आपसी मतभेद :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (26 बार पढ़ा जा चुका है)

आपसी मतभेद :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होने के बाद भी उनमें परस्पर असमानतायें देखने को मिलती है | यहां तक की वृक्षों में भी यह विचित्रता है | यह असमानतायें एवं बिचित्रतायें सर्वत्र दिखाई पड़ती है | जब प्रत्येक स्थान पर प्रत्येक जीव में भिन्नता है तो विचार एक जैसे होंगे यह कैसे माना जा सकता है | प्रत्येक मनुष्य के विचार एवं उसके क्रियाकलाप भिन्न भिन्न होते हैं | एक ही समुदाय में , एक ही परिवार में , एक ही संगठन में रहते हुए भी विचारों में असमानताएं देखने को मिलती है | चाहे वह परिवार हो या कोई संगठन वह तभी सुचारू रूप से चल सकता है जब वहां के प्रत्येक सदस्य त्याग , प्रेम , स्नेह , उदारता एवं सहिष्णुता का भाव रखते हैं | जहां इन भावों की कमी होती है वहीं वह परिवार व संगठन टूटने लगता है | परिवार का मुखिया अपने परिवार को सुचारू रूप से चलाने के लिए कितना त्याग करता है इसका वर्णन कर पाना संभव नहीं है | किसी भी संगठन या परिवार में कुछ लोग सदैव असंतुष्ट ही रहते हैं क्योंकि उनको लगता है कि उनकी बात नहीं मानी जा रही है | यह असंतुष्टि जब अपनी पराकाष्ठा को पार कर जाती है तो ऐसे व्यक्ति बिना किसी कारण के ही परिवार के मुखिया अर्थात अपने पिता या किसी संगठन के मुखिया पर निराधार आरोप लगा कर के अपना परिवार अलग बना लेते हैं | ऐसा करके वह अपने अनुसार तो बहुत अच्छा करते हैं परंतु समाज की दृष्टि में उनकी स्थिति हास्यास्पद ही हो जाती है |* *आज के युग में एकल परिवारों की संख्या समाज में बढ़ रही है | आज पिता-पुत्र में गुरु - शिष्य में या किसी संगठन के संचालक और सदस्यों में जो कड़वाहट दिखाई पड़ रही है उसका कारण मात्र मनुष्य के संकुचित दृष्टिकोण एवं स्वार्थपूर्ण प्रवृत्ति ही है | जहां एक पिता अपने पुत्र के लिए अपना सर्वस्व अर्पित कर देता है वहीं पुत्र व्यक्तिगत स्वतंत्रता हेतु अनुशासन की अवज्ञा करते हुए अपना अलग बसेरा बनाने का प्रयास करता है | आज सोशल मीडिया के युग में लोग फेसबुक , व्हाट्सएप आदि पर विभिन्न विषयों पर समूह बनाकरके उस विषय पर आधारित चर्चा का आदान प्रदान करते देखे जा रहे हैं , परंतु यहां भी वही स्थिति है कि लोग जरा - जरा सी बात पर आपस में मतभेद पैदा करके समूह का त्याग कर देते हैं , और अपना अलग समूह या परिवार बना कर के पूर्ण स्वतंत्रता का अनुभव करते हैं | यहां तक कि लोग जिसको अपना गुरु मानते हैं उससे भी विद्रोह करके ऐसे कृत्य कर रहे हैं , जबकि मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे पुत्र एवं ऐसे शिष्य व किसी भी संगठन के सदस्य को निंदनीय ही कह सकता हूं | क्योंकि मनुष्य का सबसे शुभचिंतक , मित्र , हितैषी , पथप्रदर्शक एवं जीवन रक्षक पिता और गुरु ही हो सकता है | ऐसा कोई भी कृत्य करते समय मनुष्य को यह विचार करना चाहिए कि बचपन से लेकर के आज तक हम जिनके साथ रहे उनको किंचित विचार न मिलने मात्र से भला कैसे त्यागा जा सकता है ? परंतु आज यही हो रहा है जोकि उचित नहीं कहा जा सकता है | आपसी मतभेद ही पतन का कारण रही है , इसका लाभ सदैव विरोधियों ने ही उठाया है | ऐसे कृत्यों से बचने का प्रयास करना चाहिए |* *कुछ लोग यह भी कहते हैं कि "आवश्यकता आविष्कार की जननी है" यह सत्य है परंतु आवश्यकताएं परिवार में रहकर भी पूरी की जा सकती हैं | उसके लिए अलग परिवार बनाना आवश्यक नहीं है |*

अगला लेख: परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x