पुस्तक का महत्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

29 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

पुस्तक का महत्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने के लिए हम भले ही विद्यालय गुरु के पास जाते हैं परंतु ज्ञान का स्रोत इन पुस्तकों में ही मिलता है | जो इन पुस्तकों का अध्ययन करता है उसका सामाजिक और मानसिक विकास होता है | मनुष्य का उचित मार्गदर्शन करके पुस्तकें मनुष्य की सच्ची मित्र होती है , जिन्हें पढ़कर मनुष्य अपनी संस्कृति व सभ्यता के विषय में ज्ञान प्राप्त करता है | इस नश्वर संसार में सब कुछ परिवर्तनशील है | अनेक पौराणिक एवं ऐतिहासिक भवन एवं घटनाएं भले ही नष्ट हो गई है परंतु आज भी हमारी पुस्तकों में यह सब सुरक्षित है , जिनको पढ़कर के मनुष्य अपने इतिहास के विषय में जान पाता है | वहीं धार्मिक पुस्तकों को पढ़करके मनुष्य परम शांति का अनुभव करता है | पुस्तकों में लिखी हुई प्रत्येक बात जीवन के किसी न किसी पड़ाव में अवश्य काम आती है | यह सब देखते हुए कहा जा सकता है कि पुस्तकों का मानव जीवन पर बहुत महत्व है , जो मनुष्य को संस्कार और ज्ञान दे करके मानव से महामानव बना सकती हैं | इस संसार में पुस्तकें अमर हैं उनका कभी निधन नहीं होता है | बहुत सी प्राचीन पुस्तक लिखने वालों का तो निधन हो गया लेकिन उनके द्वारा लिखी गई पुस्तक आज भी जीवित है , और मानव मात्र का मार्गदर्शन कर रही हैं | प्रत्येक मनुष्य समय समय पर पुस्तकों का अध्ययन अवश्य करते रहना चाहिए |* *आज हमारे देश का दुर्भाग्य है कि आज की अधिकतर युवा पीढ़ी की पुस्तकों के अध्ययन की आदत कम हो रही है अर्थात हमारी युवा पुस्तकों से अपनी दूरी बना रहे है | यदि देखा जाय तो एक और जहां हिन्दी पुस्तकों को पढ़ने के प्रति युवाओं में अरुचि पैदा हुई है तो वही संपन्न वर्ग की पसंदीदा अंग्रेजी पुस्तकों के प्रकाशन में तेजी आई है | युवा पीढ़ी के लोग पुस्तकों का अध्ययन न करने के पीछे अपना यह तर्क दे सकते हैं कि आज उनके पास स्मार्टफोन और कंप्यूटर है , और इंटरनेट पर गूगल सर्च का इस्तेमाल करके कोई भी सूचना आसानी से प्राप्त कर सकते हैं | एक सीमा तक उनका यह तर्क सही भी है क्योंकि इनके माध्यम से किसी भी तरह की जानकारी को घर बैठे आसानी से देखा जा सकता है | परंतु मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि पढ़ने का जो आनन्द हमें पुस्तकों में मिलता है वह आनन्द हमें इंटरनेट के माध्यम से , या मोबाइल / कंप्यूटर से पढ़ने से नहीं प्राप्त हो सकता है | इन उपकरणों पर अधिक देर तक देखते रहने से आंखों में तनाव परेशानी बढ़ती है जबकि पुस्तकों को देर तक आसानी से पढ़ा जा सकता है | प्रत्येक मनुष्य को अच्छी पुस्तकें पढ़ने की आदत होनी चाहिए , क्योंकि कुछ अच्छा पढ़ने की प्रक्रिया से हमारे मन को मानसिक आहार मिलता है , विचारों को पोषण मिलता है और व्यक्ति के अंदर मानसिक समझदारी विकसित होती है | मनुष्य को अपने व्यक्तित्व में जिस तरह के आयाम का विकास करना हो उससे संबंधित पुस्तकों को उसे अवश्य पढ़ना चाहिए और उनकी अच्छे विचारों को ग्रहण करना चाहिए |* *यह सत्य है कि इंटरनेट व गूगल सर्च से हमें सभी प्रकार की जानकारियां प्राप्त हो रही हैं परंतु इनको पुस्तकों के विकल्प के रूप में नहीं रखा जा सकता है | इंटरनेट , गूगल सर्च पुस्तकों का विकल्प कभी भी नहीं बन सकता है |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अप्रैल 2019
*ईश्वर द्वारा बनाई हुई सृष्टि कर्म पर ही आधारित है | जो जैसा कर्म करता है उसको वैसा ही फल प्राप्त होता है | यह समझने की आवश्यकता है कि मनुष्य के द्वारा किया गया कर्म ही प्रारब्ध बनता है | जिस प्रकार किसान जो बीज खेत में बोता है उसे फसल के रूप में वहीं बाद में काटना पड़ता है | कोई भी मनुष्य अपने किए
05 अप्रैल 2019
21 मार्च 2019
*रामनवमी का पवित्र दिवस जिसे श्री राम के प्राकट्योत्सव के रूप में मनाया जाता है दो दिन बाद आने वाला है | प्रतिवर्ष हम सभी बड़े हर्षोल्लास के यह पर्व मनाते चले आ रहे हैं | एक दिन यह पर्व मनाकर हम फिर इसे या भगवान राम के बताये मार्गों को भूलने लगते हैं | मर्यादापुरुषोत्तम की मर्यादा का पालन करना आज हम
21 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस पृथ्वी पर जन्म लेने के बाद मनुष्य का परम लक्ष्य होता है भगवतप्राप्ति करना | भगवान को प्राप्त करने के लिए हमारे महापुरुषों ने अनेकानेक उपाय बताये हैं | अनेक उपाय करने के पहले आवश्यक है कि मनुष्य के हृदय में भक्ति का उदय हो क्योंकि बिना भक्ति के भगवान को प्राप्त कर पाना कठिन ही नहीं वरन् असम्भव है
16 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*चौरासी लाख योनियों में भटकने के बाद जीव को देव दुर्लभ मानव शरीर प्राप्त होता है | इस शरीर को पाकर के मनुष्य की प्रथम प्राथमिकता होती है स्वयं को एवं अपने समाज को जानने की , उसके लिए मनुष्य को आवश्यकता होती है ज्ञान की | बिना ज्ञान प्राप्त किये मनुष्य का जीवन व्यर्थ है | ज्ञान प्राप्त कर लेना महत्व
05 अप्रैल 2019
25 मार्च 2019
*चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गयी है | मनुष्य का जन्म मिलना है स्वयं में सौभाग्य है | देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में ऋषियों के द्वारा दिए गए सत्संग के फलस्वरूप जीव को माता पिता के माध्यम से इस धरती पर मानव रूप में आने का सौभाग्य प्राप्त होता है | इस प्रकार जन्म लेकर के मनुष्य
25 मार्च 2019
04 अप्रैल 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
04 अप्रैल 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x