सत्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (8 बार पढ़ा जा चुका है)

सत्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग करके नकारात्मकता की ओर अग्रसर हो जाता है | जबकि मनुष्य को किसी भी परिस्थिति में सत्य का त्याग नहीं करना चाहिए | सत्य परेशान तो हो सकता है परंतु पराजित कभी नहीं हो सकता है | जीवन में अनेकों कठिनाईयाँ सहने के बाद भी महाराज हरिश्चन्द्र ने सत्य को नहीं छोड़ा | पत्नी , पुत्र एवं स्वयं बिक तो गये परंतु सत्यमार्ग के पथिक बने ही रहे | जिसके परिणामस्वरूप आज युगों बीत जाने के बाद भी उनका नाम अमर है | इतिहास/पुराण में अनेकों ऐसे चरित्र देखने व पढ़ने को मिलते हैं जिन्होंने अनेक कठिनाईयों के बाद सत्य का त्याग नहीं किया | प्राय: लोग कहते हैं कि :- "सत्य कड़वा होता है" यह भी कहा जा सकता है | परंतु सत्य यह है कि सत्य कड़वा उसी के लिए होता है जिनके मन में पाप एवं स्वार्थ होता है | जिन्होंने किसी भी प्रकार का अपराध कर दिया हो वह सत्य को बर्दाश्त नहीं कर पाता और तिलमिला उठता है | विभीषण द्वारा लंकापति रावण को भी सत्य का दर्शन कराने का प्रयास किया गया था परंतु अपने किये अपराध , अहंकार के कारण वह सत्य को सुन न सका और तिलमिला कर विभीषण पर पदप्रहार करके निष्कासित कर दिया ! परिणामस्वरूप कुलविनाश हो गया | सत्य सर्वग्राह्य है परंतु कुछ लोग सत्य को सहन नहीं कर पाते ! कारण कि उनकी नींव ही असत्य पर आधारित होती है |* *आज के भोतिकवादी युग में यह तो नहीं कहा जा सकता कि सत्य का लोप हो गया है परंतु यह भी सत्य है कि आज सत्य के दर्शन भी दुर्लभ होते जा रहे हैं | कलियुग का प्रभाव माना जाय या फिर आज के मनुष्य की मानसिकता कि आज मनुष्य किसी को भी प्रसन्न करने के लिए असत्य का पहाड़ खड़ा कर देता है | आज कोई भी सत्य सुनना ही नहीं चाहता और न ही कोई सत्य कहना ही चाहता है | आज मुंहदेखी की राजनीति मुख्य है | वैसे यह बात तो बहुत पहले गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिख दी थी कि :- "जो कह झूठ मसखरी नाना ! सोई ग्यानी गुनवंत बखाना !! अर्थात जो जितना ज्यादा झूठ बोल लेगा इस कलियुग में वह उतना ही बड़ा ग्यानी एवं गुणी कहा जायेगा | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूँ कि आज यदि किसी को उसकी कमी बता दी जाय या उसे किसी नकारात्मक कार्य के लिए रोकने का पिरयास किया जाता है तो वह तिलमिलाकर अनाप - शनाप कार्य करते हुए अनर्गल पिरलाप करने लगता है | आज समाज के पुराधाओं / विद्वानों से लेकर रीजनीतिज्ञों तक सब के सब असत्य के ऊँचे आसन पर आसीन हैं | ऐसे लोगों को यह विचार करना चाहिए कि इस प्रतिस्पर्धी युग में अपना वही है जो आपकी कमियाँ बताकर आपको सावघान करने का प्रयास करता है | यद्यपि वह जानता है कि यह सतिय स्वीकार नहीं किया जायेगा परंतु वह प्रेमवश बार बार ऐसा करता रहता है जिससे कि भविष्य में आपका अहित न हो |* *सत्य का त्याग करके कुछ क्षण के लिए आनंद तो प्राप्त किया जा सकता है परंतु दूरगामी परिणाम कभी भी सुखद नहीं हो सकता |*

सत्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
21 मार्च 2019
*रामनवमी का पवित्र दिवस जिसे श्री राम के प्राकट्योत्सव के रूप में मनाया जाता है दो दिन बाद आने वाला है | प्रतिवर्ष हम सभी बड़े हर्षोल्लास के यह पर्व मनाते चले आ रहे हैं | एक दिन यह पर्व मनाकर हम फिर इसे या भगवान राम के बताये मार्गों को भूलने लगते हैं | मर्यादापुरुषोत्तम की मर्यादा का पालन करना आज हम
21 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतवर्ष त्यौहारों का देश है | समय समय पर होने वाले त्यौहार एवं उनकी विशालता ही हमारे देश को अन्य देशों से अलग करती है | सभी त्यौहारों में "होली" का विशिष्ट स्थान है | यह त्यौहार हमारे ही देश में नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | होली से जुड़ी कई पौराणिक कथायें मिल
20 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
31 मार्च 2019
*यह समस्त सृष्टि निरन्तर चलायमान है ! जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा | कल इसी धरती पर राम कृष्ण आदि महान पुरुषों ने जन्म लिया था जो कि आज नहीं हैं ! आज हम सब इस धरती पर जीवन यापन कर रहे हैं कल हम भी नहीं रहेंगे ! हमारी आने वाली पीढ़ियां इस धरती पर विचरण करेंगी | जहाँ कल नदियाँ थीं
31 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x