आस्तिक व नास्तिक :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

08 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (54 बार पढ़ा जा चुका है)

आस्तिक   व नास्तिक :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्तिक मिलना असंभव ही प्रतीत हुआ है | यदि देखा जाय तो नास्तिक का अर्थ होता है जो परमसत्ता के अस्तित्व को नकार दे | सामान्यतः सभी अनीश्वरवादी एवं भौतिकवादी सहित संशयवादियों के विचार एक स्वर में नास्तिक घोषित किए जाते रहे हैं | परंतु क्या वास्तव में उन्हें नास्तिक माल लेना सही होगा | उसी प्रकार आस्तिक पर यदि विचार किया जाय तो यह तथ्य निकल कर सामने आता है कि स्वयं को आस्तिक कहने वाले भी कहीं ना कहीं उस परमसत्ता को मानने में डगमगा जाते हैं | यह कहा जा सकता है कि आस्तिक और नास्तिक दोनों की आस्था ही कमजोर है | उस परमसत्ता की उपस्थिति या पूर्णतय: अनुपस्थिति की अवस्था दोनों को संशय में डाले रखती है | चाहे वह कथित आस्तिक हो या नास्तिक | जब भी अपने विश्वास पर पूर्ण निष्ठा की बात आती है तो दोनों ही भ्रमित दिखाई पड़ते हैं | जबकि यदि देखा जाय तो नास्तिक होना आस्तिक होने से कहीं अधिक कठिन है | जिसे अपने अतिरिक्त और किसी पर विश्वास ना हो ऐसे ही मनुष्य को नास्तिक कहा जा सकता है |* *आज यदि हम एक नास्तिक की खोज करने निकले तो समाज में कोई भी वास्तविक नास्तिक नहीं मिलना चाहता है | छद्मवेशधारी , पाखंडी , ढोंगी नास्तिक मिल जाएंगे जिनकी अपरिपूर्ण आस्था व्यर्थ ही है | आज समाज में तथाकथित नास्तिकों की संख्या अधिक दिखाई पड़ रही है जो कि ईश्वरीय सत्ता , वेद , पुराण आदि को झूठा सिद्ध करने में दिन-रात लगे होते हैं , परंतु शायद उनको नास्तिक शब्द का अर्थ भी नहीं पता होता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समाज में ऐसे अनेक लोगों को देख रहा हूं जिनके घरों में उनके पूर्वज एवं उनके माता-पिता तो अपने घर में देवी - देवताओं की कथा व पूजा समय समय पर किया करते हैं और ये स्वघोषित नास्तिक भी उन कार्यक्रमों में सम्मिलित होते हैं | यदि इनसे इस विषय में प्रश्न किया जाता है तो इनका जबाब यही होता है कि :- क्या करें ! हम तो नहीं मानते परन्तु परिवार व समाज के लिए ऐसा करना पड़ता है | सत्य यह है कि ऐसे लोग न तो नास्तिक होते हैं और न ही आस्तिक | ऐसे लोग सिर्फ और सिर्फ पाखंडी होते हैं आस्तिकता एवं नास्तिकता के बीच झूलते हुए अपना सम्पूर्ण जीवन व्यतीत कर देने वाले ऐसे लोग समाज में दिखावे के लिए तो झूठी शान बघारते रहते हैं परंतु अपने जीवन में कुछ भी करने के योग्य नहीं रह जाते | इनके विचार ही इन्हें जीवन भर परेशान करते रहते हैं कि मैं सही हूँ या नहीं ? ईश्वर को मानूँ या नहीं ? एक सच्चा नास्तिक ईश्वर के बहुत ही पास होता है | परंतु आज समाज की स्थिति देखकर कुछ भी कहना असम्भव सा है |* *आस्तिक हो या नास्तिक मनुष्य को दोनों ही अवस्थाओं में पूर्ण बनने का प्रयास करना चाहिए | क्योंकि अधकचरा ज्ञान एवं व्यवहार सदैव घातक ही होता है |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर अनेक प्राणियों के मध्य में मनुष्य सबसे ज्यादा सामर्थ्यवान एवं शक्ति संपन्न माना जाता है | अनेक प्राणी इस सृष्टि में ऐसे भी हैं जो कि मनुष्य अधिक बलवान है परंतु यह भी सत्य है कि मनुष्य शारीरिक शक्ति में भले ही हाथी , शेर , बैल , घोड़े आदि से कम हो परंतु बौद्धिक बल , सामाजिक बल एवं आत्
08 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
*इस धराधाम पर भाँति - भाँति के धर्म , सम्प्रदाय एवं पंथ विद्यमान हैं जो अपने - अपने मतानुसार जीवन को दिशा देते हैं | वैसे तो मनुष्य जिस धर्म में जन्म लेता है वही उसका धर्म हो जाता है परंतु इन धर्मों के अतिरिक्त भी मनुष्य के कुछ धर्म होते हैं जिसे प्रत्येक मनुष्य को मानना चाहिए | इनको कर्तव्य धर्म भी
28 फरवरी 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x