जाड़े के दिनों में होंठ फटने लगें तो करें यह उपाय

24 फरवरी 2019   |  सतीश कालरा   (31 बार पढ़ा जा चुका है)

होंठ बहुत ही संवेदनशील होते हैं, हर मौसम का इस पर प्रभाव पड़ता है । मौसम के प्रभाव से ही होंठ फटते हैं, जाड़े के दिनों में कुछ ज्यादा ही प्रभाव पड़ता है । हॉट फटने से हसने बोलने में परेशानी तो होती है, पर देखने में भी अच्छा नहीं लगता है । होंठो के फटने का कारण ठंडा मौसम, विटामिन ए तथा विटामिन बी की कमी, धूम्र पान, तीखे व मसालेदार भोजन आदि हैं । इसके प्रभाव से बचने के लिए होंठो कि देखभाल के साथ प्राकृतिक व आर्युवेदिक उपचार की जरूरत होती है ।

Third party image reference

रात के समय सोने से पहले हल्का सा मक्खन होंठो पर लगाने से होंठ मुलायम हो जाते है व फटने से बच जाते हैं । भोजन में विटामिन ए तथा बी से भरपूर भोज्य पदार्थ लेने चाहिए , जैसे मक्खन, दूध, पपीता, सोयाबीन, तथा दालों का उपयोग करना चाहिए ।

Third party image reference

सर्दी के दिनों में सुबह नहाने से पूर्व नाबी में 3 से 4 बूंद सरसों का तेल लगाकर थोड़ा मसल दें, इससे होंठ सही हो जायेगे । इसके अलावा शुद्ध देसी घी होठों पर लगाने से भी लाभ होता है ।

यह भी जाने : Giloy का उपयोग fiver एवं अनेक रोगों मे कैसे करें


Third party image reference

होंठों पर पपड़ी जम जाए तो सोते समय होठों पर बदाम का तेल लगाएं, इसके अलावा आधा चम्मच दूध की मलाई में हल्दी का चूर्ण चुटकी भर मिला कर भी लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़े: आक (मदार) के फायदे व 12 रोगों के उपचार।


होंठो पर कालापन हो जाए तो गुलाब के फूल की पंखुड़ी को पीस कर इसमें ग्लिसरीन मिला कर होठों पर लगाए, इस मिश्रण को कुछ दी प्रयोग करना है । इसके अलावा मक्खन में केसर मिलाकर भी लगाया जा सकता है , इससे होंठ चमक दर हो जायेगें ।

अगला लेख: सर्दी जुकाम खांसी को दूर करने के तुलसी के रामबाण नुस्खे



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2019
हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को हटाने के लिए हमारे शरीर में एक जन्म जात अंग है लीवर । हमारे शरीर की सफाई व स्वतस्थ बनाए रखने के लिए किसी भी बाहरी चीज की आवश्यकता नहीं होती है । लीवर चाहे शरीर के अंदर ही होता है, पर उसके खराब होने का असर शरीर के सभी हिस्सों पर पड़ता है इस लिए लीवर का ख़ास
25 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
सामान्यता गिलोय का क्वाथ बुखार एवं अनेक रोगों मे किया जाता है। गिलोय को अमृता, अर्थात कभी ना सूखने वाली बेल कहते है । अंग्रेजी मे इसे tinospora कहते है। गिलोय को अलग अलग भाषा मे गडूची, अमृवल्ली, गूलवेल, मधुपर्णी, कुन्डलिनी आदि नमो से जाना जाता है। गिलोय की बेल जिस पेड़ पर चढ़ती है उस पेड़ के गुण अपन
19 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
02 मार्च 2019
हम लोगो की जिंदगी में सब्जियों का बहुत महत्व है। सब्जियां हम हर रोज ही खाते हैं, सब्जियां न सिर्फ हमारे भोजन का स्वाद बढाती हैं, बल्कि सब्जियां स्वास्थ्य के लिये बहुत ही लाभदायक भी होती हैं, हर सब्जी की अपनी एक अलग उपयोगिता होती है,पर इसके बावजूद कुछ सब्जियां हमारी स्वास्थ के लिए बहुत अच्छी होती हैं
02 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x