फागुनी बहार, छंद मुक्त काव्य

14 मार्च 2019   |  महातम मिश्रा   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

फागुनी बहार


"छंदमुक्त काव्य"


मटर की फली सी

चने की लदी डली सी

कोमल मुलायम पंखुड़ी लिए

तू रंग लगाती हुई चुलबुली है

फागुन के अबीर सी भली है।।


होली की धूल सी

गुलाब के फूल सी

नयनों में कजरौटा लिए

क्या तू ही गाँव की गली है

फागुन के अबीर सी भली है।।


चौताल के राग सी

जवानी के फाग सी

हाथों में रंग पिचकारी लिए

होठों पर मुस्कान नव नवेली है

फागुन के अबीर सी भली है।।


लहराती कदली सी

सावन की बदली सी

वसंत को आँचल में लिए

फूल से पहले की खिली कली है

फागुन के अबीर सी भली है।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंदमुक्त काव्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 मार्च 2019
दो
महिला दिवस पर प्रस्तुत दोहा आधारित गीतिका"गीतिका"पाना है सम्मान तो, करो शक्ति का मानजननी है तो जीव है, बिन माँ के क्या गाननारी की महिमा अमिट, अमिट मातु आकारअपनापन की मुर्ति यह, माता बहुत महान।।संचय करती चाहना, बाटें प्रतिपल स्नेहधरती जैसी महकती, रजनीगंधा जान।।कण पराग सी कोमली, सुंदर शीतल छाँवखंजन जस
05 मार्च 2019
06 मार्च 2019
छं
महिला दिवस को समर्पित"छंद मुक्त काव्य"महिला का मनसुंदर मधुवनतिरछी चितवननख-सिख कोमलता फूलों सीसर्वस्व त्याग करने वालीकाँटों के बिच रह मुसुकाएमानो मधुमास फाग गाए।।महिला सप्तरंगी वर्णी हैप्रति रंग खिलाती तरुणी हैगृहस्त नाव वैतरणी हैकल-कल बहती है नदियों सीहर बूँद जतन करने वालीनैनों से सागर छलकाएबिनु पान
06 मार्च 2019
06 मार्च 2019
छं
महिला दिवस को समर्पित"छंद मुक्त काव्य"महिला का मनसुंदर मधुवनतिरछी चितवननख-सिख कोमलता फूलों सीसर्वस्व त्याग करने वालीकाँटों के बिच रह मुसुकाएमानो मधुमास फाग गाए।।महिला सप्तरंगी वर्णी हैप्रति रंग खिलाती तरुणी हैगृहस्त नाव वैतरणी हैकल-कल बहती है नदियों सीहर बूँद जतन करने वालीनैनों से सागर छलकाएबिनु पान
06 मार्च 2019
23 मार्च 2019
अरविंद सवैया[ सगण ११२ x ८ +लघु ] सरल मापनी --- 112/112/112/112/112/112/112/112/1"अरविंद सवैया"ऋतुराज मिला मधुमास खिला मिल ले सजनी सजना फगुहार।प्रति डाल झुकी कलियाँ कुमली प्रिय फूल फुले महके कचनार।रसना मधुरी मधुपान करे नयना उरझे हरषे दिलदार।अँकवार लिए नवधा ललिता अँग
23 मार्च 2019
23 मार्च 2019
छं
रंगोत्सव पर प्रस्तुत छंदमुक्त काव्य...... ॐ जय माँ शारदा......!"छंदमुक्त काव्य"मेरे आँगन की चहकती बुलबुलमेरे बैठक की महकती खुश्बूमेरे ड्योढ़ी की खनकती झूमरआ तनिक नजदीक तो बैठदेख! तेरे गजरे के फूल पर चाँदनी छायी हैपुनः इस द्वार के मलीन झालर पर खुशियाँ आयी है।।उठा अब घूँघट, दिखा दे कजरारे नैनआजाद करा
23 मार्च 2019
07 मार्च 2019
कु
"चित्रलेखा""कुंडलिया"बचपन था जब बाग में, तोते पकड़े ढ़ेर।अब तो जंगल में कहाँ, मोटे तगड़े शेर।।मोटे तगड़े शेर, जी रहे अब पिजरे में।करते चतुर शिकार, नजर रहती गजरे में।।कह गौतम कविराय, उमर जब आती पचपन।मलते रहते हाथ, लौट आता क्या बचपन।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
07 मार्च 2019
28 फरवरी 2019
"कुंडलिया" मिलती जब प्यारी विजय, खिल जाता है देश।वीरों की अनुगामिनी, श्रद्धा सुमन दिनेश।।श्रद्धा सुमन दिनेश, फूल महकाए माला।धनुष बाण गंभीर, अमर राणा का भाला।।कह गौतम कविराय, विजय की धारा बहती।भारत देश महान, नदी सागर से मिलती।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
28 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x