यह चीजे खायेगें तो उतर जाएगा आंखो का चश्मा, जाने कैसे

04 मार्च 2019   |  सतीश कालरा   (43 बार पढ़ा जा चुका है)

Third party image reference


आजकल हर व्यक्ति आंखो की रोशनी को लेकर चिंतित है । आवश्यकता से अधिक दिमाग की मेहनत, तेज रोशनी वाली वस्तुओं को ज्यादा निकट से देखना, जरूरत से अधिक मोबाइल का प्रयोग और मस्तिष्क व स्नायु की कमजोरी से भी आंखों की रोशनी जल्दी कम हो जाती है । लेकिन प्रकृति में अपने आप से बहुत सी ऐसी खाने पीने की चीजें उपस्थित हैं जिन्हें हम अपने आहार में शामिल करके अपनी आंखों को कमजोर होने से बचा सकते हैं, और जिन लोगों को चश्मा लगा हुआ है, उनका चश्मा भी उतर सकता है । ऐसी ही कुछ चीजों के बारे में हम नीचे बता रहें हैं ।


Third party image reference


गाजर :


यह तो सभी को पता ही होगा कि गाजर आंखों के लिए लाभदायक होती है । गाजर में पाए जाने वाले विटामिन 'ए', ‘सी’, ‘ई’ और जिंक, आंखों के लिए बहुत जरूरी होते हैं । गाजर विटामिन ‘ए’ व कैरोटीन ( बीटा-कैरोटीन ) का अच्छा स्रोत है । यह बीटा कैरोटीन हमारी आंखों की रोशनी बढ़ाने में बहुत सहायक होता है । ध्यान दें कि अगर शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन ‘ए’ ना मिले तो आंखों से रात को दिखना तक बंद हो सकता है । गाजर को आहार मैं शामिल करना अत्यंत आवश्यक है ।


Third party image reference




पपीता :


पपीताआंखो के लिए अति उत्तम फल है, पपीते में विटामिन ‘ए’, विटामिन ‘बी’, विटामिन ‘सी’ और विटामिन ‘डी’ पाए जाते हैं । अन्य फलों की तुलना में पपीते में विटामिन ‘ए’ अधिक मात्रा में होता है इसलिए आंखों से संबंधित रोगों में अच्छा काम करता है ।



हरी पत्तेदार सब्जियां :


हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक,चोलाई, सरसों का साग, पत्ता गोभी आदि । इन सब्जियों में ल्युटिन और जियाकस्थिन सबसे ज्यादा मात्रा में पाया जाता है । जो आंखों के लिए बहुत ही लाभ करी है । ल्युटिन एक एंटीऑक्सीडेंट है जो यू.वी. रेडिएशन से आँखों को पहुंचने वाले नुकसान से बचाता है । हरे पत्तेदार सब्जी में एक ऐसा तत्व होता है जो आंखों से मोतियाबिंद के खतरे को कम करता है, तथा आँखों की अनेक बिमारिओ को दूर करता है ।



मछली :


जो लोग मांसाहारी होते है, वे मछली का सेवन कर अपनी आंखो की रक्षा कर सकते हैं । मछली में उपस्थित ओमेगा - 3 फैटीएसिड का सेवन मोतियाबिंद या आंखों में सूखेपन जैसी समस्याओं को दूर करता है । हफ्ते में कम से कम दो बार मछली खाने से आंखों की सूजन कम होती है, व मासपेशियां मजबूत होती हैं ।


Third party image reference


बादाम


बढ़ती उम्र में आंखे कमजोर रहने की समस्या ज्यादा रही है । अगर आंखों की रोशनी में कमी बढ़ती उम्र की वजह से आ रही है, तो बादाम आंखों की रोशनी बढ़ाने में सहायता कर सकता है। बादाम में विटामिन ‘इ’ प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो आंखो के लिए फायदेमंद है ।

यह भी पढ़े:- नींबू (lime) के घरेलू उपयोग,लाभ एवं महत्व


दोस्तों आपको यह जानकारी कैसी लगी ? कृपया हमें कमेंट करकेबताएं । न्यूज़ अच्छी लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा लाइक और शेयर करें । अच्छे अच्छे हेल्थ जानकारी के बारे में पढ़ने के लिए हमें अवश्य फोलो करें । धन्यवाद

अगला लेख: जाड़े के दिनों में होंठ फटने लगें तो करें यह उपाय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मार्च 2019
Third party image referenceआजकल की भागदौड़ की जिंदगी में होंठो का काला पड़ना एक आम समस्या हो गई है, अच्छा सुंदर व्यक्ति भी होठ काले होने के कारण अपनी सुन्दरता को खो देता है । इस लेख में हम आपको होठों के काले होने से बचाव व इसके घरेलू नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं । जिससे आप लोग इनकी देखभाल कर
06 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
16 मार्च 2019
रंग की एकादशी – कुछ भूली बिसरी यादेंकल रविवार 17मार्च को फाल्गुन शुक्ल एकादशी है | यों आज रात्रि ग्यारह बजकर चौंतीस मिनट के लगभग वणिजकरण, शोभन योग और पुनर्वसु नक्षत्र में एकादशी तिथि का आगमनहो जाएगा, किन्तु उदया तिथि होने के कारण कल एकादशी का उपवासरखा जाएगा | इस प्रकार जैसी कि मान्यता है कि द्वादशी
16 मार्च 2019
19 फरवरी 2019
भारत में चंदन को बहुत ही स्वच्छ व पवित्र माना जाता है, इसकी लकड़ी पीले रंग की और भारी होती है, जो वर्षों से अपनी खुशबू के लिए पहचानी जाती है । चन्दन के पेड़ बहत ही कीमती होते हैं और संसार में कीमत के मामले में यह दूसरे नंबर की महंगी लकड
19 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
06 मार्च 2019
Third party image referenceतुलसी का पौधा पूर्व जन्म मे एक लड़की थी, जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी । बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी । जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया । जलंधर समुद्र से उत्
06 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
विटामिन ए की मनुष्य के शरीर को बहुत आवश्यकता होती है । विटामिन ए को ही कैरोटीन कहा जाता है । शरीर में विटामिन ए की कमी होने से काफी हानि भी हो सकती है । अगर इसकी कमी हो ही जाये तो इसे पूरा करने के दो तरीके है एक खाने पीने की कुछ चीजे और दूसरा विटामिन ए की गोलियां और सप्लीमेंट आदि । शरीर को विटामिन ए
28 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
होंठ बहुत ही संवेदनशील होते हैं, हर मौसम का इस पर प्रभाव पड़ता है । मौसम के प्रभाव से ही होंठ फटते हैं, जाड़े के दिनों में कुछ ज्यादा ही प्रभाव पड़ता है । हॉट फटने से हसने बोलने में परेशानी तो होती है, पर देखने में भी अच्छा नहीं लगता है । होंठो के फटने का कारण ठंडा मौसम, विटामिन ए तथा विटामिन बी की
24 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
सामान्यता गिलोय का क्वाथ बुखार एवं अनेक रोगों मे किया जाता है। गिलोय को अमृता, अर्थात कभी ना सूखने वाली बेल कहते है । अंग्रेजी मे इसे tinospora कहते है। गिलोय को अलग अलग भाषा मे गडूची, अमृवल्ली, गूलवेल, मधुपर्णी, कुन्डलिनी आदि नमो से जाना जाता है। गिलोय की बेल जिस पेड़ पर चढ़ती है उस पेड़ के गुण अपन
19 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
हाई ब्लड प्रेशर पूरे संसार में महत्वपूर्ण मुद्दा है । संसार में अरबों लोग उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं, साल दर साल ब्लड प्रेशर के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है । एक के अध्ययन के अनुसार भारत में इनकी संख्या 11 करोड़ से ऊपर है । जो लोग अधिक मात्रा में सिगरेट शराब और नमक का सेवन करते हैं उन्हें उच्च र
21 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को हटाने के लिए हमारे शरीर में एक जन्म जात अंग है लीवर । हमारे शरीर की सफाई व स्वतस्थ बनाए रखने के लिए किसी भी बाहरी चीज की आवश्यकता नहीं होती है । लीवर चाहे शरीर के अंदर ही होता है, पर उसके खराब होने का असर शरीर के सभी हिस्सों पर पड़ता है इस लिए लीवर का ख़ास
25 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x