एक धार्मिक कहानी तुलसी कौन थी, और इसका विवाह किसके साथ हुआ था

06 मार्च 2019   |  सतीश कालरा   (28 बार पढ़ा जा चुका है)

Third party image reference

तुलसी का पौधा पूर्व जन्म मे एक लड़की थी, जिस का नाम वृंदा था, राक्षस कुल में उसका जन्म हुआ था बचपन से ही भगवान विष्णु की भक्त थी । बड़े ही प्रेम से भगवान की सेवा, पूजा किया करती थी । जब वह बड़ी हुई तो उनका विवाह राक्षस कुल में दानव राज जलंधर से हो गया । जलंधर समुद्र से उत्पन्न हुआ था ।


वृंदा बड़ी ही पतिव्रता स्त्री थी, सदा अपने पति की सेवा किया करती थी । एक बार देवताओ और दानवों में युद्ध हुआ जब जलंधर युद्ध पर जाने लगे तो वृंदा ने कहा स्वामी आप युद्ध पर जा रहे है, आप जब तक युद्ध में रहेगे में पूजा में बैठ कर आपकी जीत के लिये अनुष्ठान करुगी, और जब तक आप वापस नहीं आ जाते, मैं अपना संकल्प नही छोडूगी । जलंधर तो युद्ध में चले गये,और वृंदा व्रत का संकल्प लेकर पूजा में बैठ गयी, उनके व्रत के प्रभाव से देवता भी जलंधर को ना जीत सके, सारे देवता जब हारने लगे तो विष्णु जी के पास गये । सबने भगवान से प्रार्थना की तो भगवान कहने लगे कि वृंदा मेरी परम भक्त है, में उसके साथ छल नहीं कर सकता । फिर देवता बोले, भगवान दूसरा कोई उपाय भी तो नहीं है, अब आप ही हमारी मदद कर सकते है ।


भगवान ने जलंधर का ही रूप रखा और वृंदा के महल में पँहुच गये, जैसे ही वृंदा ने अपने पति को देखा, वे तुरंत पूजा मे से उठ गई और उनके चरणों को छू लिया, जैसे ही उनका संकल्प टूटा, युद्ध में देवताओ ने जलंधर को मार दिया और उसका सिर काट कर अलग कर दिया, उनका सिर वृंदा के महल में गिरा, जब वृंदा ने देखा कि मेरे पति का सिर तो कटा पडा है, तो फिर ये जो मेरे सामने खड़े है ये कौन है


उन्होंने पूँछा, आप कौन हो जिसका स्पर्श मैने किया, तब भगवान अपने रूप में आ गये पर वे कुछ ना बोल सके, वृंदा सारी बात समझ गई, उन्होंने भगवान को श्राप दे दिया आप पत्थर के हो जाओ, और भगवान तुंरत पत्थर के हो गये ।

Read More :- धनिया व धनिया पत्ती के 6 लाभदायक प्रयोग(Benefit of coriander)

सभी देवता हाहाकार करने लगे लक्ष्मी जी रोने लगे और प्रार्थना करने लगे जब वृंदा जी ने भगवान को वापस वैसा ही कर दिया और अपने पति का सिर लेकर वे सती हो गयी । उनकी राख से एक पौधा निकला तब भगवान विष्णु जी ने कहा, आज से इनका नाम तुलसी है, और मेरा एक रूप इस पत्थर के रूप में रहेगा, जिसे शालिग्राम के नाम से तुलसी जी के साथ ही पूजा जायेगा और में बिना तुलसी जी के भोग स्वीकार नहीं करुगा । तब से तुलसी जी कि पूजा सभी करने लगे । और तुलसी जी का विवाह शालिग्राम जी के साथ कार्तिक मास में किया जाता है । देव उठावनी एकादशी के दिन इसे तुलसी विवाह के रूप में मनाया जाता है ।


अगला लेख: जाड़े के दिनों में होंठ फटने लगें तो करें यह उपाय



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2019
हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को हटाने के लिए हमारे शरीर में एक जन्म जात अंग है लीवर । हमारे शरीर की सफाई व स्वतस्थ बनाए रखने के लिए किसी भी बाहरी चीज की आवश्यकता नहीं होती है । लीवर चाहे शरीर के अंदर ही होता है, पर उसके खराब होने का असर शरीर के सभी हिस्सों पर पड़ता है इस लिए लीवर का ख़ास
25 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
भारत में चंदन को बहुत ही स्वच्छ व पवित्र माना जाता है, इसकी लकड़ी पीले रंग की और भारी होती है, जो वर्षों से अपनी खुशबू के लिए पहचानी जाती है । चन्दन के पेड़ बहत ही कीमती होते हैं और संसार में कीमत के मामले में यह दूसरे नंबर की महंगी लकड
19 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
तुलसी के बारे में आप जानते है । यह बुखार सर्दी, जुकाम, खाँसी मे प्रयोग की जाती है । तुलसी सर्वरोग निवारक, जीवनीय शक्तिवर्धक होती है । इसे वृंदा, वैष्णवी, विष्णु बल्लभा, श्री कृष्ण बल्लभा आदि नामो से जाना जाता है । इस औषधि की देवी की तरह पूजा की जाती है । ये सब जगह पाय
24 फरवरी 2019
04 मार्च 2019
Third party image referenceआजकल हर व्यक्ति आंखो की रोशनी को लेकर चिंतित है । आवश्यकता से अधिक दिमाग की मेहनत, तेज रोशनी वाली वस्तुओं को ज्यादा निकट से देखना, जरूरत से अधिक मोबाइल का प्रयोग और मस्तिष्क व स्नायु की कमजोरी से भी आंखों की रोशनी जल्दी कम हो जाती है । लेकिन प्रकृति में अपने आप से बहुत सी
04 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x