सर्दियों में ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के उपाय व सावधानियां

21 फरवरी 2019   |  सतीश कालरा   (16 बार पढ़ा जा चुका है)

हाई ब्लड प्रेशर पूरे संसार में महत्वपूर्ण मुद्दा है । संसार में अरबों लोग उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, साल दर साल ब्लड प्रेशर के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है । एक के अध्ययन के अनुसार भारत में इनकी संख्या 11 करोड़ से ऊपर है । जो लोग अधिक मात्रा में सिगरेट शराब और नमक का सेवन करते हैं उन्हें उच्च रक्त चाप की संभावना रहती है । सर्दियों में शरीर में kaitokolamin का रिसाव बड जाता है, जिससे blood pressure बढ़ता है । ब्लड प्रेशर बढ़ने से हार्ट अटैक व ब्रेन हैमरेज का खतरा बड जाता है ।

Blood pressure measurement


उच्च रक्तचाप के लक्षण

कुछ मरीजों में इसके लक्षण पाए जाते हैं, कुछ मरीजों में इसके लक्षण दिखाई नहीं देते है । जांच करने के बाद ही ब्लड प्रेशर का पता चलता है । कुछ लोगों में ब्लड प्रेशर के कारण दिल का घबराना, सिर दर्द होना, चक्कर आना, उल्टी होना व सीने में दर्द होना आदि लक्षण होते है । डाक्टर के अनुसार ब्लड pressure ka सबसे ख़तरनाक समय रात 1 बजे से सुबह 10 बजे तक का होता है । इसी समय पर हार्ट अटैक व ब्रेन हैमरेज का खतरा रहता है ।

यह भी जाने : आँवले का उपयोग बुढ़ापा दूर रखने व जवानी बनाए रखने में सहायक, use of aonla in hindi

Blood pressure machine


उच्च रक्त चाप का नियंत्रण व उपाय

उच्च रक्त चाप को नियंत्रित करने के लिए मानसिक तनाव कम लें । नमक का सेवन कम से कम करना चाहिए, इसकी मात्रा दिन भर में 6 ग्राम से अधिक नहीं होना चाहिए, सिगरेट शराब तम्बाकू का सेवन जहा तक हो सके कम करें, इसके अलावा आचार, तले पदार्थ, आचार पापड़, मसालेदार व चटपटी चीजों का सेवन न करें । नियमित रूप से हल्के व्यायाम व योग करें । नॉनवेज में मछली का सेवन फायदे मंद होता है

देसी नुस्खा

उच्च रक्त चाप में अर्जुन की छाल का चूर्ण बहुत ही फायदे मंद होता है । अर्जुन की छाल के चूर्ण का हलुआ बनाकर सेवन करने से उच्च रक्त चाप नियंत्रित रहता है तथा इससे दिल की बड़ी हुई धड़कन भी कम होती है ।

यह भी जाने :-नीम का उपयोग त्वचा रोग मे कैसे करें


अगला लेख: एक धार्मिक कहानी तुलसी कौन थी, और इसका विवाह किसके साथ हुआ था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 फरवरी 2019
भारत में चंदन को बहुत ही स्वच्छ व पवित्र माना जाता है, इसकी लकड़ी पीले रंग की और भारी होती है, जो वर्षों से अपनी खुशबू के लिए पहचानी जाती है । चन्दन के पेड़ बहत ही कीमती होते हैं और संसार में कीमत के मामले में यह दूसरे नंबर की महंगी लकड
19 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
नीम, त्वचा चेचक एवं कुष्ट रोग निवारक औषधी है । नीम के उपयोग से त्वचा की चेचक जैसी भयंकर बीमारिया नही होती तथा इससे रक्त शुद्ध होता है । नीम स्वास्थवर्धक एवं आरयोग्यता प्रदान करने वाला है। ये सभी प्रकार की व्याधियों को हरने वाला है, इसे मृत्यु लोक का कुल्पवृक्ष कहा जात
18 फरवरी 2019
04 मार्च 2019
Third party image referenceआजकल हर व्यक्ति आंखो की रोशनी को लेकर चिंतित है । आवश्यकता से अधिक दिमाग की मेहनत, तेज रोशनी वाली वस्तुओं को ज्यादा निकट से देखना, जरूरत से अधिक मोबाइल का प्रयोग और मस्तिष्क व स्नायु की कमजोरी से भी आंखों की रोशनी जल्दी कम हो जाती है । लेकिन प्रकृति में अपने आप से बहुत सी
04 मार्च 2019
24 फरवरी 2019
तुलसी के बारे में आप जानते है । यह बुखार सर्दी, जुकाम, खाँसी मे प्रयोग की जाती है । तुलसी सर्वरोग निवारक, जीवनीय शक्तिवर्धक होती है । इसे वृंदा, वैष्णवी, विष्णु बल्लभा, श्री कृष्ण बल्लभा आदि नामो से जाना जाता है । इस औषधि की देवी की तरह पूजा की जाती है । ये सब जगह पाय
24 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x