महिला दिवस पर विशेषः कभी खुद के लिए भी जीने दो

08 मार्च 2019   |  मिताली जैन   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

महिला दिवस पर विशेषः कभी खुद के लिए भी जीने दो

स्त्री, कहने को भले ही एक छोटा सा नाम लेकिन मानो उसमें पूरा संसार समाया है। वह एक बेटी है, एक पत्नी, एक बहू और एक मां और न जाने कितने ही रूपों में वह अपने कत्र्तव्यों का निर्वहन चुपचाप करती है। फिर चाहे स्त्री गृहिणी हो या कामकाजी, वह दुनिया की एक ऐसी इंसान है, जिसके नसीब में कभी छुट्टी नहीं लिखी होती। पुरूष तो सप्ताहांत न सिर्फ आराम फरमाकर अपनी छुट्टी का आनंद लेते हैं, बल्कि पूरे सप्ताह के काम के बोझ और थकान का बखान भी करते हैं। लेकिन इसे माॅडर्न युग का तोहफा कहें या फिर विडंबना, आज स्त्री को दोहरी जिम्मेदारी का भी निर्वहन करना पड़ता है। वह सिर्फ घर ही नहीं संभालती, बल्कि बाहर जाकर पैसे कमाना और घर चलाने में पति से कंधे से कंधा मिलाना भी उसकी नियति बन चुका है। अगर वह ऐसा नहीं करती, तो समझा जाता है कि वह तो कुछ नहीं करती, बस घर में आराम ही फरमाती है। स्त्री भले ही घर-बाहर की जिम्मेदारियों को बिना किसी शिकायत के खुशी-खुशी निभाती हो लेकिन आज भी पुरूषप्रधान समाज में पुरूष घर-काम में स्त्री के कंधे से कंधा मिलाने को अपनी शान के खिलाफ समझता है। अगर गाहे-बगाहे वह कभी स्त्री की मदद कर भी दे, तो फिर ऐसा व्यवहार करता है, मानो उसने महिला के उपर कोई बहुत बड़ा अहसान कर दिया हो।

यह कैसी विडंबना है कि स्त्री के साथ भेदभाव का सिलसिला सिर्फ विवाह के बाद ही नहीं होता, बल्कि यह तो जन्म से पूर्व ही शुरू हो जाता है। जब एक स्त्री गर्भवती होती है ता उससे यही उम्मीद की जाती है कि वह एक बेटे को जन्म दे ताकि वंश को आगे बढ़ाया जा सके। उसे गर्भावस्था के दौरान अक्सर यही जुमले सुनने को मिलते हैं कि जल्दी से एक पोता दे दे। देख लेना कि लड़का ही होगा। इस तरह उस पर पुत्र जन्म के लए एक मानसिक दबाव बनाया जाता है। अगर लड़की पैदा भी हो जाती है तो न तो उसके जन्म पर किसी तरह का उल्लास या जश्न मनाया जाता है, बल्कि लड़की पैदा होने के लिए भी स्त्री को ही दोष दिया जाता है। जबकि विज्ञान भी इस बात को साबित कर चुका है कि लड़का या लड़की होना एक स्त्री पर नहीं, बल्कि पुरूष पर निर्भर करता है। वहीं दूसरी ओर, समय के साथ जैसे-जैसे लड़की बड़ी होने लगती है तो उसे सिखाया जाता है कि वह क्या पहनें, किससे बोले, कैसे चले या फिर अपना करियर बनाए या नहीं। यहां तक कि वह किस क्षेत्र मंे जाॅब करेगी, उसकी शादी किससे होगी, इन सभी चीजों पर उसका नहीं, बल्कि किसी और का नियंत्रण होता है।

इसे उसकी परवरिश का ही नतीजा कहा जा सकता है कि विवाहोपंरात वह एक सुपरवुमन बनने की जद्दोजहद करती हुई नजर आती है। उसके जेहन में यह बात भीतर तक होती है कि घर और बाहर की जिम्मेदारियों का निर्वहन करना उसका कत्र्तव्य है और अगर इसमें जरा-सी भी चूक होती है तो वह खुद को ही दोषी मानकर एक अपराधबोध के साथ जीती है। सुपरवुमन सिंडोम जैसी बीमारी भी इसी सोच की उपज है। इसके अतिरिक्त यह भी देखने में आता है कि महिलाएं अधिक अवसादग्रस्त होती हैं।

आज विश्व महिला दिवस है और चारों ओर महिलाओं के सशक्तिकरण और कुछ महिलाओं द्वारा किए गए अच्छे कामों का बखान किया जा रहा है। इस बात में कोई दोराय नहीं है कि महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है, लेकिन यह महिला दिवस सिर्फ उन महिलाओं के लिए नहीं है, जिन्होंने देश को एक नई उंचाईयों पर पहुंचाया है। बल्कि यह हर उस महिला का भी दिवस है, जो जिन्दगी की दोहरी जिम्मेदारियों के बीच शायद कहीं पिसती जा रही है। वह भी चाहती हैं कि उसे घर-परिवार की जिम्मेदारी से मुक्त होकर एक दिन छुट्टी मिले और वह खुलकर जिए। हालांकि यह कहने की हिम्मत उसमें नहीं है।

आज के दिन हमारी सभी पाठकों से सिर्फ इतनी गुजारिश है कि जिस तरह आप खुद के लिए जीते है। आपके घर की स्त्री को भी खुद के लिए जीने का मौका दें। सप्ताह मंे न सही लेकिन महीने में एक दिन तो आप उन्हें दे ही सकते हैं, जब स्त्री वो सब कर सके, जिसे करने की चाहत सालों से उसके मन में कहीं दबी हुई है और यह सब करके आप उस पर अहसान नहीं करेंगे। बल्कि एक इंसान के रूप में यह सब पाना उसका मूलभूत अधिकार है और इस तरह कहीं न कहीं यह आपके लिए ही लाभदायक होगा क्योंकि जब वह दोबारा उर्जावान होगी तो बेहतर काम करने के लिए तो प्रेरित होगी ही, साथ ही उसके प्रति आपका प्रेम और केयर रिश्तों को एक नई उर्जा व जीवंतता प्रदान करेगा।

अगला लेख: इन तरीकों से चुटकियों में करें फ्रिज की सफाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
आज अंतरराष्टीय महिला दिवस के दिन जब पूरे विश्व में महिलाओं की कामयाबी, उनके गुणों व क्षमताओं का बखान किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर फिर भी लोग मन ही मन एक बेटे की ही आस करते हैं। यह सच है कि आज के समय में स्त्रियों ने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन हर मोर्चे पर किया है। मैरी काॅम से लेकर मानुषी छिल्लर, हि
08 मार्च 2019
04 मार्च 2019
गर्मियों के मौसम में अक्सर लोग अपने पेय पदार्थों को ठंडा करने के लिए बर्फ का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह मामूली सी दिखने वाली बर्फ आपको कई तरह की सौंदर्य समस्याओं से बचाती है। बस आप इसे अपने चेहरे पर लगाएं और फिर आपको तुरंत ही अपने चेहरे में एक अजीब सा परिवर्तन महसूस होगा। तो चल
04 मार्च 2019
26 फरवरी 2019
हम सभी ने बचपन में यह सुना है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए। सुबह जल्दी उठने वाला व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है, बल्कि उसे कभी भी समय की कमी का रोना नहीं रोना पड़ता। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो सुबह जल्दी उठना तो चाहते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कर पाते। अगर आपका नाम भी ऐसे ही लोगों की लिस्ट मंे शुमार है
26 फरवरी 2019
05 मार्च 2019
विटामिन सी युक्त नींबू देखने में भले ही छोटा सा हो लेकिन यह बड़े-बड़े काम करने का माद्दा रखता है। जहां एक ओर यह कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करता है तो वहीं दूसरी ओर इसकी मदद से घर की कई छोटी-बड़ी परेशानियों को दूर किया जा सकता है। इतना ही नहीं, यह आपके सौंदर्य का भी उतनी ही बेहतरीन तरीके से ख्य
05 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
इस बात में कोई दोराय नहीं है कि विवाह एक प्रेमभरे रिश्ते को मजबूती देता है, लेकिन इसका तात्पर्य यह नहीं है कि महज विवाह कर लेना ही रिश्ते को सुरक्षित रखने का तरीका है। वर्तमान समय में, भारत में तलाक के बढ़ते मामले यह साफतौर पर जाहिर करते हैं कि वैवाहिक रिश्तों को सहेजने के लिए अतिरिक्त प्रयासों की आव
28 फरवरी 2019
07 मार्च 2019
महिला दिवस क्यों मनाते है? प्रत्येक वर्ष के 8 मार्च को विश्व महिला दिवस में मनाया जाता है। यह दिन महिलाओं को सम्मान देने के उद्देश्य से उत्साहपूर्वक मनाया जाता है, और इससे महिला सशक्तिकरण का संदेश भी पूरी दुनिया तक पहुंचाया जाता है। इसक
07 मार्च 2019
08 मार्च 2019
अब जैसे-जैसे गर्मियों ने दस्तक देनी शुरू कर दी हैं, हर किसी को एक चीज की सबसे ज्यादा जरूरत महसूस होगी, वह है फ्रिज। ठंडा पानी पीने से लेकर खाना खराब होने से बचाने के लिए फ्रिज का इस्तेमाल किया जाता है। खासतौर से, गर्मी के मौसम में तो इसकी जरूरत हर घर में महसूस होती है। जहां फ्रिज आपकी जरूरतों का ध्य
08 मार्च 2019
24 फरवरी 2019
अधिकतर भारतीय घरों में लोग भोजन स्वाद के लिए करते हैं। अगर सब्जी का स्वाद अच्छा न हो तो लोग अचार का सेवन करते हैं। कभी-कभी अचार का सेवन करना ठीक है, लेकिन बहुत से लोग नियमित रूप से भोजन में अचार खाना पसंद करते हैं। ऐसे लोग भले ही खाने में स्वाद का लुत्फ उठाते हों लेकिन वास्तव में अपनी सेहत के साथ खि
24 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x