इन बातों को नजरअंदाज करके कहीं एक्सरसाइज न पड़ जाए भारी

24 फरवरी 2019   |  मिताली जैन   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

इन बातों को नजरअंदाज करके कहीं एक्सरसाइज न पड़ जाए भारी - शब्द (shabd.in)

यह तो हम सभी जानते हैं कि व्यायाम सेहत के लिए बेहद आवश्यक है। लेकिन ऐसे बहुत से लोग हैं, जो अमूमन व्यायाम नहीं करते। पर अगर अब आप व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद आवश्यक है। अक्सर देखने में आता है कि जो लोग एक्सरसाइज की शुरूआत करते हैं, वह छोटी-छोटी कुछ गलतियां करते हैं, जिससे उन्हें फायदा कम और नुकसान ज्यादा होता है। तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ बातों के बारे में-


शुरूआत में न हो गड़बड़


जरा सोचिए कि अगर किसी चीज की शुरूआत में ही गड़बड़ हो जाए तो उसका अंजाम क्या होगा। यह नियम व्यायाम पर भी लागू होता है। जिन लोगों ने अभी-अभी एक्सरसाइज करना शुरू किया है, उन्हें एकदम से बहुत अधिक एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। दरअसल, शुरूआती दिनों में शरीर का स्टेमिना बहुत अधिक नहीं होता और ऐसे में अत्यधिक व्यायाम बाॅडी पेन, क्रैम्प या मसल्स में परेशानी का कारण बन सकता है। इसलिए हमेशा पहले अपने शरीर की सुनें और जैसे-जैसे आप व्यायाम के आदि हो जाएं तो अपना एक्सरसाइज टाइम बढ़ाते रहें।


बाॅडी को करें तैयार


एक्सरसाइज करने से पहले शरीर को उसके लिए तैयार करना बेहद जरूरी है। इसके लिए पहले वार्मअप करें। एक बात हमेशा याद रखें कि अगर आप सीधे ही व्यायाम करना शुरू करते हैं तो इससे शरीर जल्दी थक जाता है और फिर आप उस तरह एक्सरसाइज नहीं कर पाते, जैसा कि आपने सोचा था। इसके अतिरिक्त वार्मअप किए बिना एक्सरसाइज करने से मसल्स में खिंचाव आ जाता है या फिर व्यक्ति चोटिल भी हो सकता है। इसलिए वार्मअप को किसी भी लिहाज से नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। शरीर को एक्सरसाइज के लिए तैयार करने के लिए आप बतौर वार्मअप ताड़ासन का अभ्यास कर सकते हैं। इसके लिए पहले सीधे खड़े हो जाएं। इस दौरान आपकी कमर एवं गर्दन भी सीधी होनी चाहिए। अब आप अपने हाथ को सिर के ऊपर करें और सांस लेते हुए धीरे धीरे पूरे शरीर को खींचें। इस दौरान आप खिंचाव को पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुलियों तक महसूस करेंगे। कुछ क्षण इस अवस्था में रूके। अब सांस छोड़ते हुए धीरे धीरे अपने हाथ एवं शरीर को पहली अवस्था में लेकर आयें।


रिपीटेशन पर भी दें ध्यान


आमतौर पर माना जाता है कि एक बिगनर को केवल कुछ ही व्यायाम करने चाहिए। जबकि वास्तव में ऐसा नहीं है। व्यायाम को और भी अधिक प्रभावशाली बनाने के लिए आवश्यक है कि आप अपने एक्सरसाइज रूटीन में अलग-अलग तरह के एक्सरसाइज को शामिल करें, फिर चाहे वह पुशअप्स हो, वेट टेनिंग या कार्डियो। हालांकि आपको किसी भी एक्सरसाइज की रिपीटेशन को शुरूआती दौर में कम ही रखना है। उदाहरण के तौर पर, किसी भी एक्सरसाइज के एकदम 20-25 के तीन-चार सेट करने की बजाय 10-15 के ही तीन सेट करें। इसी तरह अगर आप टेडमिल कर रहे हैं तो उसकी स्पीड व टाइमिंग कम रखें। याद रखें कि जब तक आपको एक्सरसाइज करने की आदत नहीं होती, तब तक आप आधा घंटा से 45 मिनट तक एक्सरसाइज कर सकते हैं।


यह भी है व्यायाम


कुछ लोगों को एक्सरसाइज करना काफी बोरियतभरा लगता है। ऐसे लोग एक्सरसाइज करना शुरू तो करते हैं लेकिन तीन से चार दिन में ही उसे बंद कर देते हैं। एक बात हमेशा ध्यान रखें कि एक्सरसाइज का मतलब है आपको फिजिकली रूप से एक्टिव करना। खासतौर से, आज के समय में जब अधिकतर लोग जब बैठकर ही काम करते हैं तो फिजिकली एक्टिविटी काफी कम हो गई है। इसलिए व्यायाम करना और भी जरूरी हो जाता है। ऐसे में आप कुछ ऐसे एक्सरसाइज करें, जिसमें आपको मजा आता हो। फिर चाहे बात रस्सी कूदने की हो या डांस की। आप चाहें तो अपने पसंदीदा स्पोर्टस को भी व्यायाम का रूप दे सकते हैं। एक्सरसाइज के साथ आप सप्ताह में एक बार कोई भी स्पोर्टस जैसे क्रिकेट, बैडमिंटन, फुटबाॅल, वाॅलीबाॅल आदि कोई भी स्पोर्टस अवश्य खेलें। इससे आपका फुल बाॅडी वर्कआउट तो होगा ही, साथ ही आपकी स्टेंथ भी बढ़ेगी। वहीं अलग-अलग तरह से फिजिकल एक्टिविटी करने से आपको काफी मजा भी आएगा। जिससे व्यायाम रूटीन नहीं टूटेगा।


छोटी-छोटी बातें


कुछ ऐसी छोटी-छोटी बातें हैं, जो आपके एक्सरसाइज रूटीन को प्रभावित करती हैं। मसलन, एक्सरसाइज के दौरान व बाद में पानी पर पर्याप्त ध्यान दें। शरीर में पानी की कमी होने पर व्यक्ति की उर्जा का स्तर भी गिरता है और फिर व्यक्ति का एक्सरसाइज करने का मन ही नहीं करता। इसके अतिरिक्त अपने कपड़ों से लेकर जूतों पर जरूर थोड़ा इनवेस्ट करें। अगर आपके जूते अच्छी क्वालिटी के नहीं होंगे तो आप जल्दी थक जाएंगे और चोट लगने की संभावना भी रहेगी।

अगला लेख: आंखों से आंसू ही नहीं, शरीर से बीमारियों को भी दूर करता है प्याज, जानिए



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 फरवरी 2019
पपीते का एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है। स्वाद से भरपूर यह फल सेहत के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। यूं तो लोग पपीते का सेवन करते हैं लेकिन इसके पत्तों को बेकार समझकर फेंक देते हैं। शायद आपको पता न हो लेकिन पपीते के पत्ते भी उतने ही गुणकारी है। इतना ही नहीं, यह कई बड़ी बीमारियों
19 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
पपीते का एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है। स्वाद से भरपूर यह फल सेहत के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। यूं तो लोग पपीते का सेवन करते हैं लेकिन इसके पत्तों को बेकार समझकर फेंक देते हैं। शायद आपको पता न हो लेकिन पपीते के पत्ते भी उतने ही गुणकारी है। इतना ही नहीं, यह कई बड़ी बीमारियों
19 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
अगर बच्चा बड़ा होने के बाद भी सोते समय बिस्तर गीला कर दे तो माता-पिता की परेशान होना लाजमी है। कुछ अभिभावक बच्चों की इस आदत से चिंतित होते हैं तो कुछ गुस्से में बच्चों को डांटने लगते हैं। लेकिन दोनों ही तरीकों को अपनाकर बच्चे की इस आदत को नहीं छुड़वाया जा सकता। अगर आप सच में चाहते हैं कि बच्चा बिस्तर
10 फरवरी 2019
16 फरवरी 2019
बदलती जीवनशैली में व्यक्ति की जिस तरह की खान-पान की आदतों में बदलाव आया है, उसके कारण पाचनतंत्र कमजोर होता जा रहा है। आज के समय में अधिकतर लोग किसी न किसी पेट की समस्या से जूझ रहे हैं। इन्हीं में से एक है कब्ज। खराब व अनहेल्दी भोजन, व्यस्त जीवनशैली और तनाव के चलते कब्ज की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में
16 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
मटर का सेवन लोग हर मौसम में बेहद खुश होकर खाते हैं। कभी सब्जी तो कभी पुलाव के तौर पर इसे काफी पसंद किया जाता है। खाने में बेमिसाल मटर के फायदे भी उतने ही लाजवाब है। इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन्स, फास्फोरस, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, काॅपर व जिंक जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए बेहद
28 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
अक्सर ऐसा होता है, जब आप बेहद जल्दी कुछ गरमागरम खा-पी लेते हैं तो जीभ जल जाती है। ऐसे में व्यक्ति को तकलीफ तो काफी होती है, लेकिन समझ में नहीं आता कि क्या किया जाए। जीभ में जलन होने पर वहां पर दवाई लगाना संभव नहीं होता। ऐसे में काम आते हैं कुछ घरेलू उपाय। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ बेहद आसान उपायों
24 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
बहुत से लोगों को सोते समय खर्राटे लेने की आदत होती है, उन्हें भले ही इस बात का पता न चले लेकिन उनकी इस आदत के कारण आसपास सोने वाले लोगों को काफी तकलीफ होती है। यहां तक कि अन्य लोगों के लिए ठीक तरह से सो पाना भी काफी मुश्किल हो जाता है। अमूमन देखने में आता है कि जिन लोगों को सोते समय खर्राटे लेने की
25 फरवरी 2019
20 फरवरी 2019
आज की बिजी लाइफस्टाइल में किसी के पास इतना समय ही नहीं है कि व्यक्ति खुद पर ध्यान दे सके। जो लोग खुद को फिट रखना भी चाहते हैं, वह भी समय के अभाव में ऐसा नहीं कर पाते। ऐसे में काम की व्यस्तता कहीं न कहीं आपकीे सेहत को प्रभावित करती है। कहते हैं कि पहला सुख निरोगी काया। अर्थात अगर आप हेल्दी और फिट ही
20 फरवरी 2019
26 फरवरी 2019
हम सभी ने बचपन में यह सुना है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए। सुबह जल्दी उठने वाला व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है, बल्कि उसे कभी भी समय की कमी का रोना नहीं रोना पड़ता। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो सुबह जल्दी उठना तो चाहते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कर पाते। अगर आपका नाम भी ऐसे ही लोगों की लिस्ट मंे शुमार है
26 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
कैंसर का नाम सुनते ही मन में एक डर समा जाता है। अमूमन लोगों का मानना है कि कैंसर होने के बाद व्यक्ति का बचना काफी मुश्किल होता है। लेकिन सच्चाई इससे अलग है। कैंसर यकीनन घातक है, लेकिन व्यक्ति अपनी जान से तभी हाथ धोता है, जब वह इसके लक्षणों को नजरअंदाज करता है। स्थिति बिगड़ने पर जब व्यक्ति को असलियत क
24 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
बेबी ऑयल का नाम सुनते ही दिमाग में एक कोमल शिशु की छवि उभरकर सामने आ जाती है। चूंकि बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक होती है, इसलिए उनका ख्याल रखने के लिए अलग से मिलने वाले बेबी प्राॅडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेबी ऑयल भी ऐसा ही एक बेबी प्राॅडक्ट है जो शिशु
15 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
Sugar me kya khana chahiye: शुगर एक ऐसी बीमारी है जो या तो अनुवांशिक होती है यह फिर आपके लाइफ स्टाइल के कारण अर्थात आज कल के आरामतलब जीवनशैली ने मनुष्य को शारीरिक तौर पर बहुत हद तक निष्क्रिय कर दिया है और वर्तमान खाने पिने के तरीकों से मनुष्य में मोटापा आम तौर पर देखा जा सकता है और यही सबसे बड़ा कारण
18 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
‘संडे हो या मंडे, रोज खाओ अंडे‘ आपने यह स्लोगन अपनी जिन्दगी में कभी न कभी अवश्य सुना होगा। लेकिन आज भी बहुत से लोग अंडे से दूरी बनाते हैं। अंडा सिर्फ प्रोटीन का ही बेहतरीन स्त्रोत नहीं है, बल्कि इसमें अन्य भी कई तरह के पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, ओमेगा 3 फैटी एसिड पाए जाते हैं। इन्हीं पोषक तत्वों के का
18 फरवरी 2019
16 फरवरी 2019
बदलती जीवनशैली में व्यक्ति की जिस तरह की खान-पान की आदतों में बदलाव आया है, उसके कारण पाचनतंत्र कमजोर होता जा रहा है। आज के समय में अधिकतर लोग किसी न किसी पेट की समस्या से जूझ रहे हैं। इन्हीं में से एक है कब्ज। खराब व अनहेल्दी भोजन, व्यस्त जीवनशैली और तनाव के चलते कब्ज की समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में
16 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
बेबी ऑयल का नाम सुनते ही दिमाग में एक कोमल शिशु की छवि उभरकर सामने आ जाती है। चूंकि बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक होती है, इसलिए उनका ख्याल रखने के लिए अलग से मिलने वाले बेबी प्राॅडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेबी ऑयल भी ऐसा ही एक बेबी प्राॅडक्ट है जो शिशु
15 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
अगर बच्चा बड़ा होने के बाद भी सोते समय बिस्तर गीला कर दे तो माता-पिता की परेशान होना लाजमी है। कुछ अभिभावक बच्चों की इस आदत से चिंतित होते हैं तो कुछ गुस्से में बच्चों को डांटने लगते हैं। लेकिन दोनों ही तरीकों को अपनाकर बच्चे की इस आदत को नहीं छुड़वाया जा सकता। अगर आप सच में चाहते हैं कि बच्चा बिस्तर
10 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
बेबी ऑयल का नाम सुनते ही दिमाग में एक कोमल शिशु की छवि उभरकर सामने आ जाती है। चूंकि बच्चों की त्वचा बेहद नाजुक होती है, इसलिए उनका ख्याल रखने के लिए अलग से मिलने वाले बेबी प्राॅडक्ट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। बेबी ऑयल भी ऐसा ही एक बेबी प्राॅडक्ट है जो शिशु
15 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x