शायरी

11 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

शायरी  - शब्द (shabd.in)

मुझे देवी कहलाने का शौक नहीं , मुझे इंसान ही रहने दो ,

मत जकड़ो मुझे बेड़ियों में , मुझे आज़ाद ही रहने दो ,

नहीं चाहिए मुझे पल दो पल का दिखावटी सम्मान ,

कुछ देना ही है तो मुझे मेरा आसमान दे दो ा

अगला लेख: जो बात छिपाये हो तुम होठों में कहीं ,आज नैनों को सब कहने दो न ा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x