वाणी का संयम :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

वाणी का संयम :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम से उसे अभिव्यक्त करे | मनुष्य अपनी अभिव्यक्ति दो माध्यमों से ही कर पाता है प्रथम तो बोलकर एवं दूसरा लिखकर जिनमें से कुछ भी लिख पाने में मनुष्य एक निश्चित समय के बाद सक्षम हो पाता है परंतु बोलने की कला उसे जन्म से ही प्राप्त होती है | अपने अन्तर्मन के उद्गारों को , भावनाओं को , सुख एवं पीड़ा को वाणी के माध्यम से ही मनुष्य व्यक्त कर पाता है | प्रत्येक मनुष्य को अपनी वाणी पर संयम रखना चाहिए क्योंकि जहाँ वाणी मनुष्य के अस्तित्व एवं अभिव्यक्ति का प्रमुख आधार है वहीं एक प्रमुख कारण भी है जिसके माध्यम से मनुष्य की मानसिक शक्तियों का क्षरण सबसे अधिक होता है | मनुष्य यदि वाणी के माध्यम से सबका प्रिय बन जाता है तो मनुष्य के अहंकार , क्रोध , द्वेष , तृष्णा , वासना की अभिव्यक्ति वाणी के ही माध्यम से करके मनुष्य समाज में उपेक्षित होता रहा है | इसीलिए वाणी का संयम जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग माना गया है | जिन्हें अपनी वाणी पर संयम नहीं होता है उनकी आंतरिक एवं मानसिक शक्ति नष्ट होती रहती है और वे शारीरिक के साथ मानसिक थकान से थकित होकर पड़े रहते हैं |* *आज के युग में जहाँ भी दृष्टि दौड़ाओ वाणी का असंयम स्पष्ट दिखाई पड़ता है | परिवार से लेकर समाज तक , देश से लेकर विदेश तक यदि दृष्टि दौड़ाई जाय तो अनेक प्रकार की घटनाओं , परिवारों में विघटन , वैवाहिक सम्बन्ध - विच्छेदन , एवं समाज में फैली कटुता के मूल में वाणी का असंयम ही दिखाई पड़ता है | आज लोग बिना विचारे अपनी वाणी का प्रयोग कर रहे हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि कुछ भी बोल जाने के बाद मनुष्य यह जान भी जाता है कि हमें यह नहीं बोलना चाहिए था परंतु वह पश्चाताप न करके अपनी ओजस्वी वाणी से अनर्गल प्रलाप करता ही रहता है जिसका परिणाम आज सभी देख रहे हैं | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि वाणी की वाचालता शक्ति के क्षरण के अतिरिक्त संबंधों में कटुता भी पैदा करती है | जिनको दूसरों की चुगली करने की , निंदा करने की , द्वेषपूर्ण बातें कहने की आदतें पड़ती हैं उनके संबंध सदा विषाक्त ही बने रहते हैं | वाचाल व्यक्ति को बिना सोचे समझे कुछ भी बोल पड़ने की आदत पड़ जाती है , और इसलिए वह यह भी नहीं सोच पाता है कि मैं जो कह रहा हूं उसका दूसरों पर क्या प्रभाव पड़ेगा ? ऐसे लोग अपने आगे दूसरों की कभी नहीं सुनते हैं ऐसा करके भी किसी नवीन ज्ञान को जानने - सुनने का अवसर भी गंवा बैठते हैं | शब्द को ब्रह्म कहा गया है | ब्रह्म का प्रयोग कब ? कहां ? कैसे ? करना है यह आज का मनुष्य भूलता चला जा रहा है एवं इसके कारण ही आज समाज में जगह-जगह पर विघटन एवं कटुता का साम्राज्य स्पष्ट दिखाई पड़ता है |* *प्रत्येक मनुष्य को अपनी आंतरिक , मानसिक एवं शारीरिक शक्ति का संचय कर लेने के बाद बहुत सोच समझ कर विषयबद्ध वाणी का ही प्रयोग करना चाहिए |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*सनातन धर्म के संस्कार , संस्कृति एवं वैज्ञानिकता सर्वविदित है | सनातन धर्म के महर्षियों ने जो भी नीति नियम बनाये हैं उनमें गणित से लेकर विज्ञान तक समस्त सूत्र स्पष्ट दिखाई पड़ते हैं | सनातन धर्म के संस्कार रहे हैं कि मनुष्य जब गुरु के यहां जाता था तब वह सेवक बनकर जाता था | इस पृथ्वी पर एकछत्र शासन
20 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
21 मार्च 2019
*रामनवमी का पवित्र दिवस जिसे श्री राम के प्राकट्योत्सव के रूप में मनाया जाता है दो दिन बाद आने वाला है | प्रतिवर्ष हम सभी बड़े हर्षोल्लास के यह पर्व मनाते चले आ रहे हैं | एक दिन यह पर्व मनाकर हम फिर इसे या भगवान राम के बताये मार्गों को भूलने लगते हैं | मर्यादापुरुषोत्तम की मर्यादा का पालन करना आज हम
21 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*परमात्मा द्वारा सृजित यह सृष्टि बड़ी ही विचित्र है | ईश्वर ने चौरासी लाख योनियों की रचना की ! पशु , पक्षी , मनुष्य , जलचर आदि जीवों का सृजन किया | कहने को तो यह सभी एक जैसे हैं परंतु विचित्रता यही है कि एक मनुष्य का चेहरा दूसरे मनुष्य से नहीं मिलता है | असंख्य प्रकार के जीव हैं , एक ही योनि के होन
27 मार्च 2019
30 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर परमात्मा की सर्वोत्कृष्ट रचना मनुष्य को मानी गई है | जन्म लेने के बाद मनुष्य ने धीरे धीरे अपना विकास किया और एक समाज का निर्माण किया | परिवार से निकलकर समाज में अपना विस्तार करने वाला मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेक प्रकार के रिश्ते बनाता है | इन रिश्तो में प्रमुख होती है मनुष्य
30 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x