नीति व नियम :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (45 बार पढ़ा जा चुका है)

नीति   व नियम :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना है इसकी परख जिस राजा में होती थी वह बहुत दिनों तक शासन करता था | कोई भी राजा कब तक कितना राज्य करेगा यह उसकी नीतियों पर निर्भर होता था | इसी तथ्य को प्रमाणित करते हुए परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने भी अपनी कालजयी रचना "मानस" में लिख दिया है :- "राज कि होइ नीति बिनु जाने" अर्थात बिना नीति के ज्ञान के कोई भी शासन नहीं कर सकता , किसी भी शासक की सफलता में एक महत्त्वपूर्ण बात यह होती थी कि राजा के मंत्री / सलाहकार कैसे हैं | प्रजा द्वारा किसी विषय पर समवेत स्वर में आवाज उठाने पर राजा उस पर ध्यान तो देते थे परंतु उनकी माँग को कब , कैसे पूर्ण करना है उस उचित समय की प्रतीक्षा करके ही कार्य करने वाले शासक कभी असफल नहीं हुए | बिना उचित अवसर के एवं बिना रणनीति बनाये कोई भी कार्य करने से सफलता संदेहात्मक हो जाती है , जबकि कुशल शासक वही होता था जो उचित समय पर समुचित रणनीति के साथ किसी कार्य को सम्पादित करता था | उसकी इस कार्यकुशलता पर प्रजा तो जय जयकार करती ही थी साथ ही उसका राज्य भी सुदृढ़ एवं अभेद्य रहता था |* *आज राजशाही समाप्त हो गयी अनेक छोटे - बड़े देशों का अस्तित्व प्रकाश में आया | राजा तो नहीं रह गये परंतु जनता द्वारा चुने गये शासक देशों पर राज्य कर रहे हैं | इन शासकों ने पुरातन नीतियों का त्याग नहीं किया है और जिसने नीतिविरोध कार्य किया वे संसार के पटल से मिट गये | राजनीति , कूटनीति एवं विदेशनीति का आज भी महत्त्वपूर्ण स्थान विद्यमान है | किसी भी देश का विकास आंतरिक नीतियों पर तो निर्भर ही होता है साथ यह पड़ोसी देशों पर निर्भर करता है कि वे कैसे हैं | यदि पड़ोसी दुष्ट मिल जाता है तो आधी ऊर्जा उधर ही लगी रहती है | हमारे देश भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान की दुष्टता जगजाहिर है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" कहना चाहूँगा कि विगत १४ फरवरी को हमारे देश के जवानों पर जो आत्मघाती हमला हुआ उसके विरोध पूरे देश में उबाल आ गया , प्रत्येक व्यक्ति बदला लेने की माँग करने लगा | परंतु हमारे देश के शासकों ने संयम का परिचय दिया | एक कुशल नीतिज्ञ शासक की तरह कूटनीति एवं राजनीति का सहारा लेकर उचित समय पर उचित कार्यवाही हमारे देश की सेना व शासकों ने करके देशवासियों का दिल तो जीत ही लिया साथ ही अपनी नीतिकुशलता का परिचय भी दिया | कोई भी शासक संयम का परिचय देते हुए उचित समय पर उचित निर्णय लेकर ही कुशलतापूर्वक शासन कर सकता है | जब तक शासन में बैठे लोग नीतियों का पालन न करके मनमानी करते है तब तक कोई भी देश सफल नहीं हो सकता |* *मानव जीवन में नीतियों का विशेष स्थान है नीति निपुण होकर ही जीवन को सुचारु ढंग से जिया जा सकता है |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर चौरासी योनियों का वर्णन मिलता है , इनमें से सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर मानव ने अनेक कीर्तिमान स्थापित किये | मनुष्य परमात्मा की सर्वश्रेष्ठ कृति है , सृष्टि के संचालन में सहयोग करने के लिए ईश्वर ने नर के साथ नारी का जोड़ा भी उत्पन्न किया और हमारे सनातन ऋषियों विवाह का अद्भुत विधान बनाया
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x