समाज के प्रति दायित्व :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (5 बार पढ़ा जा चुका है)

समाज के प्रति दायित्व :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुगंध से परिपूर्ण बनाने के लिए संकल्प , संस्कार , सुविचार व समर्पण भाव कितना है | कोई भी सामाजिक संगठन मनुष्य के शरीर की तरह ही होता है | जिस प्रकार मनुष्य का शरीर कई अंगों से मिलकर बना है उसी प्रकार कोई भी सामाजिक संगठन अनेक विचारों से मिलकर बनता है | किसी व्यक्ति का समाज के प्रति वही दायित्व होता है जो शारीरिक अंगों का शरीर के प्रति | यदि शरीर के विभिन्न अंग इसी प्रकार स्वार्थी हो जायं तो यह निश्चित है कि शरीर के लिए खतरा उत्पन्न हो जाएगा | जिस प्रकार सबसे पहले भोजन मुंह में जाता है और मुंह भोजन को अपने तक ही सीमित रखें और कुछ देर बाद उसका स्वाद लेने के बाद थूक दे तो उसके इस स्वार्थ का परिणाम बड़ा भयंकर होगा | क्योंकि जब मुंह का चबाया हुआ भोजन शरीर में नहीं जाएगा तो ना तो रस बनेगा और ना ही रक्त , मांस , मज्जा आदि | इस क्रिया के बंद हो जाने पर शरीर कमजोर होने लगेगा | उसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति समाज का ध्यान ना दे करके स्वार्थ के लिए कार्य करने लगे तो समाज कमजोर होने लगेगा | प्रत्येक व्यक्ति समाज के लिए अपना दायित्व एवं अपनी भूमिका निस्वार्थ भाव से यदि निभाता रहे तो समाज उन्नति के शिखर पर पहुंच सकता है | किसी भी सामाजिक संगठन , किसी भी समाज में सर्वप्रथम प्रत्येक व्यक्ति को स्वयं अनुशासित एवं निष्ठावान होना चाहिए | यदि व्यक्ति स्वयं अनुशासित व निष्ठावान नहीं है तो समाज के अन्य व्यक्तियों को ना तो कुछ कह सकता है और ना ही समाज की प्रगति का पर्याय बन सकता है |* *आज समाज में समाज को आगे ले जाने के लिए संगठन तो अनेकों बन गये है , परंतु आज समाज की जो स्थिति है वह किसी से छुपी नहीं हुई है | इसके कारणों पर विचार किया जाता है तो यही तथ्य निकल कर सामने आता है कि मनुष्य किसी भी सामाजिक संगठन का सदस्य मात्र अपने स्वार्थ पूर्ति के लिए बन रहा है | अपने - अपने स्वार्थ में सभी लगे हुए हैं | समाज के प्रति अपने दायित्व एवं अपनी भूमिका का निर्वहन आज मनुष्य नहीं कर पा रहा है | स्वार्थ , झूठ एवं अवसरवाद आज अपने चरम पर है | यही कारण है कि कोई भी संगठन बनने के कुछ दिन के बाद ही ध्वस्त होने लगता है | जबकि मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि प्रत्येक मनुष्य को किसी भी समाज का ध्यान वैसे ही रखना चाहिए जैसे वह अपने शरीर का ध्यान रखता है | व्यक्ति एवं समाज वस्तुतः एक ही तरह है , दोनों का विकास दोनों पर समान रूप से निर्भर है | कोई एक बात पूरे समाज से एक साथ कह सकना संभव नहीं इसलिए यह उपाय द्वारा व्यक्तियों से ही कही जाती है | व्यक्ति को सामाजिक बनने को कहने का अर्थ यही है कि यह बात पूरी समाज से कहीं गई है | व्यक्ति यदि स्वयं को सुधार कर समाज अर्थात दूसरे लोगों का हितैषी और सहयोगी बन जाए तो समझना चाहिए कि पूरा समाज भी वैसा बन गया है | समाज के बिना मनुष्य का अस्तित्व नहीं रह जायेगा अत: प्रत्येक व्यक्ति को अपने सामाजिक दायित्वों का निर्वहन पूर्ण ईमानदारी से करना चाहिए |* *व्यक्तिवादी बनने के कारण ही आज समाज एवं सामाजिक संगठनों की दुर्गति देखी जा रही है | मनुष्य को व्यक्तिवादी ना बन करके समाज के प्रति समर्पित होना चाहिए |*

अगला लेख: प्रसन्नता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर ऋषियों - महर्षियों एवं राजा - महाराजाओं द्वारा लोक कल्याण के लिए यज्ञ / महायज्ञ का अनुष्ठान किया जाता रहा है | जहाँ सद्प्रवृत्तियों द्वारा लोक कल्याण की भावना से ये सारे धर्मकार्य किये जाते रहे हैं वहीं नकारात्मक शक्तियों के द्वारा इन धर्मानुष्ठानों का विरोध करते हुए विध्वंस
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि का सृजन करने वाली आदिशक्ति भगवती महामाया , जिसकी सत्ता में चराचर जगत पल रहा है ! ऐसी कृपालु / दयालु आदिमाता को मनुष्य अपनी आवश्यकता के अनुसार विभिन्न नामों से जानता है | स्वयं महामाया ने उद्घोष किया है कि :- मैं ही ब्रह्मा , विष्णु एवं शिव हूँ | वही आदिशक्ति जहां जैसी आवश्यकता पड़ती है वहां
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते हैं | यदि किसी में धैर्य नहीं है तो
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सम्पूर्ण सृष्टि परमपिता परमात्मा के द्वारा निर्मित है | इस सृष्टि में वन , नदियाँ , पहाड़ , जलचर , थलचर एवं नभचर सब ईश्वर को समान रूप से प्रिय हैं | मनुष्य उस ईश्वर का युवराज कहा जाता है | युवराज का अर्थ है राजा का उत्तराधिकारी जो राजा द्वारा संरक्षित वस्तुओं का संरक्षण करने का उत्तरदायित्व सम्हाले
08 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*हमारा देश भारत सदैव से एक सशक्त राष्ट्र रहा है | हमारा इतिहास बताता है कि हमारे देश भारत में अनेक ऐसे सम्राट हुए हैं जिन्होंने संपूर्ण पृथ्वी पर शासन किया है | पृथ्वी ही नहीं उन्होंने स्वर्ग तक की यात्रा करके वहाँ भी इन्द्रपद को सुशोभित करके शासन किया है | हमारे देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा ह
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर चौरासी योनियों का वर्णन मिलता है , इनमें से सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर मानव ने अनेक कीर्तिमान स्थापित किये | मनुष्य परमात्मा की सर्वश्रेष्ठ कृति है , सृष्टि के संचालन में सहयोग करने के लिए ईश्वर ने नर के साथ नारी का जोड़ा भी उत्पन्न किया और हमारे सनातन ऋषियों विवाह का अद्भुत विधान बनाया
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*सृष्टि के आदिकाल से इस धरा धाम पर मानव जाति दो खंडों में विभाजित मिलती है | पहला खंड है आस्तिक जो ईश्वर को मानता है और दूसरे खंड को नास्तिक कहा जाता है जो परमसत्ता को मानने से इंकार कर देता है | नास्तिक कौन है ? किसे नास्तिक कहा जा सकता है ? यह प्रश्न बहुत ही जटिल है | क्योंकि आज तक वास्तविक नास्त
08 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*आदिकाल से इस धराधाम का पालन राजा - महाराजाओं के द्वारा होता आया है | किसी भी राजा के सफल होने के पीछे मुख्य रहस्य होता था उसकी नीतियाँ | अनेक नीतिज्ञ सलाहकारों से घिरा राजा राजनीति , कूटनीति एवं राष्ट्रनीति पर चर्चा करके ही अपने सारे कार्य सम्पादित किया करता था | कब , किस समय , कौन सा निर्णय लेना ह
08 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
08 मार्च 2019
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जिन्ह
08 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x