महिला दिवस : फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ ने रचा इतिहास, लड़ाकू विमान मिग 21 को अकेले उड़ाने वाली दूसरी महिला अफसर बनी

08 मार्च 2019   |  अंकिशा मिश्रा   (56 बार पढ़ा जा चुका है)

महिला दिवस : फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ ने रचा इतिहास, लड़ाकू विमान मिग 21 को अकेले उड़ाने वाली दूसरी महिला अफसर बनी

8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस है। तो आइये इस अवसर पर जानते हैं देश की उन बेटियों के बारे में जिन्होंने अपनी प्रतिभा के दम पर ना सिर्फ एक मुकाम पाया बल्कि लाखों भारतीयों की रॉल मॉडल बन गई है।


फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ


वायुसेना की फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ ने एक नया इतिहास रच दिया है. वह वायुसेना की दूसरी महिला फाइटर पायलट हैं, जिन्होंने मिग 21 लड़ाकू विमान को अकेले उड़ाया है। इससे पहले फ्लाइंग ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी ने मिग-21 लड़ाकू विमान को अकेले उड़ाकर नया इतिहास रचा था।


जानकारी अनुसार पहले अवनी चतुर्वेदी और अब भावना कंठ। जी हां, भारतीय वायुसेना की फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ मिग-21 लड़ाकू विमान अकेले उड़ाने वाली दूसरी महिला पाटलट बन गई हैं। कुछ ही समय पहले अवनी चतुर्वेदी अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बनी थी। वायुसेना में महिलाएं वर्ष 1991 से ही हेलिकॉप्टर और ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट उड़ाती रही हैं लेकिन लड़ाकू विमान उड़ाने का मौका उन्हें अब मिला है।




बीते दिनों भावना कंठ ने अंबाला एयरफोर्स स्टेशन से मिग 21 लड़ाकू विमान में उड़ान भरी। अपने विमान के साथ वह लगभग 30 मिनट तक हवा में रहीं। बिहार की बेटी भावना कंठ दरभंगा जिले के घनश्यामपुर प्रखंड के बाउर गांव की निवासी हैं। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा बेगुसराय के बरौनी रिफाइनरी के डीएवी स्कूल से हासिल की। दसवीं कक्षा के बाद भावना ने कोट के विद्या मदिंर स्कूल में दाखिला ले लिया। साथ ही इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी शुरू कर दी। बेंगलुरू के बीएमस कॉलेज से बी.टेक करने के बाद भावना का चयन भारतीय वायुसेना में हो गया। बचपन से ही भावना का लक्ष्य आकाश में उड़ान भरने का था।


भावना कंठ ने मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी के साथ मार्च 2016 में लड़ाकू विमान उड़ाने की योग्यता हासिल की। पिछले दो वर्ष में इन्हें लड़ाकू विमान उड़ाने का गहन प्रशिक्षण दिया गया। लड़ाकू विमान अकेले उड़ाने का गौरव सबसे पहले अवनी चतुर्वेदी को मिला और अब भावना कंठ का नाम भी इसमें शामिल हो गया है।

अगला लेख: पेरासिटामोल (Paracetamol)



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 मार्च 2019
साल 1989. हिंदू कुश की पहाड़ियों में दस साल अटके रहने के बाद आखिरकार सोवियत यूनियन को अपने पैर पीछे खींचने पड़े. सोवियत यूनियन की इस हार को चार दशक लंबे चले शीत युद्ध का अंत माना गया. अफगानिस्तान में सोवियत यूनियन से लड़ने के लिए अमेरिका ने इस्लामिक चरमपंथी समूहों को बड़ी मात्रा में आर्थिक और सैनिक मदद
04 मार्च 2019
27 फरवरी 2019
पुलवामा हमले के बाद पूरे भारत के खिलाफ आक्रोश भरा हुआ था जिसके चलते वो सरकार से जल्द से जल्द कड़ा जवाब देने की गुज़ारिश कर रहे थे। आखिरकार सरकार ने देशवासियों की सुनी और पाकिस्तान को जवाब दिया। जवाब में इंडियन एयर फोर्स ने 26 फरवरी को पाकिस्तान में हमला कर तीन आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया। अनौपचारि
27 फरवरी 2019
01 मार्च 2019
इमरजेंसी की हालत में इंडियन एयर फोर्स के पायलट अभिनंदन को विमान से इजेक्ट करना पड़ा. जिसके चलते वह गलती से दुश्मन देश पाकिस्तान के इलाके में पहुंच गए. इसके बाद पाक सेना ने उन्हें पकड़ लिया.हालांकि अभिनंदन के मामले में अच्छी बात ये है कि समय से पाकिस्तान ने मान लिया कि अभिनंदन उनके कब्जे में हैं. लेक
01 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x