करें पहाड़ों का संरक्षण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

करें पहाड़ों का संरक्षण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सम्पूर्ण सृष्टि परमपिता परमात्मा के द्वारा निर्मित है | इस सृष्टि में वन , नदियाँ , पहाड़ , जलचर , थलचर एवं नभचर सब ईश्वर को समान रूप से प्रिय हैं | मनुष्य उस ईश्वर का युवराज कहा जाता है | युवराज का अर्थ है राजा का उत्तराधिकारी जो राजा द्वारा संरक्षित वस्तुओं का संरक्षण करने का उत्तरदायित्व सम्हाले | प्रकृति में उपस्थित पहाड़ों का सदियों से मानव समाज से गहरा नाता रहा है | हमारे देश भारत में उपस्थित हिमालय पर्वत को "पर्वतराज" कहा गया है | इन्हीं पर्वतों की कन्दराओं में अनेक ऋषियों ने तपस्या की है तो इन्हीं पहाड़ों पर मानव का पोषण करने वाली अनेकानेक औषधियाँ भी हैं | पहाड़ प्रकृति का विस्तार है , वे आकाश को छू लेने की अभिलाषा है | पहाड़ों से मानव जाति को अनेक लाभ हैं | पहाड़ों की हरियाली से आकर्षित होकर बादल वर्षा का कारण बनते हैं , इसके अतिरिक्त प्रकृति के संतुलन बनाये रखने में पहाड़ों की महत्वपूर्ण भूमिका है | इन पहाड़ों के संरक्षण का भार भी उस परमात्मा के युवराज अर्थात मनुष्य पर ही है | परन्तु मनुष्य अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कितनी गम्भीरता से कर रहा है यह किसी से छुपा नहीं है |* *आजकल परिदृश्य यह है कि गगनचुंबी पहाड़ अपना स्वरूप होते जा रहे हैं | इन गगनचुंबी पर्वत श्रृंखलाओं के स्थान पर मानव निर्मित निर्माण दिखाई पड़ रहे हैं | मनुष्य को विचार करना चाहिए कि प्रकृति ने इस सृष्टि में अपने सभी अंगों को भली प्रकार से पनपने और फलने फूलने का अवसर प्रदान किया है इसी कारण यह सृष्टि इतनी सुंदर दिखाई पड़ती है परंतु आज का मनुष्य सब कुछ काट छांट कर उसे भले ही अपने अनुसार सुंदर बनाने का प्रयास कर रहा हो परंतु प्रकृति के अनुसार यह सुंदर नहीं बल्कि दुर्भाग्यपूर्ण है | आजकल मनुष्य की भावना पहाड़ों पर विजय प्राप्त करने की सी दिख रही है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" विचार करता हूं कि आज हम पहाड़ों का स्वरूप किस प्रकार बदल रहे हैं ! किस तरह से नष्ट कर रहे हैं यह किसी से छुपा नहीं हुआ है | मनुष्य ने प्रारंभ में पहाड़ों पर चढ़ने के रास्ते बनाए और फिर धीरे-धीरे उन पर मकानों का निर्माण होने लगा और जब मकान बने तो वहां तक जाने के लिए सड़कों का निर्माण भी सरकारों द्वारा किया जा रहा है , सड़क निर्माण के पहले भयंकर विस्फोट करके पहाड़ों को तोड़ा जा रहा है | यही कारण है कि आये दिन भूकंप आदि प्राकृतिक आपदाओं से आज का मनुष्य जूझ रहा है |* *सनातन धर्म में पहाड़ सदैव पूजनीय एवं देवस्वरूप रहे हैं | अतः हमें अपने देश के पर्वतों के महत्व को समझते हुए उनके संरक्षण व समृद्धि के उपाय करने चाहिए और उन्हें नष्ट होने से बचाना चाहिए |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
*इस धराधाम पर भाँति - भाँति के धर्म , सम्प्रदाय एवं पंथ विद्यमान हैं जो अपने - अपने मतानुसार जीवन को दिशा देते हैं | वैसे तो मनुष्य जिस धर्म में जन्म लेता है वही उसका धर्म हो जाता है परंतु इन धर्मों के अतिरिक्त भी मनुष्य के कुछ धर्म होते हैं जिसे प्रत्येक मनुष्य को मानना चाहिए | इनको कर्तव्य धर्म भी
28 फरवरी 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि का सृजन करने वाली आदिशक्ति भगवती महामाया , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसी कृपालु / दयालु आदिमाता को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | स्वयं महामाया ने उद्घोष किया है कि :- मैं ही ब्रह्मा , विष्णु एवं शिव हूँ | वही आदिशक्ति जहां जैसी आवश्यकता पड़ती है वहां
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x