वजन कम करने के लिए क्या-क्या करते हैं आप?

22 मार्च 2019   |  मिताली जैन   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

वजन कम करने के लिए क्या-क्या करते हैं आप?

आज के समय में अधिकतर लोग अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं और इसे कम करने की जद्दोजहद में लगे हुए हैं। यूं तो वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज व डाइट को ही सर्वाधिक उचित माना जाता है। लेकिन ऐसे भी बहुत से लोग है जो वजन कम करने के लिए कई अन्य तरीके भी अपनाते हैं। इनसे भले ही वजन कम हो जाए लेकिन स्वास्थ्य को हानि काफी अधिक होती है। हेल्दी रहने के लिए वजन कम करना जरूरी है, पर अगर गलत तरीके से वजन कम किया जाए तो इससे आपको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में-


स्लिमिंग पिल्स


आजकल मार्केट में कई तरह की स्लिमिंग पिल्स व फैट बर्निंग पिल्स काफी चलन में है। यह पिल्स अलग-अलग तरह से काम करती हैं। जहां कुछ दवाईयां भोजन में मौजूद फैट को बाॅडी में जमा नहीं होने देती, तो वहीं कुछ गोलियां आपकी भूख पर असर डालती है। भूख न लगने के कारण आप कम कैलोरी का सेवन करते हैं और वजन कम होता है। वहीं कुछ गोलियां ऐसी होती हैं, जो फैट को बर्न करने का काम करती है। इन गोलियों को एक या दो महीने तक तो लिया जा सकता है, लेकिन इस तरह की दवाईयों पर बहुत अधिक निर्भर होने से बचें। लंबे समय तक इनका सेवन कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा करता है। इन दवाईयों का अधिक सेवन करने से कोलेस्टाॅल बढ़ने की समस्या होती है और इसके अतिरिक्त दवाईयों के सेवन से ह्दय संबंधी समस्याएं भी उत्पन्न होती है। वहीं कई बार ऐसा भी देखा जाता है कि इन दवाईयों से कुछ समय के लिए तो वजन कम हो जाता है, लेकिन लाॅन्ग टर्म मंे वजन फिर से बढ़ने लगता है। इसलिए कभी भी बिना डाॅक्टर की सलाह के इन दवाईयों का सेवन न करें।


अगर लेते हैं प्रोटीन पाउडर


प्रोटीन शरीर के लिए बेहद ही महत्वपूर्ण माना गया है। यह वेट लाॅस करने के साथ-साथ मसल्स बिल्डअप करने में भी मदद करता है। आमतौर पर एक व्यस्क को एक दिन में 60 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है और लोग इसे तीन बराबर भागों में बांटकर तीन मील्स में लेते हैं। वहीं जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, वह हाई प्रोटीन डाइट लेते हैं, जिसमें लोग भोजन में तो हाई प्रोटीन खाद्य पदार्थों का सेवन तो करते हैं ही, साथ ही प्रोटीन पाउडर का सेवन भी करते हैं। प्रोटीन पाउडर सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है। लेकिन अगर आप वेटलाॅस के लिए प्रोटीन पाउडर का सेवन कर रहे हैं तो एक बात का विशेष ध्यान रखें कि इसके साथ-साथ एक्सरसाइज अवश्य करें। अगर बिना एक्सरसाइज के प्रोटीन पाउडर का सेवन किया जाता है तो इससे वजन कम होने के स्थान पर बढ़ने लगता है।


डिटाॅक्स डिंक्स व डाॅइट


बहुत से लोग कई तरह की डिटाॅक्स डिंक्स या डाइट जैसे जीएम डाइट, कीटो डाइट आदि को फाॅलो करते हैं और इससे बहुत जल्द व इफेक्टिव रिजल्ट भी नजर आते हैं। लेकिन इस तरह की डिटाॅक्स डिंक्स व डाइट वाॅटर रिटेंशन को कम करने का काम करते हैं, शरीर के फैट को बर्न करने का काम नहीं। जिससे वेट लाॅस एक या दो दिन में ही नजर आता है, परंतु वास्तव में ऐसा होता नहीं है। क्योंकि इस तरह कम किया हुआ वजन तीन-चार दिन में ही वापिस लौटकर आ जाता है और आप हताश हो जाती हैं। कुछ महिलाएं तो मानती हैं कि उनका वजन कभी कम हो ही नहीं सकता। आप डिटाॅक्स डिंक्स का सेवन कर सकती है ताकि बाॅडी के टाॅक्सिंस फलश आउट हो जाएं। लेकिन अगर आप ताउम्र हेल्दी रहकर वजन को संतुलित करना चाहती हैं तो सिर्फ शार्टकट के भरोसे ही न बैठी रहें। याद रखें कि सफलता का कोई शाॅर्टकट नहीं होता और शाॅर्टकट से हासिल की गई सफलता स्थायी नहीं होती।


छोटी-छोटी बातें


एक्सरसाइज वजन कम करने का एक बेहतरीन तरीका है, लेकिन इसके साथ-साथ कैलोरी इनटेक पर भी ध्यान दें। जब कैलोरी इनटेक कम हो जाता है तो बाॅडी शरीर में स्टोर फैट की खपत उर्जा के रूप में करती है, जिससे वेट लाॅस व फैट बर्न होता है। इसलिए एक्सरसाइज के साथ डाइट पर विशेष ध्यान दें। वजन कम करने के लिए प्रतिदिन 1000 से 1200 कैलोरी ही लें।

कभी भी एकदम से वजन कम करने की कोशिश न करें। महीने में सिर्फ तीन से चार किलो वजन कम करने का लक्ष्य ही निर्धारित करें। अगर आप इससे अधिक वजन कम करते हैं तो वास्तव में आप फैट लूज नहीं कर रहे, बल्कि मसल्स लाॅस और बाॅडी वाॅटर लाॅस कर रहे हैं। जो वास्तव में हेल्थ के लिए अच्छा नहीं है।

वजन कम करने में यकीनन डाइट का एक अहम रोल है, लेकिन इसका अर्थ यह कतई नहीं है कि आप भूखे रहें। ऐसे में जब भूख लगती है, तो व्यक्ति उल्टा सीधा खाता है, जिससे कैलोरी इनटेक अधिक होता है, इसलिए हर दो-दो घंटे में कुछ न कुछ हेल्दी खाएं। साथ ही अपने वाॅटर इनटेक पर भी पर्याप्त ध्यान दें।

भोजन में सिंपल कार्बोहाइडेट जैसे आलू, केला, मैदा, सफेद ब्रेड, सफेद चावल, चीनी, स्वीटनर, सोडा, डायट कोक, साफट डिंक्स, व फैट युक्त आहार का कम से कम सेवन करें। वहीं डाइट में हाई फाइबर व रेशे युक्त चीजों का सेवन अधिक करें। फाइबर की अधिकता वाले भोजन देर से पचते हैं और इन्हें पचाने में शरीर को अतिरिक्त उर्जा खर्च करनी पड़ती है, जिससे वजन कम होता है। साथ ही हाई फाइबर डाइट से पेट देर तक भरा रहता है।


अगला लेख: खाना खाने के बाद यह गलतियां पड़ जाती हैं सेहत पर भारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
आज अंतरराष्टीय महिला दिवस के दिन जब पूरे विश्व में महिलाओं की कामयाबी, उनके गुणों व क्षमताओं का बखान किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर फिर भी लोग मन ही मन एक बेटे की ही आस करते हैं। यह सच है कि आज के समय में स्त्रियों ने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन हर मोर्चे पर किया है। मैरी काॅम से लेकर मानुषी छिल्लर, हि
08 मार्च 2019
15 मार्च 2019
यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी फूड का सेवन करना बेहद जरूरी है। कई बार आपने फूड काॅम्बिनेशन के बारे में भी सुना होगा। अमूमन देखने में आता है कि लोग खाने में तो हेल्दी चीजों का तो सेवन करते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। इसके पीछे मुख्य कारण होता ह
15 मार्च 2019
25 मार्च 2019
सुंदर दिखने के लिए स्किन का अतिरिक्त ख्याल रखना बेहद आवश्यक है। लेकिन किसी भी उपाय का वास्तविक लाभ तभी होता है, जब व्यक्ति अपनी स्किन को ध्यान में रखकर ऐसा करें। अब जैसे मौसम में गर्मी बढ़ रही है, आॅयली स्किन के लोगों की परेशानी बढ़ने लगी है। दरअसल, मौसम गर्म होने के कारण उनकी स्किन पर तेल का स्त्राव
25 मार्च 2019
08 मार्च 2019
स्त्री, कहने को भले ही एक छोटा सा नाम लेकिन मानो उसमें पूरा संसार समाया है। वह एक बेटी है, एक पत्नी, एक बहू और एक मां और न जाने कितने ही रूपों में वह अपने कत्र्तव्यों का निर्वहन चुपचाप करती है। फिर चाहे स्त्री गृहिणी हो या कामकाजी, वह दुनिया की एक ऐसी इंसान है, जिसके नसीब में कभी छुट्टी नहीं लिखी हो
08 मार्च 2019
14 मार्च 2019
जिन महिलाओं की स्किन एक्ने प्रोन होती है, वह मुंहासों को छिपाने के लिए तरह-तरह के उपाय अपनाती हैं। यह उपाय भले ही कुछ देर के लिए इन मुंहासों को छिपा दें लेकिन इस तरह इनसे निजात नहीं मिलती। अगर आपकी स्किन भी ऐसी ही है तो अब आपको इन्हें छिपाने की जरूरत नहीं है। बल्कि जरूरत है कि आप इन्हें जड़ से ही मिट
14 मार्च 2019
13 मार्च 2019
सुबह के समय अगर गरमा-गरम चाय के साथ अखबार न मिले तो लगता है कि मानो दिन की शुरूआत ही न हुई हों। टेक्नोलाॅजी के इस युग में भले ही सारे खबरें आपको मोबाइल में मिल जाती हों लेकिन फिर भी अखबार पढ़ने का मजा कुछ और ही है। जो लोग प्रतिदिन अखबार पढ़ते हैं, उनके घर मंे महीने के अंत में काफी सारे अखबार इकट्ठे हो
13 मार्च 2019
15 मार्च 2019
यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी फूड का सेवन करना बेहद जरूरी है। कई बार आपने फूड काॅम्बिनेशन के बारे में भी सुना होगा। अमूमन देखने में आता है कि लोग खाने में तो हेल्दी चीजों का तो सेवन करते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। इसके पीछे मुख्य कारण होता ह
15 मार्च 2019
20 मार्च 2019
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर भारतीय किचन में बेहद आसानी से मिल जाती है। आमतौर पर लोग इसे बेहद मामूली समझते हैं। लेकिन वास्तव में यह बेहद खास है। इसे खाने से जहां आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं, वहीं अगर इसका प्रयोग स्किन पर किया जाए तो आप कई तरह की समस्याओं से आसानी से बच सकते हैं। तो चलिए आज
20 मार्च 2019
14 मार्च 2019
आज के समय में अधिकतर लोगों के पास इतना समय ही नहीं है कि वह अपनी सेहत का ध्यान रख सकें। सुबह की भागदौड़ और पूरा दिन काम करने की जद्दोजहद में उनकी सेहत की अनदेखी होती है और कब उनकी कमर का आकार बढ़ने लगता है, इसका उन्हें पता ही नहीं चलता। यह मोटापा अपने साथ अन्य भी कई समस्याएं लेकर आता है। यह सच है कि प
14 मार्च 2019
31 मार्च 2019
आज के समय में मोटापा जिस तरह एक महामारी की रूप ले चुका है, उसके कारण हर घर में कोई न कोई व्यक्ति इससे जूझता हुआ नजर आता है। यूं तो लोग वजन घटाने के लिए कई तरीके अपनाते हैं, लेकिन फिर भी उनका वजन कम नहीं होता। कुछ समय तक असर न दिखने के कारण उनके हाथ निराशा ही लगती है और फिर वह प्रयास करना ही छोड़ देते
31 मार्च 2019
14 मार्च 2019
बेदाग और खूबसूरत त्वचा यकीनन हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचती है और इसे पाने की चाहत आप मन ही मन करते होंगे। कई महिलाएं तो अपनी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए ब्यूटी पार्लर के चक्कर ही काटती रहती हैं या फिर ब्यूटी प्राॅडक्ट्स पर हजारों रूपए खर्च कर देती हैं। अगर आप भी ऐसा ही करती हैं तो अब इसे बंद कर
14 मार्च 2019
10 मार्च 2019
आज के समय में अधिकतर माता-पिता की यही शिकायत होती है कि बच्चे उनकी बात ही नहीं सुनते। वह हमेशा अपने मन की ही करते हैं या फिर छोटी-छोटी बातों पर जिद करते हैं। जिसके कारण माता-पिता को काफी परेशानी होती है। इस स्थिति से निपटने के लिए या तो
10 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x