परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (30 बार पढ़ा जा चुका है)

परिवार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असुर - राक्षसों तक का उद्भव एवं विकास परिवार में ही रहकर हुआ | भारतीय विचारकों ने भारतीय पारिवारिक संस्कृति का अवलोकन करने एवं परिवार की महत्ता को समझने के बाद ही "वसुधैव कुटुम्बकम्" जैसा उद्घोष करने में सक्षम हो सके | परिवार की परिभाषा का वर्णन करते हुए हमारे मनीषियों ने बताया है कि :- परिवार का अर्थ एक पवित्र बन्धन से है | परिवार वह संस्था है जहाँ विभिन्न स्तर , सोंच एवं व्यवहार के व्यक्तियों का समुदाय न केवल एक साथ रहता है बल्कि परस्पर आत्मीयता के सूत्र में बँधता भी है | ऐसा करते हुए कर्तव्य एवं अधिकार की नीतियों का पालन भी करता है | इस प्रकार जहाँ भी ऐसा जनसमुदाय बनता हो नि:संकोच उसे परिवार कहा जा सकता है | हमारे विद्वानों ने परिवार को मात्र विवाह एवं कुटुम्ब तक सीमित न करते हुए उसे विश्वस्तरीय सोंच प्रदान की जिसका परिणाम "वसुधैव कुटुम्बकम्" के उद्घोष के रूप में समाने आया | परिवार के बिना कोई भी जीव उत्पन्न नहीं हो सकता अत: सभी को पारिवारिक भावना का ध्यान रखते हुए अपने क्रियाकलाप करने चाहिए | किसी भी परिवार को चलाने के लिए उसके मुखिया को पूरी कुशलता अपनाने की आवश्यकता होती है | परिवार का मुखिया किसी भी कंपनी के प्रबंधक की तरह होता है | प्रबंधन क्षमता प्रत्येक परिवार के मुखिया में स्वमेव प्रकट हो जाती है |* *आज के युग में जिस प्रकार संयुक्त परिवार खत्म होने की कगार पर हैं एवं एकल परिवारों के मध्य टकराव एवं बिखराव स्पष्ट नजर आता है उसका कारण सिर्फ मनुष्य की व्यक्तिवादी संकीर्णता है | आज मनुष्य में आत्मीयता , परस्पर स्नेह , सहयोग , सदाचार एवं आपसी विश्वास का अभाव दिख रहा है | चाहे वह अपना परिवार हो , कोई संगठन हो या वैश्विक स्तर पर बात की जाय तो वहां भी मनुष्य को व्यक्तिवादी संकीर्णता के स्थान पर वसुधैव कुटुंबकम जैसी आत्मीयता परक भावना को ही स्थान एवं महत्व देना होगा | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि परिवारों का मुख्य आधार होता है परस्पर विश्वास एवं आत्मीयता , जबकि संकीर्णता , शूद्र सोच व्यक्तियों को स्वार्थी एवं निष्ठुर बनाती है , एवं अनुदारता एक दूसरे के प्रति आक्रमण करने को उकसाती है | दूसरों की पीड़ा एवं मनोभावों को ना समझ पाना ही परिवारों के टूटने का कारण कहा जा सकता है | जिन आदर्शों पर सुखी परिवारों का निर्माण होता है आज मनुष्य उन्हें भुला देने के कारण ही व्यक्तिगत स्तर पर पतित होता चला जा रहा है | आज यदि एकल परिवारों में भी पति पत्नी के मध्य संबंध विच्छेद हो रहा है तो उसका कारण यही है कि हम अपने संस्कारों को किनारे कर चुके हैं | भारतीय संस्कृति के पारिवारिक सूत्रों को आत्मसात नहीं कर पा रहे हैं | इसी कारण हमारे परिवार उजड़ रहे हैं और हम खड़े होकर तमाशा मात्र देखते रह जा रहे हैं |* *किसी भी मनुष्य का उत्थान एवं पतन उसके परिवार से मिले वातावरण की ही देन है | व्यक्ति जब पारिवारिक भावना का त्याग करके एकाकी हो जाता है तभी उसका परिवार टूटता है | ऐसी स्थित से स्वयं को बचाने का प्रयास प्रत्येक मनुष्य को करते रहना चाहिए |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
21 मार्च 2019
*रामनवमी का पवित्र दिवस जिसे श्री राम के प्राकट्योत्सव के रूप में मनाया जाता है दो दिन बाद आने वाला है | प्रतिवर्ष हम सभी बड़े हर्षोल्लास के यह पर्व मनाते चले आ रहे हैं | एक दिन यह पर्व मनाकर हम फिर इसे या भगवान राम के बताये मार्गों को भूलने लगते हैं | मर्यादापुरुषोत्तम की मर्यादा का पालन करना आज हम
21 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतवर्ष त्यौहारों का देश है | समय समय पर होने वाले त्यौहार एवं उनकी विशालता ही हमारे देश को अन्य देशों से अलग करती है | सभी त्यौहारों में "होली" का विशिष्ट स्थान है | यह त्यौहार हमारे ही देश में नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | होली से जुड़ी कई पौराणिक कथायें मिल
20 मार्च 2019
31 मार्च 2019
*यह समस्त सृष्टि निरन्तर चलायमान है ! जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा | कल इसी धरती पर राम कृष्ण आदि महान पुरुषों ने जन्म लिया था जो कि आज नहीं हैं ! आज हम सब इस धरती पर जीवन यापन कर रहे हैं कल हम भी नहीं रहेंगे ! हमारी आने वाली पीढ़ियां इस धरती पर विचरण करेंगी | जहाँ कल नदियाँ थीं
31 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मानव जीवन पाकर के प्रत्येक व्यक्ति सफल होना चाहता है | जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की इच्छा रखने वाला मनुष्य अपने उद्योग , प्रबल भाग्य एवं पारिवारिक सदस्यों तथा गुरुजनों के दिशा निर्देशन में सफलता प्राप्त करता है | परंतु मनुष्य की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि वह कितना सकारात्मक
29 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x