ईश्वर प्रदत्त शक्तियों का सदुपयोग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

ईश्वर प्रदत्त शक्तियों का सदुपयोग :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर अनेक प्राणियों के मध्य में मनुष्य सबसे ज्यादा सामर्थ्यवान एवं शक्ति संपन्न माना जाता है | अनेक प्राणी इस सृष्टि में ऐसे भी हैं जो कि मनुष्य अधिक बलवान है परंतु यह भी सत्य है कि मनुष्य शारीरिक शक्ति में भले ही हाथी , शेर , बैल , घोड़े आदि से कम हो परंतु बौद्धिक बल , सामाजिक बल एवं आत्मिक बल में मनुष्य से शक्तिशाली इस सृष्टि में दूसरा प्राणी नहीं है | इससे आगे बढ़कर मनुष्य द्वारा विज्ञान , तकनीकी उद्योग , निर्माण इत्यादि ना जाने ऐसी कितनी विधाओं का विकास कर दिया गया है जिसके कारण मनुष्य अपराजेय समझा जाने लगा है | कुछ लोगों को यह कष्ट होता है ईश्वर ने उनके साथ पक्षपात किया है जबकि ईश्वर ने सब को समान रूप से अवसर दिए हैं और प्रत्येक मनुष्य को अनंत संभावनाएं भी दी हैं , अब यह उस व्यक्ति के ऊपर निर्भर करता है कि उनका उपयोग किस प्रकार कर पाता है | इतिहास बताता है कि अनेक महापुरुषों ने अपने जीवन में विपन्नता में भी सफलता अर्जित की है | अनेक साधन उपस्थित होने पर एक व्यक्ति कुछ नहीं कर पाता है वहीं दूसरी ओर साधनों के अभाव में मनुष्य अपनी कर्मठता से नित्य नई सफलताएं प्राप्त करता रहता है , इन सफलताओं का आधार ईश्वर द्वारा प्राप्त शक्ति साधनों का सम्यक उपयोग करना रहा है | किसी सफल पुरुष के पास जितनी शक्तियां उतनी ही शक्तियां परमात्मा ने हमको भी दी है लेकिन अनेक लोग उनका समुचित लाभ नहीं उठा पाते और दोष ईश्वर को देते हैं | जबकि इश्वर को समदर्शी कहा गया है और ईश्वर ने प्रत्येक प्राणी को समान अवसर प्रदान किये हैं |* *आज समाज में अनेक लोग ईश्वर के ऊपर पक्षपात करने का दोष लगाते देखे जा सकते हैं | कुछ लोग कहते हैं कि परमात्मा ने कुछ लोगों को अधिक शक्ति दे दी है और कुछ लोगों को शक्ति देने में पक्षपात कर दिया , जबकि यह शंका पूर्ण रूपेण निराधार है | क्योंकि मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहां तक समझ पाया हूं कि ईश्वर ने प्रकृति के माध्यम से सभी प्राणियों को समान अवसर प्रदान किए है परंतु अधिकतर लोग इन शक्तियों का उपयोग व्यर्थ के उद्देश्यों को पूरा करने में लगा देते हैं , जिनका परिणाम कुछ नहीं निकलना होता है | ऐसे कार्यों से मनुष्य को ना तो कुछ लौकिक लाभ मिलता है और ना ही आत्मिक संतोष , और वे जीवन भर अभावग्रस्त ही दिखाई पड़ते हैं | कुछ लोग शक्तियों के दुरुपयोग में इंद्रियों का दोष देते हैं परंतु सत्यता यही है कि मूल जड़ हमारे मन एवं हमारे विचारों के भीतर है | मन में जन्म लेने वाली कामना , वासना एवं विषयभोगों को भोगने की लालसा इंद्रियों को उस दौड़ में लगा देती है , और हम मृगतृष्णा में सारा जीवन व्यतीत कर देते हैं | ईश्वर द्वारा प्रदत्त शक्तियों का , साधनों का समुचित उपयोग करके ही मनुष्य सफल हो सकता है |* *प्रत्येक मनुष्य को संयमित व अनुशासित होकर के रचनात्मकता की दिशा में बढ़ना चाहिए एवं शक्तियों के संचय के लिए अपनी इंद्रियों पर संयम रखना चाहिये |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर ऋषियों - महर्षियों एवं राजा - महाराजाओं द्वारा लोक कल्याण के लिए यज्ञ / महायज्ञ का अनुष्ठान किया जाता रहा है | जहाँ सद्प्रवृत्तियों द्वारा लोक कल्याण की भावना से ये सारे धर्मकार्य किये जाते रहे हैं वहीं नकारात्मक शक्तियों के द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का विरोध करते हुए विध्वंस
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्त
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x