कब्ज की समस्या से निजात दिलाते हैं यह आसान योगासन

16 फरवरी 2019   |  मिताली जैन   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

कब्ज की समस्या से निजात दिलाते हैं यह आसान योगासन - शब्द (shabd.in)

बदलती जीवनशैली में व्यक्ति की जिस तरह की खान-पान की आदतों में बदलाव आया है, उसके कारण पाचनतंत्र कमजोर होता जा रहा है। आज के समय में अधिकतर लोग किसी न किसी पेट की समस्या से जूझ रहे हैं। इन्हीं में से एक है कब्ज। खराब व अनहेल्दी भोजन, व्यस्त जीवनशैली और तनाव के चलते कब्ज की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में जरूरी नहीं है कि दवाईयों का ही सेवन किया जाए। योगासन भी कब्ज की समस्या को दूर करने में सहायक है। योगासन डाइजेस्टिव सिस्टम को तो बेहतर बनाता है ही, साथ ही तनाव को भी कम करता है। ऐसे में कब्ज से निजात पाना आसान हो जाता है। तो चलिए जानते हैं कब्ज को दूर करने में प्रभावी कुछ योगासनों के बारे में-


उत्तानपादासन


यह आसन कब्ज के लिए प्रभावी माना गया है क्योंकि इसके अभ्यास के दौरान पेट के निचले हिस्से से लेकर नाभि तक खिंचाव का अहसास होता है। ऐसे में यह पेट की समस्याओं को दूर करने में बेहद प्रभावी होता है। इस आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और गहरी सांस लें। अब दोनों पैरों को मिलाएं और 40-60 डिग्री पर एकदम सीधा उठाएं। कुछ क्षण इस अवस्था में रूकें। ध्यान रहे कि ये करते समय आपकी मुद्रा सीधी होनी चाहिए। दोनों पैरों को ऊपर उठाते हुए सांस लें, जब पैरों को नीचे लाएं तो सांस बाहर होनी चाहिए।


पश्चिमोतानासन


पश्चिमोतानासन के जरिए भी कब्ज की समस्या को दूर किया जा सकता है। इसके अभ्यास के लिए सर्वप्रथम जमीन पर चैकड़ी लगाकर बैठें और सांस लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर की ओर ले जाएं। अब सांस छोड़ते हुए कमर से पैरों की ओर झुकें, हाथों से तलवों को पकडें। ऐड़ियों को आगे बढ़ाएं और शरीर के ऊपरी भाग को पीछे की ओर ले जाने की कोशिश करते हुए आगे की ओर झुकें। इस क्षण इस अवस्था में बने रहें। उसके बाद पहले की अवस्था में आ जाएं।


मयूरासन


मयूरासन पाचनतंत्र को बेहतर तरीके से काम करने के लिए प्रेरित करता है। यह न सिर्फ कब्ज बल्कि पेट की अन्य समस्याओं जैसे गैस, पेट में दर्द आदि से भी राहत मिलती है। इस आसन के अभ्यास के लिए सबसे पहले आप घुटनों के बल बैठ जाएं और आगे की ओर झुके। आगे झुकते हुए दोनों हाथों की कोहनियों को मोड़कर नाभि पर लगाकर जमीन पर सटा लें। इसके बाद अपना संतुलन बनाते हुए घुटनों को धीरे-धीरे सीधा करने की कोशिश करें। अब आपका शरीर पूरी सीध में है और सिर्फ आपके हाथ जमीन से सटे हुए हैं। इस आसन को करने के लिए शरीर का संतुलन बनाए रखना जरूरी है। इसलिए इसका प्रतिदिन अभ्यास करें और किसी विशेषज्ञ की देखरेख में ही करें।


हलासन


इस आसन के अभ्यास के दौरान व्यइस आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल ले जाएं। दोनों पैर पूरी तरह सीधे और एक दूसरे से सटे हुए होने चाहिए। अब एक गहरी सांस लेते हुए दोनों पैरों को एक साथ ऊपर लेकर आएं। शरीर के ऊपरी हिस्से से पहले 30 डिग्री, फिर 60, अब दोनों हाथों को कमर पर टिकाते हुए पैरों को 90 डिग्री पर लाएं। अब धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए पैरों को कमर से आगे चेहरे की तरफ लेकर जाएं। ध्यान रखें कि घुटने से पांव मुड़ने नहीं चाहिए। धीरे-धीरे पीछे जाते हुए पैरों को जमीन पर टिकाएं। अपनी दृष्टि नाभि या नाक पर केंद्रित रखें। कुछ क्षण इस अवस्था में रूकें। अब धीरे-धीरे श्वास लेते हुए पैरों को ऊपर उठाते हुए पूर्व रूप में आ जाएं।


मकरासन


मकरासन पेट और कमर के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। जहां एक ओर इसके अभ्यास से पाचनतंत्र संबंधी परेशानियों से निजात मिलती हैं, वहीं दूसरी ओर यह कमरदर्द को भी दूर करने में सहायक है। इस आसन के अभ्यास के लिए सबसे पहले जमीन पर पेट के बल लेट जाइए। अब दोनों हाथों की कोहनियों को मिलाते हुए हाथ मोड़िए और गाल को हथेलियों के बीच टिका लीजिए। इसके बाद दोनों पैरों को मिलाकर सांस को अंदर कीजिए, उसके बाद सांस को बाहर करते हुए दोनों कोहनियों को अंदर की तरफ खींचिए। अब धीरे-धीरे अपने पैरों, हाथों और शरीर के ऊपरी हिस्से को इस तरह ऊपर उठाएं कि आपके शरीर का सारा वजन पेट पर आ जाए। अब धीरे-धीरे पहले की पोजीशन में आ जाइए। सांस को आराम से लेते हुए पैरों को बारी-बारी घुटने से मोड़िए और फिर पहले की पोजीशन में ले जाइए। कोशिश कीजिए कि आपके पैरों की एड़ी नितंबों को छुए। इसी अवस्था में गर्दन को घुमाकर दोनों पैरों की एड़ियों को देखने का प्रयास कीजिए।


पवनमुक्तासन


इस आसन का नाम भी अपनी खूबियों के बारे में बताता है। जब व्यक्ति इस आसन का अभ्यास करता है तो उसके पेट की गैस बाहर निकलती है। साथ ही पेट के सभी अंगों पर दबाव पड़ता है, जिससे कब्ज से भी राहत मिलती है। इस आसन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले शवासन में लेट जाएं। इसके बाद दोनों घुटने को मोड़कर तलवे को जमीन पर टिकाएं। अब दोनों हाथों से घुटने को ऊपर से पकड़ें और सांस लेते हुए पैर के घुटनों को सीने से लगाएं और 10-20 सेकेंड तक सांस रोक कर रखें। इसके बाद घुटने को दोनों हाथों से मुक्त करें फिर सांस छोड़ते हुए पैरों को सीधा करके सामान्य स्थिति में लौट आएं। आप चाहें तो इस आसन को एक-एक पैर से भी अभ्यास कर सकते हैं।

अगला लेख: सुबह जल्दी उठने की आदत बदल देगी आपकी पूरी जिन्दगी, जानिए कैसे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 फरवरी 2019
पोषक तत्वों से युक्त पालक को किसी न किसी रूप में डाइट में शामिल करने की सलाह दी जाती है। वैसे तो पालक को सब्जी या परांठों के रूप में भी खाया जाता है लेकिन आप चाहें तो इसे बतौर जूस भी ले सकते हैं। पालक का जूस लेने से इसके पोषक तत्व यूं ही बरकरार रहते हैं। तो चलिए जानते हैं पालक के जूस से होने वाले फा
05 फरवरी 2019
22 फरवरी 2019
पुराने समय में जब लोग फिजिकल एक्टिविटी काफी अधिक करते थे, तो उन्हें खुद को तंदरूस्त रखने के लिए अलग से समय निकालने या एक्सरसाइज करने की जरूरत नहीं पड़ती थी। लेकिन आज के समय में जब अधिकतर काम उंगलियों पर ही होने लगा है तो अपनी फिटनेस को बरकरार रखने के लिए व्यायाम करना जरूरी हो गया है। इस लिहाज से रनिं
22 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
बेबी ऑयल का नाम सुनते ही दिमाग में एक कोमल शिशु की छवि उभरकर सामने आ जाती है। चूंकि बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक होती है, इसलिए उनका ख्याल रखने के लिए अलग से मिलने वाले बेबी प्राॅडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेबी ऑयल भी ऐसा ही एक बेबी प्राॅडक्ट है जो शिशु
15 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
अगर भोजन के साथ प्याज न हो, तो खाने में मजा ही नहीं आता। लोग सिर्फ सब्जी बनाते समय ही प्याज का इस्तेमाल नहीं करते, बल्कि सलाद के रूप में इसे कच्चा भी खाया जाता है। वैसे यह अलग बात है कि लोग इसे काटना कम पसंद करते हैं क्योंकि इसे काटते समय आंखों से आंसू आते हैं। लेकिन क्या आप इस बात से वाकिफ हैं कि प
13 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
Sugar me kya khana chahiye: शुगर एक ऐसी बीमारी है जो या तो अनुवांशिक होती है यह फिर आपके लाइफ स्टाइल के कारण अर्थात आज कल के आरामतलब जीवनशैली ने मनुष्य को शारीरिक तौर पर बहुत हद तक निष्क्रिय कर दिया है और वर्तमान खाने पिने के तरीकों से मनुष्य में मोटापा आम तौर पर देखा जा सकता है और यही सबसे बड़ा कारण
18 फरवरी 2019
03 फरवरी 2019
ठंड के मौसम में पुदीना मार्केट में बेहद सस्ता व आसानी से उपलब्ध होने वाली चीज है। कई तरह के पेय पदार्थों से लेकर भोजन में इसे प्रयोग करने की सलाह दी जाती है। इसका इस्तेमाल करने से जहां एक ओर खाने का स्वाद बढ़ता है, वहीं दूसरी ओर इससे कई
03 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
पपीते का एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है। स्वाद से भरपूर यह फल सेहत के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। यूं तो लोग पपीते का सेवन करते हैं लेकिन इसके पत्तों को बेकार समझकर फेंक देते हैं। शायद आपको पता न हो लेकिन पपीते के पत्ते भी उतने ही गुणकारी है। इतना ही नहीं, यह कई बड़ी बीमारियों
19 फरवरी 2019
11 फरवरी 2019
पिछले कुछ समय से योग के महत्व को पूरी दुनिया ने समझा है और यही कारण है कि कई तरह की शारीरिक व मानसिक समस्याओं से राहत पाने के लिए अब लोग योग का सहारा लेने लगे हैं। योग में ऐसे कई आसनों के बारे में बताया गया है जो पूरे स्वास्थ्य का बखूबी ख्याल रखते हैं। इन्हीं में से एक है भुजंगासन। इस आसन के अभ्यास
11 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
‘संडे हो या मंडे, रोज खाओ अंडे‘ आपने यह स्लोगन अपनी जिन्दगी में कभी न कभी अवश्य सुना होगा। लेकिन आज भी बहुत से लोग अंडे से दूरी बनाते हैं। अंडा सिर्फ प्रोटीन का ही बेहतरीन स्त्रोत नहीं है, बल्कि इसमें अन्य भी कई तरह के पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, ओमेगा 3 फैटी एसिड पाए जाते हैं। इन्हीं पोषक तत्वों के का
18 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
‘संडे हो या मंडे, रोज खाओ अंडे‘ आपने यह स्लोगन अपनी जिन्दगी में कभी न कभी अवश्य सुना होगा। लेकिन आज भी बहुत से लोग अंडे से दूरी बनाते हैं। अंडा सिर्फ प्रोटीन का ही बेहतरीन स्त्रोत नहीं है, बल्कि इसमें अन्य भी कई तरह के पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, ओमेगा 3 फैटी एसिड पाए जाते हैं। इन्हीं पोषक तत्वों के का
18 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
बचपन में बच्चे ऐसे कई चीजें करते हैं, जो बड़े होते-होते कहीं पीछे छूट जाती हैं। फिर चाहे बात खेलने कूदने की हो या मस्तमौला स्वभाव की। वक्त बीतने के साथ यह सभी आदतें व्यक्ति के स्वभाव में नजर नहीं आतीं। लेकिन बचपन की ऐसी बहुत सी आदतें होती हैं, जो बड़े होने पर भी यदि बरकरार रखी जाए तो इससे कई तरह के ला
04 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
पपीते का एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है। स्वाद से भरपूर यह फल सेहत के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। यूं तो लोग पपीते का सेवन करते हैं लेकिन इसके पत्तों को बेकार समझकर फेंक देते हैं। शायद आपको पता न हो लेकिन पपीते के पत्ते भी उतने ही गुणकारी है। इतना ही नहीं, यह कई बड़ी बीमारियों
19 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
बेबी ऑयल का नाम सुनते ही दिमाग में एक कोमल शिशु की छवि उभरकर सामने आ जाती है। चूंकि बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक होती है, इसलिए उनका ख्याल रखने के लिए अलग से मिलने वाले बेबी प्राॅडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेबी ऑयल भी ऐसा ही एक बेबी प्राॅडक्ट है जो शिशु
15 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x