जीवन में समभाव :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

31 मार्च 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (36 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन में समभाव :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*यह समस्त सृष्टि निरन्तर चलायमान है ! जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा | कल इसी धरती पर राम कृष्ण आदि महान पुरुषों ने जन्म लिया था जो कि आज नहीं हैं ! आज हम सब इस धरती पर जीवन यापन कर रहे हैं कल हम भी नहीं रहेंगे ! हमारी आने वाली पीढ़ियां इस धरती पर विचरण करेंगी | जहाँ कल नदियाँ थीं वहाँ आज मैदान दिखाई पड़ता है | जहाँ घने जंगल एवं पर्वत श्रृंखलायें थी वहाँ आज ऊँचे - ऊँचे भवन एवं बस्तियाँ दिखाई पड़ रही हैं | इस संसार में कुछ भी स्थाई नहीं है | यहाँ जो भी आया है उसका विनाश अवश्य होना है | इस संसार में यदि कुछ शेष रह जाता है तो वह है मनुष्य के कर्म एवं उसका नाम | यहाँ महान कर्म करने वालों को यदि याद किया जाता है तो बुरे कर्म करने वाले स्मरण किये जाते हैं परंतु याद करने के भावों में परिवर्तन आ जाता है | मनुष्य को जीवन में सदैव ऐसे कर्म करने चाहिए कि उसके न रहने के बाद भी यह संसार उनको याद करता रहे | किसी से द्वेष , बैर आदि रखकर किसी का अपमान करके या कुछ अनिष्ट करके मनुष्य कुछ पल के लिए तो स्वयं में प्रसन्न रह सकता है परंतु यह प्रसन्नता स्थाई नहीं रह सकती , क्योंकि यहाँ स्थाई कुछ भी नहीं है | मनुष्य अपने कर्मों के माध्यम से ही सुख , दुख प्रशंसा एवं बुराई प्राप्त करता है | मनुष्य परिवार में जन्म लेकर इस धराधाम पर विकास करता है उसके इस विकास में जहाँ माँ ने अपनी नींद , भूख , प्यास एवं आवश्यक आवश्यकताओं का त्याग किया होता है वहीं पिता ने दिन रात मेहनत करके उसे कुछ बनाने का प्रयास किया होता है ! मनुष्य को यह कभी नहीं भूलना चाहिए | मनुष्य के द्वारा यह भूलने का अपराध इसलिए नहीं करना चाहिए क्योंकि वह भी निरन्तर उसी दिशा में अगिरसर हो रहा होता है जहाँ उसे भी माता - पिता बनने का सौभाग्य प्राप्त होने वाला होता है | अत: यह ध्यान रखते हुए सावधान रहें कि जो हम आज बाँट रहे हैं वही हमको वापस मिलना है |* *आज संसार में मनुष्य की वह स्थिति हो गयी है कि जिसका वर्णन कर पाना ही मुश्किल है | आज सारा संसार राग , द्वेष , अहंकार के वशीभूत होकर अपना क्रियाकलाप सम्पादित कर रहा है | जहाँ विश्व के अनेक देश एक दूसरे के प्रति आमने - सामने खड़े हैं वहीं समाज की सबसे छोटी इकाई परिवार भी इससे अछूता नहीं रह गया है | आज मनुष्य जैसे ही कोई उच्चपद या तनिक धन पा जाता है उसको ऐसा प्रतीत होने लगता है कि इस समय मेरे समान कोई नहीं है | उस पदलोलुपता या धनलोलुपता में वह परिवार एवं समाज के लोगों को तुच्छ समझने लगता है | हद तो तब हो जाती है जब मनुष्य अपने माता पिता तक को ठुकरा देने का दुस्साहस कपने लगता है | जिन मित्रों के माध्यम से वह उच्चपद पर आसीन होता है उन्हीं को वह बैरी मानकर दुत्कारने का प्रयास करने लगता है | ऐसे सभी लोगो से मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का यही पूछना है कि क्या वह माँ की रातों की नींद वापस कर सकता है ? क्या पिता का समय या मित्रों का किया गया मार्गदर्शन वापस कर सकता है ?? शायद नहीं | आज जो जिस पद पर है वह उसी पद पर बना रहेगा यह आवश्यक नहीं है | अपने प्रेम एवं सम्बन्धों को बनाकर रखिये इस लम्बे जीवन में पता नहीं कब किसकी आवश्यकता पड़ जाय | चिड़िया आकाश में फर्राटे भरते समय यदि यह विचार करे कि पृथ्वी एवं पृथ्वीवासी तुच्छ हैं , मेरे समान नहीं हैं क्योंकि मैं तो आकाश में उड़ रही हूँ | विचार कीजिए कि वह आकाश में कब तक रह सकती है ? कभी तो वह समय आयेगा जब उसको पृथ्वी पर उतरना पड़ेगा | इसलिए कभी भी ऐसा विचार नहीं करना चाहिए | क्योंकि यहाँ कब क्या हो जाय कोई नहीं जान पाया है |* *यदि सम्भव हो सके तो सबसे प्रेमभाव बनाकर रखे ! न सम्भव हो तो द्वेषभाव भी न रखकर समभाव बनाने का प्रयास करते रहना चाहिए |*

अगला लेख: कर्मफल :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार आश्रमों के माध्यम से प्रतिपादित किया गया है | ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , वानप्रस्थ एवं सन्यास | सनातन धर्म में आश्रम व्यवस्था विशेष महत्व रखती है | यही आश्रम व्यवस्था मनुष्य के क्रमिक विकास के चार सोपान हैं , जिनमें धर्म , अर्थ , काम एवं मोक्ष आदि पुरुषार्थ चतुष्टय के समन
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*इस धराधाम पर सर्वोच्च प्राणी मनुष्य ने अपने व्यवहार व कुशल नीतियों के कारण समस्त पृथ्वी पर शासन करता चला आ रहा है | मानव जीवन में कौन किसका हितैषी है और कौन विपक्षी यह मनुष्य के वचन एवं व्यवहार से परिलक्षित होता रहा है | मनुष्य जीवन में मनुष्य अपने वचन पर स्थिर रहते हुए वचन पालन करते हुए समाज में स
16 मार्च 2019
16 मार्च 2019
*सनातन काल से मनुष्य भगवान को प्राप्त करने के अनेकानेक उपाय करता रहा है , परंतु इसके साथ ही भगवान का पूजन , ध्यान एवं सत्संग करने से कतराता भी रहता है | मनुष्य का मानना है कि भगवान का भजन करने के लिए एक निश्चित आयु होती है | जबकि हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मनुष्य के जीवन का कोई भरोसा नहीं ह
16 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*भारतीय संस्कृति में समय-समय पर त्यौहार एवं पर्वों का आगमन होता रहता है | यह त्यौहार भारतीय संस्कृति की दिव्यता तो दर्शाते ही हैं साथ ही सामाजिकता एवं वैज्ञानिकता को भी अपने आप में समेटे हुए हैं | विभिन्न त्यौहारों में होली का अपना एक अलग एवं महत्त्वपूर्ण स्थान है | होली मनाने के एक दिन पूर्व "होलि
20 मार्च 2019
20 मार्च 2019
*आदिकाल में जब इस सृष्टि में मनुष्य का प्रादुर्भाव हुआ तो उनको जीवन जीने के लिए वेदों का सहारा लेना पड़ा | सर्वप्रथम हमारे सप्तऋषियों ने वेद की रचनाओं से मनुष्य के जीवन जीने में सहयोगी नीतियों / रीतियों का प्रतिपादन किया जिन्हें "वेदरीति" का नाम दिया गया | फिर धीरे धीरे धराधाम पर मनुष्य का विस्तार ह
20 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
30 मार्च 2019
*सनातन धर्म में तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है | इन देवी - देवताओं को शायद ही किसी ने देखा हो , ये कल्पना भी हो सकते हैं | देवता वही है जिसमें कोई दोष न हो , जो सदैव सकारात्मकता के साथ अपने आश्रितों के लिए कल्याणकारी हो | शायद हमारे मनीषियों ने इसीलिए इस धराधाम पर तीन जीवित एवं जागृत देवताओ
30 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x