जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं ,आज नैनों को सब कहने दो न ा

10 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (71 बार पढ़ा जा चुका है)

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं ,आज नैनों को सब कहने दो न ा

जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ,

कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा


एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,

छोड़ दे अगर ज़िन्दगी साथ मेरा , मेरे नब्ज में साँस बन तुम ही धड़कना माहिया ा


अधूरे -अधूरे से हम दोनों है , मेरी धड़कनो पर अपना चेहरा लिख दो न ,

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ा


दूर क्यों हो , पास आओ बैठो जरा , जो भी है दरमियाँ महसूस कर लो जरा ,

कल सफर में रहूँ या न रहूँ , तू जो कह दो तो आज हमदर्द बन जाऊ तेरा ा


खामोश हूँ मगर हलचल सी है अंदर कहीं , इस अनकहे अल्फ़ाज़ को सुन लो न ,

जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2019
सोचा किए जो वो ना हुआ कुछ तो बात हैदिन का समय भी आएगा गर आज रात हैआज वो ऊँचा भी है और डालियां हैं संग पर जमीं पे एक दिन गिरता ये पात हैकोशिशें करता है जो वो जीत जाएगा वक्त से हर शै को तो मिलती ही मात हैअब क्या करें शिकायतें उस इंसान से यहाँजिसके लहू में बह रहा बस एक घात हैज़िन्दगी मधुकर चले बस निज उ
25 फरवरी 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
ला
25 फरवरी 2019
ना
25 फरवरी 2019
27 फरवरी 2019
11 मार्च 2019
11 मार्च 2019
02 मार्च 2019
25 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x