शीतला अष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

शीतला अष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*हमारा देश भारत पर्वों एवं त्योहारों का देश है | यहां पर पर्व एवं उत्सव का रस हमारे जीवन में घुला मिला हुआ है | किसी भी उत्सव के समय मन प्रफुल्लित हो जाता है | अनायास ही खुशियां मनाने लगता है , खुशियां बांटने लगता है | जीवन में जब भी कोई क्षण आनन्द उल्लास का आता है तो हमारा चित्त अनायास ही प्रसन्न हो जाता है और इसकी मधुरता को महसूस करता है , इस एहसास का नाम ही उत्सव है | उत्सव व उल्लास के क्षणों में व्यक्ति कुछ समय के लिए स्वयं को भूल जाता है एवं भारतीय संस्कृति में रचने बचने का प्रयास करता है | इन्हीं पर्व / त्योहारों में एक है शीतला अष्टमी का व्रत एवं पूजन | होली के ठीक ८ दिन बाद चैत्र कृष्ण पक्ष अष्टमी को शीतला अष्टमी का व्रत एवं पूजन महिलाओं द्वारा बड़े प्रेम व श्रद्धा के साथ किया जाता है | ऐसा मानना है शीतला अष्टमी के दिन शीतला माता की पूजा करने से बच्चों में होने वाले हैं रोगों से रक्षा तो होती ही है साथ स्वच्छता का एक संदेश पूरे समाज में जाता है | शीतला माता का अद्भुत स्वरूप हमारे पुराणों में वर्णित है | स्कंद पुराण के अनुसार शीतला माता गर्दभ (गधे) पर सवार है , जिनके एक हाथ में झाड़ू एवं दूसरे हाथ में शीतल जल से भरा हुआ कलश विराजमान है | नीम के पत्तों की माला पहने शीतला माता स्वच्छता की देवी के साथ साथ गर्मी से उत्पन्न होने वाले सभी प्रकार की बीमारियों को अपने शीतल जल से शांत करने वाली हैं , तथा जो विस्फोटक रोग (चेचक आदि ) मनुष्य को हो जाते हैं उनसे रक्षा करने वाली देवी को ही शीतला कहा गया है | शीतला माता की पूजा करके मनुष्य अपने परिवार व समाज को स्वच्छ रखते हुए इन सभी प्रकार के रोगों से बचाने की कामना करता है | इस व्रत की एक विशेषता और है कि शीतला अष्टमी के दिन एक दिन पहले का बनाया हुआ अर्थात बासी भोजन किया जाता है जिसे बसोड़ा भी कहा जाता है | इसके पीछे भी एक रहस्य छुपा हुआ है जिसे जानने की आवश्यकता है |* *आज के भौतिकवादी युग में जहां चारों ओर सेलसनातन धर्म के पर्व एवं त्योहारों पर उंगलियां उठाकर लोग हंसते हैं एवं सनातन धर्म के मानने वालों को अंधविश्वासी तक कह देते हैं , वहीं आज का विज्ञान जगत सनातन धर्म के सभी पर्वों पर शोध करके उनको मान्यता देने के लिए विवश हो रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि आज वैज्ञानिकों का भी मानना है कि शीतला अष्टमी का व्रत करना मनुष्य के लिए आवश्यक है क्योंकि इन्हें स्वच्छता की देवी कहा गया है | यदि मनुष्य के आसपास का परिवेश स्वच्छ रहेगा तो अनेक प्रकार के कीटाणुओं से रक्षा होगी एवं मनुष्य को रोग नहीं लगेगा | शीतला माता के हाथ में शीतल जल से परिपूर्ण कलश की व्याख्या वैज्ञानिकों ने इस प्रकार की है कि होली के बाद मौसम गर्म हो जाता है तब मनुष्य को शीतल जल ही ग्रहण करना चाहिए | एक दिन पहले का बना हुआ भोजन खाने के पीछे का रहस्य इस प्रकार बताया गया बै कि मनुष्य आज के बाद पूरी गर्मी भर बासी भोजन न खाये | इसीलिए बसोड़ा मनाने की प्रथा भी आम जनमानस में प्रचलित है | कहने का तात्पर्य है कोई भी पर्व , कोई भी त्यौहार मनाना व्यर्थ नहीं है बल्कि स्वयं में वैज्ञानिकता को समेटे हुए हैं , क्योंकि सनातन धर्म स्वयं एक वैज्ञानिक धर्म है | विज्ञान के सारे सूत्र हमारे वेदों से ही उद्धृत हुए हैं | परंतु आज स्वयं को ज्यादा पढ़ा लिखा मानने वाला समाज इनकी अवहेलना करके अपने जीवन में दुख एवं परेशानियों का अंबार लगा रहा है | सनातन की संस्कृति एवं मान्यताएं मानव मात्र के कल्याण के लिए बनाई गई जो इसे मान रहे हैं उनका कल्याण हो ही रहा है और जो इसकी अवहेलना कर रहे हैं उनका परिणाम भी समाज देख रहा है |* *कोई भी व्रत एवं कोई भी त्यौहार प्राकृतिक समयानुकूल होना ही सनातन की दिव्यता है क्योंकि इसमें वैज्ञानिकता का भी दर्शन होता है |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 मार्च 2019
*भारतवर्ष त्यौहारों का देश है | समय समय पर होने वाले त्यौहार एवं उनकी विशालता ही हमारे देश को अन्य देशों से अलग करती है | सभी त्यौहारों में "होली" का विशिष्ट स्थान है | यह त्यौहार हमारे ही देश में नहीं वरन सम्पूर्ण विश्व में पूर्ण हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है | होली से जुड़ी कई पौराणिक कथायें मिल
20 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*मानव जीवन में यदि मनुष्य अपने कर्मों का शुभाशुभ फल प्राप्त करता है तो वहीं उसके जीवन पर कुण्डली में उपस्थित ग्रहों का भी सीधा प्रभाव देखने को मिलता है | ग्रहों के दुष्प्रभाव से मनुष्य का जीवन इतना अधिक प्रभावित हो जाता है कि मनुष्य राजा भी बन सकता है एवं कुछ ही पलों में राजा भी रंक हो जाता है | कभी
05 अप्रैल 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*इस संसार में अनेकों प्रकार के पंथ , संप्रदाय एवं धर्म देखे जा सकते हैं , प्रत्येक धर्म एवं संप्रदाय का अपना अपना नियम अपने व्रत , पर्व , त्यौहार यहां तक कि "नववर्ष" भी अलग होते हैं | जिस प्रकार ईसा (अंग्रेजी), चीन या अरब का कैलेंडर है उसी तरह राजा विक्रमादित्य के काल में भारतीय वैज्ञानिकों ने इन सब
05 अप्रैल 2019
17 मार्च 2019
'
भव सागर, यह संसार है जीवन, सागर मझधार हैघोर, गहन विपदा है घेरेजीवन में है, तेेरे और मेरे झंझावत ढेरों पारावार हैलहरों से उठती, हुँकार है आशा और निराशा इसमेंजीवन की दो पतवार है निराशा से होता कहाँ ?जन-जीवन का उद्धार हैआशा से ही लगती यहाँनौका तूफानों से पार हैभव-स
17 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x