अजवायन के अदभुत फायदे जानकर हैरान हो जायेगें ।

17 मार्च 2019   |  सतीश कालरा   (19 बार पढ़ा जा चुका है)

Third party image reference

भारत अपने मसालों के लिए प्रसिद्ध है, और यह स्वाद के साथ-साथ किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं । अजवायन के बीज फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट और खनिजों से भरपूर होते हैं । वे वजन प्रबंधन में मदद कर सकते हैं, वजन घटाने में सहायता कर सकते हैं और पाचन में भी सुधार कर सकते हैं । अजवायन बीज को भोजन में शामिल जा सकता है, कच्चा चबाया जा सकता है, या सिर्फ गर्म पानी के साथ निगल लिया जा सकता है । यहां बताया गया है कि वे मधुमेह के लोगों को रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में कैसे मदद कर सकते हैं ।

अजवायन के बीज में औषधीय गुण होते हैं । जो टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं । नीम पाउडर, जीरा पाउडर के मिश्रण को एक कप गर्म दूध के साथ सेवन रक्त शर्करा के नियंत्रण में सहायता करता है । इसके साथ अजवायन वजन को नियंत्रण में रखने में भी सहायता करता है । अजवायन के बीज के साथ आधा गिलास गर्म पानी पाचन को मजबूत रखने में मदद कर सकता है । यह कब्ज और अपच जैसी समस्याओं को दूर रख सकता है, जो वजन को नियंत्रण में रखने में सहायता करता है।

मधुमेह और वजन में फायदेमंद होने के अलावा, अजवायन के बीज कान के दर्द, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द और सामान्य सर्दी के मामले में भी आराम प्रदान कर सकते हैं । अस्थमा के रोगी भी अजवायन के बीज से लाभ उठा सकते हैं ।

यह भी पढ़े : अजवाइन के उदर विकारों में प्रयोग व 6 महत्वपूर्ण फायदे एवम् गुण

इस लेख में उल्लिखित सुझाव का उदश्य केवल सामान्य सूचना के लिए हैं, और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए । गंभीर रोगों में चिकित्सक की सलाह अवश्य लेवें ।

अगला लेख: इस बीज के फायदे जानकार हैरान हो जायेगें, जिसमें दूध व अखरोट से ज्यादा पोषक तत्व होते हैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2019
Third party image referenceजब बहुत अधिक ठंड हो तो ऐसी ठंड में जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक है, उन्हें रात में 10 बजे सोने के बाद से जब भी बिस्तर से उठे, तब आप एक दम से ना उठे। क्योँकि ठंड के कारण शरीर का खून गाढ़ा हो जाता है । और वह धीरे धीरे कार्य करने के कारण पूरी तरह हृदय में नहीं पहुँच पाता है। इसी
25 मार्च 2019
17 मार्च 2019
Third party image referenceबढती उम्र में व्यक्ति की काम करने की छमता कम हो जाती है, और व्यक्ति कमजोर भी होने लगता है, उसका डाइजेशन भी कमजोर होने लगता है । जब व्यक्ति की 30 वर्ष की उम्र को पार कर लेता है, तो व्यक्ति के शारीर में कैल्शियम को पूरी तरह से अवशोषण करने की क
17 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x