मेरे देश का किसान

12 मार्च 2019   |  सौरभ शर्मा   (140 बार पढ़ा जा चुका है)

किसी ने उसे हिंदु बताया,

किसी ने कहा वो मुसलमान था,

खुद को मौत की सजा सुनाई जिसने,

वो मेरे देश का किसान था।


जिसकी उम्मीदाें से कहीं नीचा आसमान था,

मुरझाकर भी उसका हौंसला बलवान था,

जब वक्त ने भी हिम्मत और आस छोड़ दी,

उस वक्त भी वो अपने हालातों का सुल्तान था।


किस्मत उसकी हारी हुई बाजी का फरमान था,

बिना मांस की देह वाला वो जवान था,

खुशी उसकी समा गई थी धरती की दरारों में,

घर उसका बस भूख का रेगिस्तान था।


दुनिया के मेले में वो बस दुःखों का धनवान था,

दाना चुगने वाले पंछियों से उसका खेत विरान था,

नजरों से पानी को टटोलता वो बादल में,

जाने किस धुन में मस्त वो भगवान था।


खुशहाल भविष्य की आस लगाकर,

उसके आंगन में खेलता हर बच्चा नादान था,

वो बचपन नहीं समझता था बाप की मजबूरी,

परतों तलें दबी आग से वो मासूम अंजान था।


अगला लेख: जिंदगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 मार्च 2019
मेरे पुराने मित्र शर्मा जी किसी पुराने पंडित की तरह धर्म क्रियाओं के पीछे भागने वालों में नहीं हैं, वो तो अपनी ही कपोल-कल्पनाओं में गुम रहने वाले स्वतंत्र विचारों के प्राणी हैं। उनकी अर्धांगिनी जी भी उन्हीं के प्रकार की हैं मगर भिन्नता
11 मार्च 2019
09 मार्च 2019
मै
ज्येष्ठ मास की दोपहर थी। चिलचिलाती धूप में जमीन तवे कीतरह तप रही थी। गर्म लू के थपेड़े शरीर में एक चुभन पैदा कर रहेथे। सूरज की तपिश से पसीना भी बाहर आने से डरता था। आसमानमें परिंदों का नाम ना था। उस आग बरसाते हुए आसमान के नीचेरियासतों की पलटनों में कोहराम मचा था। हर तरफ लाशें कटे हुएपेड़ों की तरह गि
09 मार्च 2019
01 मार्च 2019
"
"आतंकवाद जहाँ "--------------------सिर - बांधे लाल पगड़िया दुनिया को बताएगा तेरी करतूतों - कहर तुझको ही समझायेगा |गांती बांधे चलता था दुनिया पर कहर वर्षाया मैं! बातों से समझाता सब मिलजुल लतियायेंगे |धरा - अमन सभी चाहते कसमें सभीने खाई इ हर्षित रहते सारे बच्चे कौन तुझे
01 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x