कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (41 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्धांत ऐसा है कि इसको कोई काट नहीं सकता है | अगर मनुष्य को सुख और दुख प्राप्त हो रहा है तो यह समझ लेना चाहिए कि यह उसके कर्मों का फल है , इसमें अन्य किसी का कोई दोष नहीं है | प्रत्येक मनुष्य अपना कर्म करने के लिए स्वतंत्र होता है | यदि वह सत्कर्म करता है तो उसका अच्छा फल मिलता है , वहीं दुष्कर्म करने वाले मनुष्य को दुख भोगने के साथ ही अपने कर्म फल का भी भोग करना पड़ता है | मानव शरीर में आकर के जीव जब कुछ विशेषाधिकार प्राप्त कर लेता है तो कभी - कभी वह विशेषाधिकार का हनन करने का भी प्रयास करता है , जिसके परिणामस्वरूप उसको उसका विपरीत परिणाम उसको भोगने पड़ते हैं | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव शरीर को पाकर कि यदि मनुष्य सत्कर्म नहीं कर पाता है तो यह उसके दुर्भाग्य के अतिरिक्त और कुछ नहीं कहा जा सकता है | लोग अपने कर्मों के अनुसार फल भोगते हैं और उसका दोष ईश्वर को लगाते हैं , जबकि जो भी जैसा कर्म करेगा उसको उसका फल अवश्य भोगना ही पड़ता है |* *आज के युग में मनुष्य इस प्रकार व्यस्त है कि अपनी व्यस्तता के चलते वह कभी कभी शुभाशुभ का विचार नहीं कर पाता है , और कभी जानकर और कभी अनजाने में पाप कर्म करता रहता है | जब उसका फल उसको भुगतना पड़ता है तो कभी इसका दोष अपने मित्रों पर , अपने सहचरों पर , परिवार के सदस्यों या फिर परमात्मा के ऊपर लगा देता है कि :- मैंने तो अपना कर्म किया परमात्मा ने फल नहीं दिया तो मैं क्या करूं ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे सभी लोगों को बताना चाहूंगा कि यदि किसान अपने खेत में गेहूं का बीज डालता है तो अरहर नहीं काट पायेगा , काटना उसको गेहूं ही पड़ेगा | यहां जैसा बोओगे वैसी ही फसल मिलती है | इसी प्रकार जैसा कर्म किया जाता है मनुष्य को वैसा ही फल मिलता है | यदि कोई अपनी वृद्धावस्था में अपने बच्चों के द्वारा उपेक्षित जीवन व्यतीत कर रहा हैं तो ऐसे लोगों को यह मान लेना चाहिए , या अपने पूर्व में किए हुए को याद करना चाहिए कि क्या उन्होंने अपने माता-पिता के साथ उचित व्यवहार किया था ? हां यह भी हो सकता है कि आपने ऐसा न किया हो , परंतु पूर्व जन्म के कर्म भी आपको इसी जन्म में भुगतने पड़ते हैं | तो हो सकता है कि पूर्व जन्म में आपके द्वारा आपके माता-पिता का अनादर किया गया हो उनकी उपेक्षा की गई हो ? क्योंकि आपके किए गए कर्मों के अतिरिक्त रत्तीभर भी आपको कुछ नहीं मिलना होता है | यही संसार का सत्य है , यही ईश्वर का न्याय है |* *मनुष्य अपने भविष्य का निर्माणकर्ता स्वयं होता है | यदि अच्छे फल की आकांक्षा हो तो अच्छे कर्मों के बीजों का रोपण करना ही होगा |*

अगला लेख: परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*इस सृष्टि में कुछ भी स्थिर नहीं है बल्कि सृष्टि के समस्त अवयव निरंतर गतिमान हैं | मनुष्य को देखने में तो यह लगता है कि सुबह हो गयी , दोपहर हो गयी , फिर शाम | दिन भर परिश्रम करके थका हुआ मनुष्य रात्रि भर सो जाता है पुन: नई सुबह की प्रतीक्षा में | दिन आते - जाते रहते हैं और जीवन व्यतीत होता चला जाता
05 अप्रैल 2019
20 मार्च 2019
*भारतवर्ष त्यौहारों का देश है | समय समय पर होने वाले त्यौहार एवं उनकी विशालता ही हमारे देश को अन्य देशों से अलग करती है | सभी त्यौहारों में "होली" का विशिष्ट स्थान है | यह त्यौहार हमारे ही देश में नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | होली से जुड़ी कई पौराणिक कथायें मिल
20 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x