क्या आप जानते हैं नीम त्वचा रोग व चेचक में कमाल के फायदे करती है

18 फरवरी 2019   |  सतीश कालरा   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

नीम, त्वचा चेचक एवं कुष्ट रोग निवारक औषधी है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थवर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जाता है। नीम स्वास्थवर्धक तथा बीमारियो को दूर करने वाला पौधा है । वर्षा ऋतु मे नीम के कोमल पत्तो का विशेष महत्व इससे त्वचा रोग, चेचक, एवं कुष्ट रोग संबंधित बीमारिया नही होती है ।

neem ka ped

नीम की लाल रंग की कोमल पत्ती 7 नग,कालीमिर्च 7 नग आपस मे कूट ले ओर एक महीने तक नियम पूर्वक इस तरह नीम खाने से एक साल तक चेचक नही निकलती। चेचक के दानो की जलन शांत करने के लिए नीम के 5-10 बीज की गिरी पानी मैं घिस का लेप करते है

यह भी जाने: Aloe vera ke gun, fayde tatha upyog


नीम की लाल रंग की कोमल पत्ती 7 नग,कालीमिर्च 7 नग आपस मे कूट ले ओर एक महीने तक नियम पूर्वक इस तरह नीम खाने से एक साल तक चेचक नही निकलती। चेचक के दानो की जलन शांत करने के लिए नीम के 5-10 बीज की गिरी पानी मैं घिस का लेप करते है

अगला लेख: यह चीजे खायेगें तो उतर जाएगा आंखो का चश्मा, जाने कैसे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 फरवरी 2019
हाई ब्लड प्रेशर पूरे संसार में महत्वपूर्ण मुद्दा है । संसार में अरबों लोग उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, साल दर साल ब्लड प्रेशर के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है । एक के अध्ययन के अनुसार भारत में इनकी संख्या 11 करोड़ से ऊपर है । जो लोग अधिक मात्रा में सिगरेट शराब और नमक का सेवन करते हैं उन्हें उच्च र
21 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
सामान्यता गिलोय का क्वाथ बुखार एवं अनेक रोगों मे किया जाता है। गिलोय को अमृता, अर्थात कभी ना सूखने वाली बेल कहते है । अंग्रेजी मे इसे tinospora कहते है। गिलोय को अलग अलग भाषा मे गडूची, अमृवल्ली, गूलवेल, मधुपर्णी, कुन्डलिनी आदि नमो से जाना जाता है। गिलोय की बेल जिस पेड़ पर चढ़ती है उस पेड़ के गुण अपन
19 फरवरी 2019
04 मार्च 2019
Third party image referenceआजकल हर व्यक्ति आंखो की रोशनी को लेकर चिंतित है । आवश्यकता से अधिक दिमाग की मेहनत, तेज रोशनी वाली वस्तुओं को ज्यादा निकट से देखना, जरूरत से अधिक मोबाइल का प्रयोग और मस्तिष्क व स्नायु की कमजोरी से भी आंखों की रोशनी जल्दी कम हो जाती है । लेकिन प्रकृति में अपने आप से बहुत सी
04 मार्च 2019
24 फरवरी 2019
तुलसी के बारे में आप जानते है । यह बुखार सर्दी, जुकाम, खाँसी मे प्रयोग की जाती है । तुलसी सर्वरोग निवारक, जीवनीय शक्तिवर्धक होती है । इसे वृंदा, वैष्णवी, विष्णु बल्लभा, श्री कृष्ण बल्लभा आदि नामो से जाना जाता है । इस औषधि की देवी की तरह पूजा की जाती है । ये सब जगह पाय
24 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को हटाने के लिए हमारे शरीर में एक जन्म जात अंग है लीवर । हमारे शरीर की सफाई व स्वतस्थ बनाए रखने के लिए किसी भी बाहरी चीज की आवश्यकता नहीं होती है । लीवर चाहे शरीर के अंदर ही होता है, पर उसके खराब होने का असर शरीर के सभी हिस्सों पर पड़ता है इस लिए लीवर का ख़ास
25 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
20 फरवरी 2019
कसौटी ज़िन्दगी की में हाई वोल्टेज ड्रामाअधिक जानकारी के लिए: https://hindi.iwmbuzz.com/television/spoiler/komolikas-financial-favour-to-break-anurag-prernas-relationship-in-kasautii-zindagii-kay/2019/02/19
20 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
आँमला उच्चकोटी का रसायन है। इसके बहुत से फायदे हैं, आँवले का उपयोग बुढ़ापा दूर रखने व जवानी बनाए रखने मे सहायक है । यह रक्त से विषैले व हानिकारक पदार्थो को निकालने मे सक्षम है । आंवलो के मौसम मे रोज सुबह व्यायाम या भ्रमण के पश्चात दो पके हुए पुष्ट आँवलों को चाबा कर खाये। अगर कछ आँवला ना खा सके तो आँ
21 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x