बच्चा नहीं सुनता आपकी बात, अपनाएं यह आसान उपाय

10 मार्च 2019   |  मिताली जैन   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

बच्चा नहीं सुनता आपकी बात, अपनाएं यह आसान उपाय

आज के समय में अधिकतर माता-पिता की यही शिकायत होती है कि बच्चे उनकी बात ही नहीं सुनते। वह हमेशा अपने मन की ही करते हैं या फिर छोटी-छोटी बातों पर जिद करते हैं। जिसके कारण माता-पिता को काफी परेशानी होती है। इस स्थिति से निपटने के लिए या तो माता-पिता उनकी बात मान लेते हैं या फिर उन पर गुस्सा करने लग जाते हैं। इसे किसी भी लिहाज से उचित नहीं माना जाता क्योंकि एक समय के बाद बच्चों पर उनका भी असर नहीं होता। ऐसे में जरूरी है कि आप कुछ आसान टिप्स अपनाएं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-


बदले अपना व्यवहार


अक्सर देखने में आता है कि माता-पिता बच्चे के व्यवहार में अनुशासन देखना चाहते हैं, जबकि उनके खुद के व्यवहार में ही अनियमितता होती है। कभी ऐसा होता है कि अभिभावक आॅफिस के काम या अन्य किसी परेशानी के चलते स्ट्रेस में होते हैं, तो वह अनायास ही बच्चे पर अपना गुस्सा निकाल देते हैं। ऐसा भूल से भी न करें। बच्चे को अनुशासित करने से पहले माता-पिता अपने व्यवहार को अनुशासित करें। आप चाहें माने या न मानें, बच्चे अभिभावकों की बातों से ज्यादा उनके द्वारा किए गए कार्य को नोटिस करते हैं और उसी का अनुसरण भी करते हैं। उदाहरणस्वरूप, अगर आपको टीवी देखने की लत है तो आप चाहकर भी बच्चों को टीवी से दूर नहीं रख सकते है। अगर आप बच्चों के स्क्रीन टाइम को सीमित करना चाहते हैं तो पहले खुद पर अंकुश लगाना सीखें। जब आपका व्यवहार अनुशासित होगा तो बच्चे भी खुद-ब-खुद आपकी नकल करने लगेंगे। उसके बाद बच्चे को समझाना या अनुशासित करना आपके लिए कठिन नहीं होगा।


न करें अपमानित


बच्चों को अनुशासित करने या फिर उनसे अपनी बात मनवाने से पहले उनके मनोविज्ञान को समझना बेहद आवश्यक है। जिस प्रकार अगर आपको कोई व्यक्ति कुछ कह देता है तो आपको काफी बुरा व अपमानित महसूस होता है, ठीक वैसा ही बच्चे के साथ भी होता है। अगर बच्चे द्वारा कोई गलती करने पर अगर आप उसे सार्वजनिक स्थान जैसे पार्क या माॅल आदि में उस पर चिल्लाते या गुस्सा करते हैं तो इससे बच्चा काफी नाराज हो जाता है। उसके बाद बच्चा बिल्कुल भी आपकी बात नहीं सुनता। जब पब्लिक प्लेस पर अनजान लोगों के सामने आप बच्चे पर चिल्लाते हैं तो बच्चा आप क्या कह रहे हैं इस बात पर फोकस नहीं करता बल्कि बल्कि वह इस बात से परेशान हो जाता है कि आसपास के लोग आपकी बातें सुन रहे हैं। इसलिए अगर बच्चा कोई गलती करता है तो सबसे सामने पर उस पर चिल्लाने की बजाय घर आकर उसे प्यार से समझाएं कि उसके द्वारा की गई हरकत आपको अच्छी नहीं लगी और आप उम्मीद करती हैं कि बच्चा वह गलती दोबारा नहीं दोहराएगा।


करते रहें प्रेरित


बच्चों की एक आदत होती है कि वह कोई भी कार्य तब तक करने के लिए तैयार नहीं होते, जब तक उन्हें उसके लिए एक वाजिब वजह न मिले। यही वजह उनके लिए अमुक कार्य को करने के लिए प्रेरणास्त्रोत बनती है। इसलिए माता-पिता का यह फर्ज है कि बच्चे से अपनी बात मनवाने के लिए उसे प्रोत्साहित अवश्य करें। इसके लिए आप चाहें तो उसके साथ मिलकर कोई एक्टिविटी कर सकते हैं। मसलन, अगर आप चाहते हैं कि बच्चों में रीडिंग हैबिट डेवलप हो तो उसके लिए बजाय उसे किताब देने के कहें कि अब से आप हर रात मिलकर एक स्टोरी पढ़ेंगे। इससे यकीनन उसे पढ़ने में मजा आएगा और पढ़ना उसकी आदत बन जाएगा। ठीक इसी तरह, बच्चे को रिवाॅर्ड देकर भी प्रोत्साहित किया जा सकता है। लेकिन इसका तरीका सही होना चाहिए। मसलन, अगर बच्चा कोई अच्छा कार्य करता है तो आप उसे उसकी कोई मनपसंद चीज या एक छोटी सी आईसक्रीम पार्टी दे सकते हैं। लेकिन उसे कभी भी बच्चे को घूस देने की कोशिश करें। बच्चे से काम करवाने का यह तरीका भले ही आपको आसान लगता हो लेकिन बाद में यह उसकी आदत में शुमार हो जाएगा। इतना ही नहीं, बच्चा अगली बार काम करने के लिए पहले किसी उपहार की डिमांड करेगा। इस तरह उसके भीतर एक तरह से दूसरों को ब्लैकमेल करने की प्रवृत्ति का विकास होगा, जो उसके लिए किसी भी लिहाज से उचित नहीं है।


जरूरी है आपसी विश्वास


किसी भी रिश्ते की मजबूती के लिए आपसी विश्वास का होना बेहद आवश्यक है, फिर चाहे बात आपके और बच्चे के रिश्ते की ही क्यों न हो। जब रिश्ते में आपसी विश्वास होता है तो आपको बच्चे को अनुशासित करने के लिए डांटने, मारने या फिर गुस्सा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर बच्चा आप पर विश्वास करने लगेगा तो बिना डरे अपने मन के सभी भावों को आपको बता पाएगा, जिससे आपको उसकी क्षमताओं व कमजोरियों का बेहद आसानी से पता लग जाएगा और आप उस पर काम कर सकते हैं। वहीं आपसी विश्वास के चलते बच्चा अपने माता-पिता की बात भी उतने ही धैर्यपूर्वक सुनता, समझता व उसका पालन करता है। अगर आप बच्चे को यह विश्वास दिलाते हैं कि आप बच्चे पर बहुत अधिक भरोसा करते हैं और वह ऐसा कुछ नहीं करेगा, जिससे आपको दुख हो। आपका यह छोटा सा कदम उसे किसी भी तरह का गलत व्यवहार करने से रोकेगा।


उम्र का ख्याल


एक गलती अक्सर हर पैरेंट्स करते हैं, वह बच्चों से परफेक्शन की उम्मीद रखते हैं। लेकिन बच्चों व बड़ों की उम्र में काफी अंतर होता है और इसलिए वह उस तरह व्यवहार नहीं कर सकते, जैसा आप उनसे अपेक्षा करते हैं। भले ही बच्चा कितना भी अच्छा या अनुशासित हो लेकिन कभी न कभी ऐसा भी होगा कि वह आपसे जिद करेंगे या फिर अनुशासन तोड़ेंगे। लेकिन उस स्थिति में जरूरत से ज्यादा रिएक्ट न करें और न ही बच्चों से नकारात्मक बातें कहें। बल्कि जहां तक हो सके, स्वयं के व्यवहार को संयमित रखें। साथ ही उन्हें यह समझाएं कि उसके इस व्यवहार से आपको काफी बुरा लगा है। साथ ही उससे यह वादा लें कि वह अगली बार ऐसा नहीं करेगा। इस तरह बच्चा बिना गुस्सा किए बिना भी अनुशासन में रहना सीख जाता है। हालांकि बच्चे के व्यवहार में परिवर्तन के लिए धैर्य, प्रेम व भरोसा दिखाना बेहद आवश्यक है।

अगला लेख: इन तरीकों से चुटकियों में करें फ्रिज की सफाई



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मार्च 2019
मेंहदी और महिला का एक अजीब सा नाता है। लड़की चाहे विवाहित हो या अविवाहित, बड़े शौक से मेंहदी को अपने हाथों पर लगाती है। इतना ही नहीं, इसे शुभ शगुन के रूप में भी देखा जाता है। यहां तक कि मेंहदी को स्त्री के सोलह श्रृंगार में स्थान दिया गया है। यही कारण है कि चाहे विवाह हो या करवाचैथ या फिर अन्य कोई तीज
06 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
मटर का सेवन लोग हर मौसम में बेहद खुश होकर खाते हैं। कभी सब्जी तो कभी पुलाव के तौर पर इसे काफी पसंद किया जाता है। खाने में बेमिसाल मटर के फायदे भी उतने ही लाजवाब है। इसमें प्रोटीन, फाइबर, विटामिन्स, फास्फोरस, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, काॅपर व जिंक जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के लिए बेहद
28 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
बहुत से लोगों को सोते समय खर्राटे लेने की आदत होती है, उन्हें भले ही इस बात का पता न चले लेकिन उनकी इस आदत के कारण आसपास सोने वाले लोगों को काफी तकलीफ होती है। यहां तक कि अन्य लोगों के लिए ठीक तरह से सो पाना भी काफी मुश्किल हो जाता है। अमूमन देखने में आता है कि जिन लोगों को सोते समय खर्राटे लेने की
25 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x