होली :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (16 बार पढ़ा जा चुका है)

होली :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतवर्ष त्यौहारों का देश है | समय समय पर होने वाले त्यौहार एवं उनकी विशालता ही हमारे देश को अन्य देशों से अलग करती है | सभी त्यौहारों में "होली" का विशिष्ट स्थान है | यह त्यौहार हमारे ही देश में नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | होली से जुड़ी कई पौराणिक कथायें मिलती हैं परंतु सबसे प्रमुख है भक्त प्रहलाद की कथा | होली की पूर्व संध्या पर "होलिकादहन" किया जाता है | होलिका भूतकाल के बोझ का सूचक है जो प्रहलाद की निश्छलता को जला देना चाहती थी परंतु नारायण भक्ति सराबोर प्रहलाद ने सभी पुराने (दैत्यकुलीन) संस्कारो को जला दिया फिर नये रंगों के साथ आनंद का स्रोत निकला | हिरणाकश्यप बुराई का प्रतीक है तो प्रहलाद विश्वास , आनंद एवं निश्छलता का | जब हम बुराई भरे भूतकाल को छोड़कर एक नई शुरुआत की ओर बढ़ते हैं तब हमारे जीवन में रंगों का फव्वारा फूटता है एवं हमारे जीवन में आकर्षण आ जाता है | होली में रंगों का बहुत ही महत्व है | उसी प्रकार मनुष्य की भावनाओं का सम्बन्ध भी एक रंग से होता है | लाल रंग क्रोध से , हरा ईर्ष्या से , पीला प्रसन्नता से , गुलाबी प्रेम से , नीला विशालता से , श्वेत शांति से , केसरिया त्याग/संतोष से एवं बैंगनी ज्ञान से जुड़ा हुआ है | होली के त्यौहार का सार जानकर ही सबको इसका आनन्द उठाना चाहिए | होली के दिन लोग पुरानी वैमनस्यता भूलकर एक दूसरे गले मिलते हैं एवं एक दूसरे को अबीर लगाकर नये सम्बन्ध की शुरुआत करते हैं | होली मनाने का अर्थ ही यही हुआ कि अपनी समस्त नकारात्मकता का दहन करके स्वयं में नये रंगो को भरकर जीवन को सतरंगी बना लिया जाय |* *आज जहाँ लोग बदल गये , समाज बदल गया वहीं त्यौहारों के रंग - ढंग भी बदलते हुए प्रतीत हो रहे हैं | आज बदलते दौर में होली को मनाने के पारंपरिक नियमों की जगह आधुनिक अश्लील फूहड़ता ने ले ली है जिसके फलस्वरूप अब शरीर के अंगों से केसर और चंदन की सुगंध की बजाय गोबर की दुर्गंध आने लग गई है | लोकगीतों में मादकता भरा सुरमय संगीत विलुप्त होने लगा है और अब उसकी जगह अभद्र शब्दों की मुद्राएं भी अंकित दिखलाई पड़ने लगी हैं | फाल्गुन के प्राचीन उपमा-अलंकार लुप्त हो गये हैं | मदन मंजरियां एवं पांवों में महावर लगाई वे सुंदरियां अब नहीं दिखाई पड़तीं जो बसंत के स्वागत में फागुनी गीत गाती संध्या के समय निकला करती थीं चंग-ढफ की थाप और ढोलक की गूंज के साथ फाग गायन को सुनने के लिए अब कान तरस रहे हैं | आज की स्थिति एवं आधुनिकता को देखते हुए मैं आचार्य अर्जुन तिवारी" यही कहना चाहूँगा कि होली उमंग, उल्लास, मस्ती, रोमांच और प्रेम-आह्वान का त्योहार है | कलुषित भावनाओं का होलिकादहन कर नेह की ज्योति जलाने और सभी को एक रंग में रंगकर बंधुत्व को बढ़ाने वाला होली का त्योहार आज देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी पूरे जोश के साथ जोरों-शोरों से मनाया जाता है | भले विदेशों में मनाई जाने वाली होली का मौसम के हिसाब से समय और मनाने के तरीके अलग-अलग हो, पर संदेश सभी का एक ही है- प्रेम और भाईचारा और यह बना रहना चाहिए |* *होली में कटुता , दुशमनी आदि को भुलाकर एक दूसरे को रंग एवं अबीर/गुलाल से सराबोर करके एक नये रंगभरे जीवन की शुरुआत ही इस त्यौहार को मनाने की सार्थकता है |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्त
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*हमारा देश भारत सदैव से एक सशक्त राष्ट्र रहा है | हमारा इतिहास बताता है कि हमारे देश भारत में अनेक ऐसे सम्राट हुए हैं जिन्होंने संपूर्ण पृथ्वी पर शासन किया है | पृथ्वी ही नहीं उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा करके वहाँ भी इन्द्रपद को सुशोभित करके शासन किया है | हमारे देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x