स्वास्थ जीवन की सबसे बड़ी संपत्ति है, जाने कैसे रहे स्वस्थ

28 फरवरी 2019   |  सतीश कालरा   (64 बार पढ़ा जा चुका है)

Third party image reference

आज कल की जीवन शैली की तेज गति एवं भागदौड़ वाली जिंदगी में सेहत का ध्यान रखना बहुत कठिन हो गया है । जिस कारण से आज हम युवावस्था में ही ब्लड प्रेशर, शुगर, दिल के रोग कोलेस्ट्रोल, गठिया मोटापा जैसे रोगों से ग्रसित होने लगे हैं जो कि पहले व्रद्धावस्था में होते थे, और इसकी सबसे बड़ा कारण है खान पान और रहन सहन की गलत आदतें, आइए हम सेहत के इन् नियमों का पालन करके खुद भी स्वस्थ रहे तथा परिवार को भी स्वस्थ रखते हुए अन्य लोगों को भी अच्छे स्वास्थय के लिए जागरूक करें । ताकि एक स्वस्थ एवं मजबूत समाज और देश का निर्माण हो सके । इसके लिए हमें कुछ बातो का ध्यान रखना होगा ।


Third party image reference


1. संतुलित भोजन :


घी, तैल से बनी चीजें जैसे पूड़ी, पराँठे, छोले भठूरे, समोसे कचौड़ी, जंकफ़ूड, चाय, कॉफी, कोल्डड्रिंक का ज्यादा सेवन सेहत के लिए घातक है इनका अधिक मात्रा में नियमित सेवन ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रोल, मधुमेह, मोटापा एवं हृदय रोग का कारण बनता है तथा पेट में गैस, अल्सर, ऐसीडिटी, बार बार दस्त आना, लीवर ख़राब होना जैसी परेशानी होने लगती हैं, इनकी बजाय खाने में हरी सब्जियां, मौसमी फल, दूध, दही, छाछ, अंकुरित अनाज और सलाद को शामिल करना चाहिए, जो कि विटामिन, खनिज लवण, फाइबर, आदि तत्वों से भरपूर होते हैं और शरीर के लिए बहुत लाभदायक होते हैं । नमक व चीनी का अधिक मात्रा में सेवन ना करें, ये डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, ह्रदय रोगों को बढाते हैं । बादाम, किशमिश, अंजीर, अखरोट आदि मेवा सेहत के लिए बहुत लाभकारी होते हैं, इनका सेवन करते रहना चाहिए ।

यह भी पढ़े: मूली के आश्चर्यजनक फायदे व लीवर में उपयोग

पानी एवं अन्य लिक्विड पदार्थों का अधिक सेवन करते रहना चाहिए । ताजे फल व फलों का ताजा जूस, दूध, दही, छाछ, नींबू पानी, नारियल पानी का अधिक सेवन करें, इनसे शरीर में पानी की कमी नहीं होने पाती, शरीर की त्वचा एवं चेहरे पर चमक आ जाती है, तथा शरीर की गंदगी पसीने और पेशाब के द्वारा बाहर निकल जाती है ।


Third party image reference


2. नियमित व्यायाम:


सुबह जल्दी उठकर पार्क एवम् हरी घास पर नंगे पैर घूमें, वाक करें, योगा, प्राणायाम करें, इन उपायों से शरीर से पसीना निकलता है, माँस पेशियों को ताकत मिलती है, शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है, अनेक शारीरिक एवं मानसिक रोगों से बचाव होता है, पूरे दिन भर बदन में चुस्ती फुर्ती रहती है, भूख अच्छी लगती है इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करना अवश्यक है l


Third party image reference


3. गहरी नींद अवश्य लें


शरीर एवं मन को शांत रखने के लिए प्रतिदिन लगभग 6 घंटे की गहरी नींद एक वयस्क के लिए जरुरी है, नींद पूरी ना होना तथा अनेक बीमारियों का कारण बनती है । गहरी नींद के लिए कुछ उपाय किए जा सकत हैं । सोने का कमरा साफ, शांत एवं एकांत में होना चाहिए, रात को अधिकतम 10 बजे तक सो जाना चाहिए । और सुबह 5-6 बजे तक उठ जाना स्वास्थ के लिए अच्छा माना जाता है, सोने से पहले शवासन करने से भी अच्छी नींद आती है, भोजन सोने से 2 घंटे पहले कर लेना चाहिए एवं शाम को खाना खाने के बाद कम से काम आधा घंटा अवश्य घूमना चाहिए ।


4. टेंशन बिल्कुल भी न लें


स्वास्थ रहने के लिए चिंता को त्यागना होगा । चिंता चिता समान है, जिंदगी में आने वाली समस्यों के लिए चिंतन करना सही है किन्तु चिंता करना नहीं, अनावश्यक चिंता जीते जी शरीर को जला देती है, इसलिए तनाव होने पर किसी जानकार व्यक्ति से सलाह अवश्य लें।


यह भी पढ़े : नींबू (lime) के घरेलू उपयोग,लाभ एवं महत्व


5. किसी भी प्रकार के नशे का सेवन न करें


आज की युवा पीढ़ी नशे की और अग्रसर है, इस नशे से उन्हें बचाना है । नशे से खतरनाक बीमारी होती हैं । शराब, धूम्रपान, तम्बाकू ये सब सेहत के दुश्मन हैं, किसी भी स्थिति में नशे की आदत से बचें, यदि नशे से बचे हुए हैं तो बहुत अच्छा किन्तु, यदि कोई नशा करते हैं तो जितनी जल्दी नशे से दूरी बना लें उतना ही अच्छा है, नशे से शारीरिक, मानसिक, आर्थिक एवं सामाजिक प्रतिष्ठा के नाश का कारण बनती है, इसलिए नशे से बचना ही बेहतर उपाय है ।

स्वास्थय के ऊपर बताये हुए नियमों का पालन अवश्य करें । तभी स्वस्थ रहा जा सकता है।

अगला लेख: जाड़े के दिनों में होंठ फटने लगें तो करें यह उपाय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 फरवरी 2019
भारत में चंदन को बहुत ही स्वच्छ व पवित्र माना जाता है, इसकी लकड़ी पीले रंग की और भारी होती है, जो वर्षों से अपनी खुशबू के लिए पहचानी जाती है । चन्दन के पेड़ बहत ही कीमती होते हैं और संसार में कीमत के मामले में यह दूसरे नंबर की महंगी लकड
19 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर भगवान की तपस्या करके भगवान से वरदान मांगने की परंपरा रही है | लोग कठिन से कठिन तपस्या करके अपने शरीर को तपा करके ईश्वर को प्रकट करके उनसे मनचाहा वरदान मांगते थे | वरदान पाकर के जहां आसुरी प्रवृति के लोग विध्वंसक हो जाते हैं वहीं दिव्य आत्मायें लोक कल्याणक कार्य करती हैं | भग
19 फरवरी 2019
06 मार्च 2019
Third party image referenceतुलसी का पौधा पूर्व जन्म मे एक लड़की थी, जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी । बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी । जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया । जलंधर समुद्र से उत्
06 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x