क्रोकोडाइल हंटर : गूगल ने डूडल बनाकर स्टीव इरविन को किया याद…

22 फरवरी 2019   |  इंजी. बैरवा   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

क्रोकोडाइल हंटर : गूगल ने डूडल बनाकर स्टीव इरविन को किया याद…

स्टीव इर्विन, इस नाम को सुनकर पहचानने में भले ही आपको कुछ वक्त लगे लेकिन तस्वीर देखते ही आप उन्हें पहचान गए होंगे क्रोकोडाइल हंटर के नाम से मशहूर इर्विन अब हमारे बीच नहीं लेकिन मगरमच्छों के साथ उनकी उठा-पटक और उनके द्वारा दी जाने वाली रोचक जानकारी हम सभी के जहन में कहीं न कहीं जिंदा हैगूगल ने स्टीव इरविन के जन्मदिन के मौके पर उनकी याद में डूडल बनाया स्टीव इरविन को 'क्रोकोडाइल हंटर' या 'क्रोकोडाइल डंडी' के नाम से भी जाना जाता था । स्टीव को मगरमच्छ पकड़ने का एक्सपर्ट माना जाता था, हालांकि वह साँप पकड़ने में भी माहिर थे गूगल ने अपने आज के डूडल में स्टीव इरविन को मगरमच्छ को अपनी बाहों में पकड़े हुए पेश किया है उनके कार्यक्रम डिस्कवरी, नेशनल जियोग्राफिक और एनिमल प्लैनेट जैसे चैनलों पर दिखाए जाते थे 4 सितम्बर, 2006 को स्टिंगरे नाम की एक ज़हरीली मछली के काटने से उनकी मौत हो गई थी

कभी-कभी टीवी चैनलों पर उनके वीडियो फुटेज भी देखने को मिल जाते हैं जीवों की जिस दुनिया ने उन्हें नाम और शोहरत दिलाई, वही उनकी मौत की वजह भी बन गया उनकी मौत का सच पहली बार सबके सामने आया है और इसे बताने वाला कोई और नहीं बल्कि साये की तरह उनके साथ रहने वाला उनके कैमरामैन है कहते हैं कि स्टीव मगरमच्छों को अपने किसी पातलू जानवर की तरह रखते थे इतना ही नहीं कई जानलेवा मछलियों के साथ भी वह ऐसा ही किया करते थे हालांकि इसके बाद भी एक शांत रहने वाली मछली ने उन्हें मार डाला

ऐसा क्यों हुआ ? इसके पीछे की वजह क्या थी ? इसके बारे में जानने के लिए हमें स्टीव की जिंदगी को अच्छे से जानना पड़ेगा तो चलिए जानते हैं मगरमच्छ के दोस्त कहे जाने वाले स्टीव इरविन के बारे में

इंसानों से ज्यादा जंगली जीवों संग बीता बचपन : स्टीव के अंदर जंगली जीवन को जानने की चाह यूँ ही नहीं आई थी बचपन से ही वह जानवरों के बीच पले बढ़े थे 22 फरवरी 1962 को ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए स्टीव इरविन के पिता वहीं एक वाइल्डलाइफ पार्क चलाया करते थे पिता की तरह ही स्टीव भी जानवरों के प्रति दीवाने थे वह हर समय उनके साथ ही नजर आया करते थे स्टीव को इस बात से फर्क नहीं पड़ता था कि जिस जानवर के साथ वह बेझिझक खेल रहे हैं वही उनकी जान भी ले सकता है उनके लिए तो जानवर किसी दोस्त से कम नहीं थे कहते हैं कि अपने दोस्तों से ज्यादा समय तो स्टीव ने पिता के वाइल्डलाइफ पार्क के जानवरों के साथ बिताया था

स्टीव ने कभी भी जानवरों का विशेषज्ञ बनने के लिए कोई पढ़ाई नहीं की उन्होंने अपने आप को खुद एक विशेषज्ञ बनाया है उन्होंने जानवरों के साथ इतना वक़्त बिताया कि वह उनकी रग रग से वाखिफ हो गए माना जाता है कि सभी जानवरों में मगरमच्छ उनके सबसे पसंदीदा थे अपने पिता से ही उन्होंने मगरमच्छ पकड़ना और उन्हें संभालना सीखा इसके बाद तो उनका वह सफ़र शुरू हुआ जिसने उन्हें विश्व प्रसिद्ध बना दिया

हनीमून पत्नी के नहीं, मगरमच्छ के साथ मनाया : एक बार जैसे ही स्टीव बड़े हुए, तो उनके पिता ने अपना वाइल्डलाइफ पार्क स्टीव के नाम कर दिया उन्हें पूरा यकीन था कि स्टीव इस बिजनेस को पहले से भी बड़ा बना देंगे हुआ भी कुछ ऐसा ही स्टीव के हाथ में जैसे ही पिता का वाइल्डलाइफ पार्क आया उन्होंने उसे पहले से भी ज्यादा प्रसिद्ध कर दिया इसके पीछे की वजह थी उनकी मगरमच्छों के बारे में जानकारी माना जाता है कि उस समय स्टीव से बढ़िया शायद ही कोई मगरमच्छ को समझ सकता था

वाइल्डलाइफ पार्क के साथ स्टीव ने ऑस्ट्रेलिया में दूर दूर जाकर उन मगरमच्छों को पकड़ना शुरू किया, जो लोगों को परेशान करते थे अपने इस काम के लिए स्टीव इतने दुर्लभ इलाकों तक गए जहाँ लोग जाने से भी कतराते थे उनके इस काम ने उन्हें खूब प्रसिद्ध कर दिया था उन्होंने मगरमच्छ पकड़ने के कई नए तरीके ईजाद किए जिन्हें आज भी लोग इस्तेमाल करते हैं

कहते हैं कि स्टीव मगरमच्छ के लिए इतने दीवाने थे कि उन्होंने अपना हनीमून भी उन्ही के साथ बिताया दरअसल स्टीव अपनी पत्नी के साथ हनीमून पर थे वहां दोनों ने सोचा क्यों न स्टीव और उनके मगरमच्छ प्रेम की एक डॉक्यूमेंट्री बनाई जाए उन्होंने आगे ऐसा ही किया वह डॉक्यूमेंट्री में स्टीव मगरमच्छ के साथ ऐसे खेलते नजर आए जैसे कि वह कोई पतलू जानवर हो

एक बार जैसे ही वह डॉक्यूमेंट्री लोगों के सामने आई, तो हर कोई उसे देखकर हैरान हो गया वह इतनी ज्यादा प्रसिद्ध हो गई कि स्टीव को लोग क्रोकोडाइल हंटरके नाम से पुकारने लगे इसके बाद उन्हें तुरंत ही टीवी पर आकर अपने इस हुनर को दिखाने का मौका मिल गया उन्होंने दी क्रोकोडाइल हंटरनाम से ही अपना टीवी शो शुरू किया शो में वह लोगों को मगरमच्छ के बारे में बताते व उसे पकड़कर दिखाते शो इतना बड़ा हिट हुआ कि हर कोई स्टीव का फैन हो गया इसके बाद तो उन्होंने सफलता की नए ऊँचाईयाँ छूनी शुरू कर दी

पेशा ही बन गया उनकी मौत की वजह : यह बात है 2006 की स्टीव हमेशा की तरह अपने एडवेंचर की खोज में निकले हुए थे इस बार वह मगरमच्छ तो नहीं मगर मछलियों के साथ अपना समय बिता रहे थे वह ओसियन डेडलिएस्टनाम का अपना नया शो कर रहे थे इसमें वह खतरनाक मछलियों से साथ नजर आने वाले थे स्टीव और उनके कैमरामैन एक स्टिंगरे मछली के साथ शूट कर रहे थे

स्टिंगरे एक बहुत ही शांत मछली होती है मगर उसके साथ ही वह बहुत जानलेवा भी होती है वह अपनी पूँछ से वार करके किसी भी इंसान को मौत की नींद सुला सकती है हालांकि स्टीव ने कभी इन खतरों की परवाह नहीं की उन्होंने छिछले पानी में एक स्टिंगरे को पकड़ा और उसके साथ शूट शुरू किया

कुछ टेक लेने के बाद स्टीव ने एक फाइनल टेक लेना चाहा वह पानी में वापस गए और स्टिंगरे की पीठ पर जाकर बैठ गए स्टीव ऐसा पहले भी कर चुके थे कभी भी स्टिंगरे ने उनपर कोई हमला नहीं किया स्टिंगरे बहुत ही शांत मछली मानी जाती है हालांकि वह दिन कुछ और ही हुआ स्टीव के पीठ पर बैठते ही स्टिंगरे ने उनपर अपनी पैनी पूँछ से हमला करना शुरू कर दिया इससे पहले की स्टीव कुछ समझ पाते स्टिंगरे ने उनपर लगातार वार शुरू कर दिए स्टिंगरे के वार इतने घातक थे कि उन्होंने स्टीव के दिल और छाती दोनों को ही काफी गहरा नुक्सान पहुंचा दिया था

थोड़ी ही देर में स्टीव के शरीर से खून भी निकलना शुरू हो गया स्टीव का क्रू उन्हें बचाने आया मगर तब तक स्टीव की हालत बहुत ख़राब हो चुकी थी वह दर्द से कराह रहे थे राहतकर्मियों ने स्टीव को बचाने की खूब कोशिश की मगर वह कुछ भी नहीं कर पा रहे थे हर गुजरते पल के साथ स्टीव मौत के और भी करीब जाते जा रहे थे स्टीव के दोस्त उन्हें हौंसला दे रहे थे मगर असल में स्टीव के जाने का समय आ चुका था कहते हैं कि अपने आखिरी पलों में स्टीव ने अपने दोस्त की तरफ अपनी नजरें की और कहा मैं मर रहा हूँ’… इन आखिरी शब्दों के साथ ही स्टीव दुनिया से अलविदा कह गए

कोई सोच भी नहीं सकता था कि क्रोकोडाइल हंटरस्टीव एक छोटी सी स्टिंगरे के हाथों मारे जा सकते हैं स्टीव जलीय जीवों के एक्सपर्ट तो थे मगर वह उन्हें पूरी तरह नहीं जान पाए मगरमच्छ के साथ खेलने वाले स्टीव की मौत एक मछली के कारण हुई यह जानकार दुनियाभर में लोग हैरान हो गए साथ ही लोगों के पसंदीदा दी क्रोकोडाइल हंटरउनसे दूर चले गए स्टीव के साथ हुई यह घटना यह भी बताती है कि भले ही हम किसी जीव को कितना भी जान ले हम उसके बर्ताव को हर बार नहीं समझ सकते

कोई जीव कब शांत से खूंखार बन जाए कोई नहीं जानता शायद अगर यह स्टीव जान लेते, तो आज वह जिंदा होते


*****************

(Ref : https://www.amarujala.com/news-archives/bizarre-news-archives/death-of-steve-irwin?pageId=1&pageId=2&pageId=3

https://roar.media/hindi/main/around-the-world/steve-irwin-the-crocodile-hunter/)



google remembers 'crocodile hunter' steve irwin on his birthday with a doodle - क्रोकोडाइल हंटर: गूगल ने डूडल बनाकर स्टीव इरविन को किया याद, Watch tech Video | Navbharat Times

क्रोकोडाइल हंटर : गूगल ने डूडल बनाकर स्टीव इरविन को किया याद…

अगला लेख: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस ( 8 मार्च)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x