देव / राक्षस :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (17 बार पढ़ा जा चुका है)

देव   / राक्षस :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से इस धराधाम पर ऋषियों - महर्षियों एवं राजा - महाराजाओं द्वारा लोक कल्याण के लिए यज्ञ / महायज्ञ का अनुष्ठान किया जाता रहा है | जहाँ सद्प्रवृत्तियों द्वारा लोक कल्याण की भावना से ये सारे धर्मकार्य किये जाते रहे हैं वहीं नकारात्मक शक्तियों के द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का विरोध करते हुए विध्वंस का सतत् प्रयास होता रहा है | इतिहास / पुराणों में अनेक कथानक उदाहरण स्वरूप देखने को मिलते हैं जहाँ यज्ञ कर रहे याज्ञिकों को प्रताड़ित करते हुए यज्ञ विध्वंस का प्रयास करते कृत्य किये जाते रहे हैं | रामायण में विश्वामित्र जी की यज्ञ विध्वंस करने का प्रयास सुबाहु एवं मारीच द्वारा किया गया तब विश्वामित्र जी स्वयं नारायण को यज्ञरक्षा के लिए लेकर आये | यज्ञानुष्ठान की रक्षा दुष्प्रवृत्तियों को उचित सीख देकर स्वयं नारायण करते हैं | ऐसा नहीं है कि यज्ञाध्यक्ष या आयोजक अपने यज्ञ की रक्षा नहीं कर सकते परंतु जब वे संकल्प में बँध जाते हैं तो वे नकारात्मक कार्य नहीं कर सकते क्योंकि संकल्प लेने के बाद आयोजक प्रतिज्ञारत हो जाता है और उसके द्वारा किया गया ऐसा कोई भी कार्य उसकी यज्ञ में बाधा उत्पन्न करता है | हमारे मनीषियों का कथन है कि किसी भी धर्मकार्य को करने का संकल्प ले लेने के बाद यजमान या आयोजक यदि कोई मन , वचन एवं कर्म से नकारात्मक कार्य करता है तो उसका संकल्प टूट जाता है | इसी बाध्यता के चलते एवं सकारात्मकता को बनाये रखने के लिए ऐसा कोई कार्य नहीं किया जाता | इस बात का फायदा उठाने का प्रयास नकारात्मक शक्तियाँ किया करती हैं , जबकि ऐसी शक्तियाँ सफल नहीं हो पाती हैं |* *आज भी संतों द्वारा लोककल्याण के निहित क्षेत्र व समाज को एक सूत्र में बाँधने के लिए ऐसे अनुष्ठान जनता के सहयोग से यत्र - तत्र किया जाता हैं | संतों का कार्य है लोक कल्याण करना | इसी उद्देश्य के साथ गाँव व क्षेत्र का सहयोग लेकर यज्ञादिक कार्यों को सम्पन्न कराने का प्रयास किया जाता है | परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज भी देख रहा हूँ कि जहाँ पूरा गाँव व क्षेत्र इस धर्मकार्य में तन मन धन से सहयोग करता दिखाई पड़ता है वहीं दूसरी ओर उसी समाज में कुछ नकारात्मक लोग भी होते हैं जो कि अपने कृत्यों द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का सांकेतिक विरोध करते भी दिखाई पड़ते हैं | राक्षसी प्रवृत्तियाँ पहले भी थीं और आज भी हैं यह अलग विषय है कि इनका वश न पहले चला है और न ही अब चल रहा है | परंतु ये दुष्प्रवृत्तियाँ अपने कर्मों के द्वारा यज्ञों / अनुष्ठानों में विघ्न डालने का सतत प्रयास करते रहते हैं | धर्मकार्य होते रहे हैं और होते रहेंगे इन दुष्प्रवृत्तियों के मुंह पर कालिख लगती रही है और आगे भी लगती रहेगी | कुछ लोग ऐसे भी होते हैं कि यदि कुछ नहीं कर पाते हैं तो कार्यक्रम स्थल के अगल - बगल प्रदूषण ही फैलाने का कार्य करते रहते हैं चूंकि उनका विरोध पूरा गाँव व क्षेत्र करता भी है परंतु ऐसे लोगों का एकमात्र उद्देश्य होता है ऐसे धार्मिक कार्यों में विघ्न डालने का प्रयास मात्र करना | ऐसे ही लोग निशाचर कहे गये हैं |* *यज्ञादि धर्मानुष्ठान आदिकाल से होते आये हैं और आगे भी होते रहेंगे | निशाचर सदैव समाज में रहे हैं आवश्यकता है इनको पहचानने की |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*हमारा देश भारत सदैव से एक सशक्त राष्ट्र रहा है | हमारा इतिहास बताता है कि हमारे देश भारत में अनेक ऐसे सम्राट हुए हैं जिन्होंने संपूर्ण पृथ्वी पर शासन किया है | पृथ्वी ही नहीं उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा करके वहाँ भी इन्द्रपद को सुशोभित करके शासन किया है | हमारे देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर अनेक प्राणियों के मध्य में मनुष्य सबसे ज्यादा सामर्थ्यवान एवं शक्ति संपन्न माना जाता है | अनेक प्राणी इस सृष्टि में ऐसे भी हैं जो कि मनुष्य अधिक बलवान है परंतु यह भी सत्य है कि मनुष्य शारीरिक शक्ति में भले ही हाथी , शेर , बैल , घोड़े आदि से कम हो परंतु बौद्धिक बल , सामाजिक बल एवं आत्
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x