॰॰॰॰॰ उसका पति मोहन गावों के बाहर एक मील में सुबह 10 बजे से रात को 11 बजे तक की नौकरी करता हैं. सुशीला और मोहन के अलावा घर में बापूजी भी साथ रहते हैं. तीनो में आपस में बड़ा लगाव और प्रेम है. ये छोटा सा परिवार बड़ी ख़ुशी से अपनी ज़िंदगी जीता है. बापूजी भी आपने आप
16 फरवरी 2019
05 फरवरी 2019
तुलसी दास कहते हैं- 'भाव-अभाव, अनख-आलसहुं, नाम जपत मंगल दिषी होहुं।' भाव से, अभाव से, बेमन से या आलस से, और तो और, यदि भूल से भी भगवान के नाम का स्मरण कर लो तो दसों दिशाओं में मंगल होता है। भगवान स्वयं कहते हैं, भाव का भूखा हूं मैं, और भाव ही इक सार है, भाव बिन सर्वस्व भी दें तो मुझे स्वीकार नहीं! ऐ
05 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x