मेरे देश का किसान

12 मार्च 2019   |  सौरभ शर्मा   (135 बार पढ़ा जा चुका है)

किसी ने उसे हिंदु बताया,

किसी ने कहा वो मुसलमान था,

खुद को मौत की सजा सुनाई जिसने,

वो मेरे देश का किसान था।


जिसकी उम्मीदाें से कहीं नीचा आसमान था,

मुरझाकर भी उसका हौंसला बलवान था,

जब वक्त ने भी हिम्मत और आस छोड़ दी,

उस वक्त भी वो अपने हालातों का सुल्तान था।


किस्मत उसकी हारी हुई बाजी का फरमान था,

बिना मांस की देह वाला वो जवान था,

खुशी उसकी समा गई थी धरती की दरारों में,

घर उसका बस भूख का रेगिस्तान था।


दुनिया के मेले में वो बस दुःखों का धनवान था,

दाना चुगने वाले पंछियों से उसका खेत विरान था,

नजरों से पानी को टटोलता वो बादल में,

जाने किस धुन में मस्त वो भगवान था।


खुशहाल भविष्य की आस लगाकर,

उसके आंगन में खेलता हर बच्चा नादान था,

वो बचपन नहीं समझता था बाप की मजबूरी,

परतों तलें दबी आग से वो मासूम अंजान था।


अगला लेख: जिंदगी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 मार्च 2019
मै
ज्येष्ठ मास की दोपहर थी। चिलचिलाती धूप में जमीन तवे कीतरह तप रही थी। गर्म लू के थपेड़े शरीर में एक चुभन पैदा कर रहेथे। सूरज की तपिश से पसीना भी बाहर आने से डरता था। आसमानमें परिंदों का नाम ना था। उस आग बरसाते हुए आसमान के नीचेरियासतों की पलटनों में कोहराम मचा था। हर तरफ लाशें कटे हुएपेड़ों की तरह गि
09 मार्च 2019
27 फरवरी 2019
तू जब भी पास होता है समय ये थम सा जा हैतेरी बातों में मेरा मन अचानक रम सा जाता हैदर्द मेरे भी दिल में था सुकूँ पर ना दिया रब ने मिला है तू मगर जब से हुआ ये कम सा जाता हैमिला जो तू मुकद्दर से खुशी इतनी मिली मुझकोये आंसू आँख को मेरी करे अब नम सा जाता हैमुहब्बत में लहू बन के तू जो नस नस में आ बैठा
27 फरवरी 2019
18 मार्च 2019
जिंदगी की खिड़की पे सुबह हुई,खुशियों की एक किरण हमें जगाने आई है।ख्वाबों के फूल खिलते हैं यहां,इस बागबान को मोहब्बत से सजाने आई है।यादों को भुला देते हैं हम वक्त के साथ चलते हुएअब हर लम्हें को यादगार बनाने आई है।जिंदगी में कोई कमीं महसूस ना हुई हमें,अब सच्ची खुशियों का राज बताने आई है।हारी-थकी हुई थी
18 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x