पुलवामा के अमर शहीदों को शत शत नमन

15 फरवरी 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (37 बार पढ़ा जा चुका है)

पुलवामा के अमर शहीदों को शत शत नमन  - शब्द (shabd.in)

आज चाहूँ देखना

पुलवामा की घटना वास्तव में मन को क्षुब्ध करती है… सच में बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ है ये... और हमारे ये शहीद किसी प्रत्यक्ष युद्ध की भेंट नहीं चढ़े हैं, आतंकवादियों ने बड़े कायरतापूर्ण तरीक़े से इन पर हमला किया है... हमारे इन वीर शहीदों को वास्तव में गर्व के साथ शत शत नमन... ये सिर्फ अपने परिवार के ही valentine नहीं थे, पूरे देश के valentine हैं... valentine day पर हमारे इन वीर अमर valentines को याद रखना हर देशवासी का पहला कर्त्तव्य है... समूचा देश अगर शान्ति की नींद सो पाता है और आज़ादी के साथ अपने काम कर पाता है तो इन्हीं और इन जैसे अनेकों वीरों के कारण... धन्य हैं इनके परिवारजन जो सब कुछ जानते हुए भी देश की सेवा के लिए इन्हें समर्पित कर देते हैं और ये हँसते हँसते इन ख़तरनाक रास्तों पर चल पड़ते हैं... हम सभी इनके परिवारजनों के साथ मन से उपस्थित हैं... और मन से बस यही बात निकलती है कि अब बहुत हो चुका, अब तो इन आतंकी भस्मासुरों का अन्त होना ही चाहिए…

आज चाहूँ देखना वह नृत्य हे कमला पति

था किया संहार भस्मासुर का जिससे जगपति ||

घोर तप करके रिझाया शिव को था उस दुष्ट ने

और था पाया महावरदान तब उस दुष्ट ने |

हाथ रख देगा वो जिसके सर पे, हो जाएगा भस्म

तब चला मदमस्त हो करने वो शिव का ही विध्वंस ||

आए तब शंकर तुम्हारी शरण, व्याकुल हो बहुत

मोहिनी का रूप तुमने धर लिया तब जगपति ||

नृत्य वह भगवन तुम्हारा ताल लय परिपूर्ण था

पर छिपा उसमें महासंहार भस्मासुर का था |

नाचता था साथ वो मुद्राओं में मुद्रा मिला

और यों ही नाचते निज हस्त अपने सर धरा ||

हो गया वह भस्म, शिव का हो गया कल्याण तब

आज फिर वैसा ही अवसर आ गया हे जगपति ||

आज घेरा विश्व को है अनगिनत भस्मासुरों ने

नग्न नर्तन आज कर डाला प्रलय का आसुरों ने |

जो मिला विज्ञान बन वरदान प्रकृति से उन्हें

हैं बनाए शस्त्र विध्वंसक प्रकृति के ही लिए ||

आज अनगिन मोहिनी के रूप धरने हैं तुम्हें

कर सको संहार इन असुरों का जिनसे जगपति ||

अगला लेख: बुध का कुम्भ में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 फरवरी 2019
नक्षत्रों के तारकसमूह, देवता, स्वामी ग्रह, संज्ञा तथा विभिन्न राशियों में उनकाप्रस्तार नक्षत्रोंका विश्लेषण करते हुए अभी तक हमने सभी 27 नक्षत्रों के आरम्भिक रूप और गुण पर बातकी | इस विषय पर बात की कि सभी बारह हिन्दी महीनों में 27 नक्षत्रों का विभाजन किसप्रकार हुआ तथा हिन्दी महीनों के वैदिक ना
02 फरवरी 2019
23 फरवरी 2019
शुक्र का मकर राशि में गोचर कल फाल्गुनकृष्ण षष्ठी को वणिज करण और ध्रुव योग में रात्रि 22:46 के लगभग समस्त सांसारिक सुख,समृद्धि, विवाह, परिवारसुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र धनु राशि से निकल कर अपने परममित्र ग्रह शनि की मकरराशि में प
23 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
25 फरवरी से 3 मार्च 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोच
24 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
नज़रें चुरा ली आपने देख कर ना जाने क्योंमन में हम बसते हैं तेरे बात अब ये माने क्यों जानते थे जब ज़माना ख़ुदगर्ज होता है बहुत चल पड़े तेरी मुहब्बत फिर यहाँ हम पाने क्यों कुछ हश्र देखा है बुरा चाहत का इतना दोस्तोंसोचते हैं ये ह
13 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
बस तड़प तड़प में ही ये ज़िंदगी गुज़र गईदेने का वादा करा किस्मत मगर मुकर गईएक नशे में रह रहा था मैं तो पाल के स्वप्न असलियत से पर मेरी सारी चढ़ी उतर गईकोशिशें कितनी करीं हार तो ना बन सकामोतियों की माल हरदम टूट के बिखर गईज़िन्दगी की शाम में अब उम्मीदें क्या करेंकलियाँ खिलाती जो यहाँ दूर वो सहर
04 फरवरी 2019
12 फरवरी 2019
सूर्य का कुम्भ राशि में संक्रमणबुधवार 13 फरवरी माघशुक्ल अष्टमी को प्रातः आठ बजकर 49 मिनट के लगभग बव करण और ब्रह्म योग में सूर्यदेवमकर राशि में अपना भ्रमण पूर्ण करके कुम्भ राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | जहाँ वेशुक्रवार 15 मार्च को प्रातः 5:40 तक विचरण करने के बाद मीन राशि में प्रस्थान करजाएँगे | अपनी
12 फरवरी 2019
01 फरवरी 2019
नक्षत्रों के आधार पर हिन्दी महीनों का विभाजन और उनके वैदिक नाम:- ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त कियेजाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थतथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम पहले बहुत कुछलिख चुके हैं | अब ह
01 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
अब तुझको मेरे साथ की कोई ना आस हैतेरा काम तो निकल गया शक्ति भी पास हैतेरे आँसुओं के फेर में मैं फिर से लुट गया इक ये अदा तो हुस्न की सदियों से खास है उल्फ़त की राह में मिला मुझको फ़कत फरेबइसकी डगर न जाने क्यों आती ना रास हैमुझको सफ़र में ना
04 फरवरी 2019
11 फरवरी 2019
तुम्हारी प्रीत के बिन तो बड़ा मुश्किल ये जीना हैमुझे तो ज़िन्दगी का जाम नज़र से तेरी पीना हैना मेरे मर्ज को समझा ना मेरे दर्द को समझाबड़ी बेरहमी से तुमको उन्होंने मुझसे छीना हैदिन भी लम्बे हुए हैं कुछ और तू पास ना आए मेरे किस काम का खिलता बसन्ती ये महीना हैमेरी उजड़ी सी दुनिया देख वो ही मुस्कुराएगापतंग
11 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x