श्री राम नवमी

21 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (19 बार पढ़ा जा चुका है)

श्री राम नवमी

*रामनवमी का पवित्र दिवस जिसे श्री राम के प्राकट्योत्सव के रूप में मनाया जाता है दो दिन बाद आने वाला है | प्रतिवर्ष हम सभी बड़े हर्षोल्लास के यह पर्व मनाते चले आ रहे हैं | एक दिन यह पर्व मनाकर हम फिर इसे या भगवान राम के बताये मार्गों को भूलने लगते हैं | मर्यादापुरुषोत्तम की मर्यादा का पालन करना आज हमें दुरूह ही लगता है | लोग कहते हैं कि श्री राम भगवान थे और हम मनुष्य | हमारे वेद पुराण बताते हैं कि श्री राम कण कण में व्याप्त हैं | जब वे कण कण में व्याप्त हैं तो क्या हमारे अन्तर्मन में नहीं हैं ???? प्रत्येक प्राणी के रोम रोम में श्री राम समाये हुए हैं | आवश्यकता है कि हम अपने अन्दर छुपी हुई भगवान राम की शक्ति को पहचानते हुए उसे जागृत करने का प्रयास करें | जब हम श्री राम की उस उस शक्ति का स्मरण अपने भीतर करने लगेंगे तो कोई भी कार्य असंभव नहीं रह जायेगा | प्रत्येक मनुष्य के भीतर एक पवित्र आत्मा होती है और प्रत्येक आत्मा में परमात्मा का वास होता है | जब यह सिद्ध हो चुका है कि प्रत्येक आत्मा में परमात्मा का वास है तो इसका अर्थ यह हुआ कि मनुष्य द्वारा किये गये सारे कार्य परमात्मा द्वारा ही सम्पादित होते हैं | परंतु मनुष्य की मानसिकता इतनी निम्न हो गयी है कि वह समर्पण करने में अपना अपमान समझता है | जब उसके द्वारा किया गया कोई कार्य सफल हो जाता है तो उस सफलता का सारा श्रेय स्वयं ले लेता है ! तब वह अपने भीतर बैठे परमात्मा को भूल जाता है कि यह कार्य उस अदृश्य परमात्मा द्वारा किया गया है | परंतु जब वह किसी कार्य में असफल होता है तो सारा दोष परमात्मा को लगा देता है कि लारा कार्य भगवान ने बिगाड़ दिया |* *आज भी यह मानना है कि प्रत्येक मनुष्य के रोम रोम में श्री राम समाये हैं | श्री राम की तरह असीम शक्ति प्रत्येक मनुष्य में है परंतु वह अपनी शक्ति को पहचान नहीं पाता है | अपनी असीम शक्तियों को सक्रिय करने के लिए मनुष्य को एकाग्र होना पड़ेगा | जब मनुष्य एकाग्रचित्त होकर कोई कार्य करता है तो मनुष्य की ऊर्जा जागृत होकर सारा कार्य सफलता के साथ पूर्ण करती है | जहाँ तक मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समझ पा रहा हूँ कि सनातन धर्म में संध्या वन्दन करने का विधान शायद इसीलिए बनाया गया है कि मनुष्य इसी के माध्यम से एकाग्र होकर अपनी सुप्त शक्तियों को जागृत कर सके | मनुष्य के मस्तिष्क की शक्ति असीमित है बस आवश्यकता है इसे एकाग्र करके चरम पर पहुँचाने की | प्राय: मनुष्य को नकारात्मक विचार घेरे रहते हैं और मनुष्य इन्ही नकारात्मक विचारों में फंसकर अपनी सकारात्मक शक्तियों को भूल जाता है और निराशा के सागर में डूबने लगता है | जब मनुष्य में नकारात्मकता को पिछाड़कर सकारात्मक विचार उत्पन्न होते हैं तो मनुष्य की आंतरिक शक्ति जागृत हो जाती है | रावण का वध करने के लिए उसकी विशाल सेना के समक्ष कुछ भालू और वन्दरों के साथ अपनी सकारात्मक शक्तियों को जागृत करके ही भगवान श्री राम ने चढाई की थी | जिस प्रकार कस्तूरी मृग की नाभि में होते हुए भी मृग उसकी सुगंध को पूरे जंगल में ढूंढा करता है उसी प्रकार अपने भीतर समाये हुए परमात्मा को मनुष्य अन्यत्र ढूंढा करता है |* *श्री राम नवमी का पर्व मनाना तभी सार्थक होगा जब हम अपने भीतर समाये हुए श्री राम की शक्तियों को जागृत करते हुए उनके आदर्शों / मर्यादाओं का पालन करने का प्रयास करते हुए सनातन की पुनर्स्थापना का प्रयास करेंगे |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्त
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x