जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं ,आज नैनों को सब कहने दो न ा

10 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (26 बार पढ़ा जा चुका है)

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं ,आज नैनों को सब कहने दो न ा  - शब्द (shabd.in)

जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ,

कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा


एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,

छोड़ दे अगर ज़िन्दगी साथ मेरा , मेरे नब्ज में साँस बन तुम ही धड़कना माहिया ा


अधूरे -अधूरे से हम दोनों है , मेरी धड़कनो पर अपना चेहरा लिख दो न ,

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ा


दूर क्यों हो , पास आओ बैठो जरा , जो भी है दरमियाँ महसूस कर लो जरा ,

कल सफर में रहूँ या न रहूँ , तू जो कह दो तो आज हमदर्द बन जाऊ तेरा ा


खामोश हूँ मगर हलचल सी है अंदर कहीं , इस अनकहे अल्फ़ाज़ को सुन लो न ,

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 फरवरी 2019
तेरी आवाज़ ही अब तो बनी मेरा सहारा हैहजारों फूल खिलते हैं तूने जब भी पुकारा हैतू मेरी सांस बनके इस तरह जीवन में छाया है तेरे बिन ज़िन्दगी का अब नहीं होता गुजारा हैमुझे कड़वे सचों ने ज़िन्दगी के तोड़ डाला था मेरी उजड़ी सी हस्ती को फ़कत तूने निखारा हैबसी हूँ जब से पलकों में वहीं महफूज़ हूँ हरदम
27 फरवरी 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x