वेदरीति/लोकरीति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

वेदरीति/लोकरीति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार हुआ और वेदरीतियों से समायोजित करते हुए लोगों ने अपनी कुछ नीतियां बनाई जिन्हें "लोकरीति" कहा गया , फिर लोगों ने अपने पूर्वजों के अनुसार अपने कुल की कुछ विशेष रीतियाँ बनाईं जो "लोकरीति" के नाम से जानी जाती हैं | लोकरीति एवं कुलरीति का उद्गम स्थल वेदरीति ही है | सारी रीतियां वेदों से ही उद्धृत हुई हैं | सनातन धर्म के सभी पर्व एवं त्योहार एवं उनके नियम एक समान बनाए गए हैं परंतु विभिन्न अंचलों में लोकरीति एवं कुलरीति के अनुसार इनमें विभिन्नता देखने को मिलती रहती है | होली का त्यौहार एवं इससे जुड़े नीति नियम प्राय: एक ही है परंतु कहीं-कहीं इनमें लोकरीति का समायोजन हो गया है | इसी लोकनीति में प्रमुख एक यह है कि विवाहोपरांत कन्या की पहली होली ससुराल में ना होकर के मायके में ही होगी | यह वेदरीति ना हो करके लोकरीति है | इसके कारणों पर यदि विचार किया जाय तो विभिन्न मत निकल कर सामने आते हैं | देश के किसी भाग में यह माना जाता है कि सास एवं बहू को एक साथ होलिका दहन नहीं देखना चाहिए तो कहीं यह मान्यता है कि वर की प्रथम होली ससुराल में होनी चाहिए | कुल मिलाकर जो लोकरीति हमारे देश में चली आ रही है वह यह है कि कन्या की पहली होली नईहर (मायके) में ही होगी |* *आज भी समाज में इस रीति का पालन विशेषकर ग्रामीण अंचलों में किया जा रहा है | विवाहोपरांत कन्या की पहली होली ससुराल में अशुभ मानी जाती है , कारण कुछ भी हो | इस विषय पर कई विद्वानों से वार्ता करने पर एवं उसका सार निकालने पर मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इस निर्णय पर पहुंचता हूं कि जिस प्रकार होलिका अपने भतीजे प्रहलाद को मार डालने के उद्देश्य अग्नि में लेकर बैठी थी एवं स्वयं भस्म हो गई उसी कलंक को मिटाने के लिए हमारे पूर्वजों ने यह नियम बनाया होगा कि कन्या की पहली होली मायके में होगी , और वह अपने भतीजे को उबटन लगा कर के उस उबटन की मैल को होलिका में दहन करेगी | जिससे उसके भतीजे की रक्षा हो एवं मायके में आकर के भतीजे को जलाने का प्रयास करने वाला कलंक उस पर ना लगे | बहरहाल यह पौराणिक कारण नहीं हो सकता परंतु लोक मान्यता यही देखने को मिल रही है | भारत देश की यही विशेषता है भिन्न-भिन्न लोकरीति होने के साथ ही उसमें वेदरीति का समायोजन अवश्य होता है | अनेकता में एकता का ऐसा उदाहरण अन्य किसी देश में शायद ही देखने को मिले | इसीलिए हमारा देश भारत महान है | त्यौहार एक ही है मनाने की परम्परा भी एक है परंतु लोग इसे अपने अपने ढ़ग से ही मनाते हैं |* *होलिका दहन के दिन प्रत्येक प्राणी को अपनी बुराइयों का , अपने आसपास की नकारात्मकता का दहन करके उसी प्रसन्नता में एवं अबीर गुलाल चलाकर होली का पर्व मनाना चाहिए |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर ऋषियों - महर्षियों एवं राजा - महाराजाओं द्वारा लोक कल्याण के लिए यज्ञ / महायज्ञ का अनुष्ठान किया जाता रहा है | जहाँ सद्प्रवृत्तियों द्वारा लोक कल्याण की भावना से ये सारे धर्मकार्य किये जाते रहे हैं वहीं नकारात्मक शक्तियों के द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का विरोध करते हुए विध्वंस
08 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सम्पूर्ण सृष्टि परमपिता परमात्मा के द्वारा निर्मित है | इस सृष्टि में वन , नदियाँ , पहाड़ , जलचर , थलचर एवं नभचर सब ईश्वर को समान रूप से प्रिय हैं | मनुष्य उस ईश्वर का युवराज कहा जाता है | युवराज का अर्थ है राजा का उत्तराधिकारी जो राजा द्वारा संरक्षित वस्तुओं का संरक्षण करने का उत्तरदायित्व सम्हाले
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x