विवाह विधान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

विवाह विधान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम पर चौरासी योनियों का वर्णन मिलता है , इनमें से सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर मानव ने अनेक कीर्तिमान स्थापित किये | मनुष्य परमात्मा की सर्वश्रेष्ठ कृति है , सृष्टि के संचालन में सहयोग करने के लिए ईश्वर ने नर के साथ नारी का जोड़ा भी उत्पन्न किया और हमारे सनातन ऋषियों विवाह का अद्भुत विधान बनाया | विवाह विधान मानव जीवन का स्वर्णिम अवसर होता है जहां पर एक अजनबी वर कन्या से मिलता है एवं गृहस्थ धर्म में प्रवेश करता है | आदिकाल में कन्या एक बार अपने वर का चयन करती थी एवं जीवन पर्यंत उसी के प्रति समर्पित होकर सृजन एवं संचालन का कार्य करती थी | यही कारण है कि हमारे देश में अनेक महान नारियों का चरित्र पढ़ने और सुनने को मिलता है | विवाह विधान कई प्रकार के बताए गए उनमें से "ब्रह्म विवाह" सर्वश्रेष्ठ माना गया है जिसका कमोबेश प्रचलन समाज में आज भी है | जहां कन्या अपने पिता के द्वारा चुने हुए वर को अपना जीवन साथी मान कर अपना संपूर्ण जीवन व्यतीत करने का प्रण लेती है | जीवन में एक बार पिता के द्वारा जिसका हाथ पकड़ा दिया जाता था वही उसका पति माना जाता था | विवाह के पहले कन्या अपने पति का मुंह भी नहीं देख पाती थी इसका प्रभाव भी होता था की बर का कन्या के प्रति एवं कन्या का वर के प्रति आकर्षण बना रहता था एवं जीवन की गाड़ी सुचारू ढंग से चलती थी |* *आज समय परिवर्तित हो गया है और सभी लोग स्वयं को आधुनिक मानने लगे हैं | इस आधुनिकता में जीवन का महत्वपूर्ण विवाह विधान भी आधुनिक हो गया है | जहां पूर्वकाल में कन्या का एक बार विवाह होता था वही आज एक ही कन्या एक ही वर से तीन बार विवाह कर रही है | नये विधान के अंतर्गत जब गोदभराई होती है उसी समय वर कन्या एक दूसरे को जयमाल पहनाते हैं दूसरी बार द्वारपूजन के बाद जयमाल का आयोजन होता है तब कहीं जाकर की कन्या मंडप में वर का हाथ पकड़ती है | इस प्रकार एक ही कन्या के तीन बार विवाह आज का समाज स्वयं करा रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" विचार करता हूं कि जहां पूर्वकाल में वर एवं कन्या विवाह मंडप में ही परस्पर निरीक्षण करते थे वही आज विवाह तय होने के तुरंत बाद वर कन्या का आपस में मोबाइल के द्वारा रात्रि भर बात करना दोनों की प्रति आकर्षण को कम कर रहा है , एवं यही कारण है कि नए जीवन साथी के प्रति न तो आकर्षण रह गया है और ना ही प्रेम | जिसकी यह स्थिति बनती है कि आज विवाह बहुत जल्दी टूट रहे हैं एवं अदालतों में संबंधविच्छेद के अनेक मुकदमे इसी आधुनिकता का परिणाम है | हम अपनी सनातन संस्कृति को भूलते चले जा रहे हैं एवं अपनी कन्या को स्वयं उच्छृंखल बना रहे हैं | इसका दोषी में वर एवं कन्या को न मानकर परिवार के संरक्षक को ही मानता हूं | सारा दोष परिवार के संरक्षकों का होता है जिन्होंने कन्या को यह सुविधा प्रदान की होती है | गोपनीयता जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है इसे बनाए रखना चाहिए | इससे ज्यादा विकृति शहरों में देखने को मिलती हैं जहां विवाह के पहले ही वर कन्या रमणीक स्थानों पर घूम कर के एक दूसरे के साथ हैं जिसे आज की आधुनिक पीढ़ी "वेडिंग सेरेमनी" कहती है | विचार कीजिए हम कहां थे और कहां आ गये हैं |* *जब किसी संस्कृति के रक्षक ही उसके भक्षक बन जाते हैं तो स्थिति बड़ी भयावह हो जाती है | आज यही हो रहा है इस पर विचार करने की आवश्यकता है |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सम्पूर्ण सृष्टि परमपिता परमात्मा के द्वारा निर्मित है | इस सृष्टि में वन , नदियाँ , पहाड़ , जलचर , थलचर एवं नभचर सब ईश्वर को समान रूप से प्रिय हैं | मनुष्य उस ईश्वर का युवराज कहा जाता है | युवराज का अर्थ है राजा का उत्तराधिकारी जो राजा द्वारा संरक्षित वस्तुओं का संरक्षण करने का उत्तरदायित्व सम्हाले
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर अनेक प्राणियों के मध्य में मनुष्य सबसे ज्यादा सामर्थ्यवान एवं शक्ति संपन्न माना जाता है | अनेक प्राणी इस सृष्टि में ऐसे भी हैं जो कि मनुष्य अधिक बलवान है परंतु यह भी सत्य है कि मनुष्य शारीरिक शक्ति में भले ही हाथी , शेर , बैल , घोड़े आदि से कम हो परंतु बौद्धिक बल , सामाजिक बल एवं आत्
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x