कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्धांत ऐसा है कि इसको कोई काट नहीं सकता है | अगर मनुष्य को सुख और दुख प्राप्त हो रहा है तो यह समझ लेना चाहिए कि यह उसके कर्मों का फल है , इसमें अन्य किसी का कोई दोष नहीं है | प्रत्येक मनुष्य अपना कर्म करने के लिए स्वतंत्र होता है | यदि वह सत्कर्म करता है तो उसका अच्छा फल मिलता है , वहीं दुष्कर्म करने वाले मनुष्य को दुख भोगने के साथ ही अपने कर्म फल का भी भोग करना पड़ता है | मानव शरीर में आकर के जीव जब कुछ विशेषाधिकार प्राप्त कर लेता है तो कभी - कभी वह विशेषाधिकार का हनन करने का भी प्रयास करता है , जिसके परिणामस्वरूप उसको उसका विपरीत परिणाम उसको भोगने पड़ते हैं | चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव शरीर को पाकर कि यदि मनुष्य सत्कर्म नहीं कर पाता है तो यह उसके दुर्भाग्य के अतिरिक्त और कुछ नहीं कहा जा सकता है | लोग अपने कर्मों के अनुसार फल भोगते हैं और उसका दोष ईश्वर को लगाते हैं , जबकि जो भी जैसा कर्म करेगा उसको उसका फल अवश्य भोगना ही पड़ता है |* *आज के युग में मनुष्य इस प्रकार व्यस्त है कि अपनी व्यस्तता के चलते वह कभी कभी शुभाशुभ का विचार नहीं कर पाता है , और कभी जानकर और कभी अनजाने में पाप कर्म करता रहता है | जब उसका फल उसको भुगतना पड़ता है तो कभी इसका दोष अपने मित्रों पर , अपने सहचरों पर , परिवार के सदस्यों या फिर परमात्मा के ऊपर लगा देता है कि :- मैंने तो अपना कर्म किया परमात्मा ने फल नहीं दिया तो मैं क्या करूं ? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे सभी लोगों को बताना चाहूंगा कि यदि किसान अपने खेत में गेहूं का बीज डालता है तो अरहर नहीं काट पायेगा , काटना उसको गेहूं ही पड़ेगा | यहां जैसा बोओगे वैसी ही फसल मिलती है | इसी प्रकार जैसा कर्म किया जाता है मनुष्य को वैसा ही फल मिलता है | यदि कोई अपनी वृद्धावस्था में अपने बच्चों के द्वारा उपेक्षित जीवन व्यतीत कर रहा हैं तो ऐसे लोगों को यह मान लेना चाहिए , या अपने पूर्व में किए हुए को याद करना चाहिए कि क्या उन्होंने अपने माता-पिता के साथ उचित व्यवहार किया था ? हां यह भी हो सकता है कि आपने ऐसा न किया हो , परंतु पूर्व जन्म के कर्म भी आपको इसी जन्म में भुगतने पड़ते हैं | तो हो सकता है कि पूर्व जन्म में आपके द्वारा आपके माता-पिता का अनादर किया गया हो उनकी उपेक्षा की गई हो ? क्योंकि आपके किए गए कर्मों के अतिरिक्त रत्तीभर भी आपको कुछ नहीं मिलना होता है | यही संसार का सत्य है , यही ईश्वर का न्याय है |* *मनुष्य अपने भविष्य का निर्माणकर्ता स्वयं होता है | यदि अच्छे फल की आकांक्षा हो तो अच्छे कर्मों के बीजों का रोपण करना ही होगा |*

अगला लेख: परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x