मोह :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (51 बार पढ़ा जा चुका है)

मोह :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कुछ नहीं दिखाई पड़ता है उसी प्रकार मोह में भी सभी मनुष्य अंधे से हो जाते हैं | मोह में आँखें होते हुए भी नहीं होती हैं , मोह के अंधेपन को ही हमारे ऋषियों ने आध्यात्मिक अंधापन कहा है | मानव जीवन में सभी प्रकार के विकारों का कारण मोह ही है | मोहरूपी सिक्के का दूसरा पहलू है भय , जहाँ मोह होता है वहीं भय भी होता है | भय यह कि यह मिट न जाये और मोह यह कि स्वयं को बचायें कैसे ? मोह का मूल होता है अज्ञान एवं परिणाम होता है दुख | यदि मनुष्य किसी कार्य में असफल होता है तो दुख होता है और यदि सफल हो जाता है तो भी दुख ही उपस्थित होता है | मनुष्य के मन में विचार उठते हैं कि ज्यादा से ज्यादा धन हो , अच्छा मकान हो , ताकि जीवन सम्मान से व्यतीत हो सके ! यही मोह है | मोह में सभी दृश्य उल्टे हो जाते हैं जैसे :- जमीन , जायदाद , मकान मनुष्य जिसे अपना समझता है वह तो मनुष्य के जन्म लेने के पहले से यहाँ थीं और मरने के बाद भी यहीं रहेंगीं तो भला यह किसी की कैसे हो सकती हैं ? परंतु इसी जाल में मनुष्य जीवन भर उलझा रहता है | मेरा बेटा , मेरा पति , मेरी पत्नी आदि जो मेरे तेरे का विस्तार है यही मोह का अंधकार है | मेरे और हमारे का भाव ही मोहरूपी अंधकार बनकार फैलता चला जाता है | मैं और मेरे का भाव ही मोह की निशानी है |* *आज स्वयं को निर्मोही सिद्ध करते हुए अनेक लोगों ने घर परिवार का त्याग करते हुए सन्यास आश्रम तो ले लिया है परंतु प्रत्येक मठाधीश अपने आश्रम के ज्यादा से ज्यादा विस्तीर के मोह में ही जकड़ा हुआ दिखाई पड़ता है | आज के युग में चारों ओर मोह का ही साम्राज्य दिखाई पड़ता है | मनुष्य मोह में इतना अंधा दिखाई पड़ रहा है कि छोटी सी छोटी बात पर भी खून खराबा करने को तैयार दिखाई पड़ता है | आज मोह का विस्तार कितना है यह बताने की आवश्यकता नहीं है | लोग परिवार से आगे बढ़कर समाज व जाति विशेष के मोह में अंधे होकर साम्प्रदायिक होते जा रहे हैं | समय समय पर हमारे मार्गदर्शकों द्वारा मोह को त्यागने व इससे बचने के उपाय बताये जाते रहे हैं | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि जिस प्रकार किस्सी गन्ने से उसके रस को निकालने के लिए गन्ने को निचोड़ना पड़ता है उसी प्रकार मोह से बचने के लिए मनुष्य को भी स्वयं को निचोड़ना पड़ता है | स्वयं को निचोड़ने के विभिन्न मार्गों में सर्वश्रेष्ठ मार्ग है ध्यान का | ध्यान विधि के द्वारा मनुष्य अपने अन्तर्चक्षुओं का उन्मीलन करके ही संसार में व्याप्त मोहरूपी जाल से स्वयं को बचा सकता है | वैसे तो इस सकल सृष्टि में मोह एवं माया से कोई भी बच नहीं पाया है | बचता वही है जिसने ध्यान एवं योग का आश्रय ले लिया है | मोह से बचने का प्रथम स्तर है त्याग | बिना त्याग की भावना हृदय में उतेपन्न हुए मोह से बचना मुश्किल ही नहीं वरन् असम्भव है |* *मोहरूपी रात्रि में सभी संसारी जीव सोते हुए अनेक प्रकार के स्वप्न देखा करते हैं | इस मोहरूपी रात्रि में सोने से वही बच सकता है जो मैं एवं मेरे के भाव से विरक्त है |*

अगला लेख: परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x