प्रायश्चित :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (47 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रायश्चित :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर की बनायी इस सृष्टि में जीव चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करता है | अनेक जन्मों के किये हुए सत्कर्मों के फलस्वरूप जीव को यह दुर्लभ मानवयोनि प्राप्त होती है | जहाँ शेष सभी योनियों को भोगयोनि कहा गया है वहीं मानवयोनि को कर्मयोनि की संज्ञा दी गयी | इस शरीर को प्राप्त करके मनुष्य अपने कर्मों के माध्यम से जन्म जन्मान्तर में किये गये कर्म , अकर्म , विकर्म , दुष्कर्म आदि को भी सुधार सकता है | मनुष्य को पथभ्रष्ट करने वाले काम , क्रोध , मोह , लोभ एवं अहंकार सदैव तत्पर रहते हैं ! वैसे तो इनसे कोई भी नहीं बच पाता है परंतु प्रत्येक मनुष्य को इनसे बचने का उद्योग अवश्य करते रहना चाहिए | मनुष्य गल्तियों का पुतला कहा गया है | मनुष्य से भूल हो जाना स्वाभाविक भी है ! परंतु यहाँ यह विचार अवश्य करना चाहिए कि आखिर भूल क्यों हो रही है | यदि सूक्ष्म दृष्टि डाली जाय तो मनुष्य की गल्तियों के पीछे मुख्य कारण उपरोक्त षड्विकार (काम क्रोधादि) ही होते हैं | यदि मनुष्य से भूल हो जाना स्वाभाविक है तो उसका प्रायश्चित करके ही मनुष्य उस बोझ से छुटकारा भी पा सकता है | इन्द्रपुत्र जयन्त ने अभिमान में आकर भगवान श्रीराम की परीक्षा लेनी चाही परंतु परिणामत: उसके प्राण संकट में पड़ गये | अन्तत: वह प्रायश्चित हेतु भगवान श्रीराम की ही शरण में गया | क्रोध के वशीभूत होकर देवर्षि नारद ने अपने आराध्य श्रीहरि विष्णु को श्राप दे दिया परंतु उन्होंने भी अपनी भूल का प्रायश्चित किया | कहने का तात्पर्य यह है कि यदि मनुष्य को अपनी भूल का आभास हो जाय तो उसे प्रायश्चित कर लेना चाहिए | हमारे धर्मशास्त्र कहते हैं कि प्रायश्चित कर लेने मात्र से मनुष्य द्वारा किये गये कर्म तो नहीं मिट सकते परंतु उसका मिलने वाला फल अवश्य कम हो जाता है | प्रायश्चित करके मनुष्य के हृदय का बोझ अवश्य कम हो जाता है | इस संसार में कोई भी ऐसा नहीं नहीं हुआ है जिससे कभी कोई भूल न हुई हो परंतु श्रेष्ठ वही बनता है जो अपनी भूल को स्वीकार करके उसका प्रायश्चित कर लेता है |* *आज समाज बदला , लोग बदले हैं और बदल गई है मनुष्य की सोंच | मनुष्य को यह लगता है कि मैं जो कर रहा हूं या मैं जो कह रहा हूं वही सत्य है बाकी सब झूठ है | अपनी बात को सही साबित करने के लिए मनुष्य अनेकों तर्क कुतर्क करते हुए गलत तथ्यों को प्रस्तुत करता रहता है | आज के तथाकथित कुछ विद्वानों के आचरण देखकर मुझे "आचार्य अर्जुन तिवारी" को बड़ा आश्चर्य होता है कि जो विद्वान आम जनमानस को उपदेश देते हुए मानवीय भूल के लिए प्रायश्चित करने के प्रसंग प्रस्तुत कर रहे हैं उन्हें स्वयं के द्वारा की गयी भूल का आभास भी नहीं होता है | यदि किसी के द्वारा उन्हें उनकी भूल का आभास कराने का प्रयास भी किया जाता है तो वह उसको मानने को तैयार नहीं होते , क्योंकि कहीं ना कहीं से ऐसे लोग क्रोध , मोह , लोभ एवम् अहंकार के वशीभूत होकर के सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते | इस सत्य को स्वीकार न कर पाने के कारण ऐसे लोग अपने परिजनों , मित्रों एवं गुरुजनों से अलग होते चले जाते हैं | विचार कीजिए जो स्वयं अपनी भूल को नहीं स्वीकार कर पा रहे हैं वह समाज को अपनी भूल स्वीकार करके प्रायश्चित करने का विधान यदि बता रहे हैं यह हास्यास्पद ही लगता है | किसी को कुछ बताने से पहले उस विधान को स्वयं के ऊपर अवश्य लागू करना चाहिए अन्यथा वह प्रभावी नहीं होता है |* *भूल हो जाना मानव स्वभाव है परंतु प्रत्येक मनुष्य को समय रहते हुए अपनी भूल को स्वीकार करके प्रायश्चित कर लेना चाहिए | इससे उसका सम्मान तो बढता ही रहेगा साथ ही उसकी अंतरात्मा पर भी कोई बोझ नहीं रहेगा |*

अगला लेख: कर्म प्रधान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मार्च 2019
*सनातन धर्म में तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है | इन देवी - देवताओं को शायद ही किसी ने देखा हो , ये कल्पना भी हो सकते हैं | देवता वही है जिसमें कोई दोष न हो , जो सदैव सकारात्मकता के साथ अपने आश्रितों के लिए कल्याणकारी हो | शायद हमारे मनीषियों ने इसीलिए इस धराधाम पर तीन जीवित एवं जागृत देवताओ
30 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य अनेक प्रकार के घटनाक्रम से होते हुए जीवन की यात्रा पूरी करता है | कभी - कभी मनुष्य की जीवनयात्रा में ऐसा भी पड़ाव आता है कि वह किंकर्तव्यविमूढ़ सा होकर विचलित होने लगता है | यहीं पर मनुष्य यदि सत्यशील व दृढ़प्रतिज्ञ नहीं है तो वह अपने सकारात्मक मार्गों का त्याग
27 मार्च 2019
30 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर परमात्मा की सर्वोत्कृष्ट रचना मनुष्य को मानी गई है | जन्म लेने के बाद मनुष्य ने धीरे धीरे अपना विकास किया और एक समाज का निर्माण किया | परिवार से निकलकर समाज में अपना विस्तार करने वाला मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेक प्रकार के रिश्ते बनाता है | इन रिश्तो में प्रमुख होती है मनुष्य
30 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मानव जीवन पाकर के प्रत्येक व्यक्ति सफल होना चाहता है | जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की इच्छा रखने वाला मनुष्य अपने उद्योग , प्रबल भाग्य एवं पारिवारिक सदस्यों तथा गुरुजनों के दिशा निर्देशन में सफलता प्राप्त करता है | परंतु मनुष्य की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि वह कितना सकारात्मक
29 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य काम , क्रोध , लोभ , मद , मोह , अहंकार आदि से जूझता रहता है | यही मनुष्य के शत्रु कहे गये हैं , इनमें सबसे प्रबल "मोह" को बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी मानस में लिखते हैं :- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अर्थात सभी रोगों की जड़ है "मोह" | जिस प्रकार मनुष्य को अंधकार में कु
25 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*हमारा देश भारत पर्वों एवं त्योहारों का देश है | यहां पर पर्व एवं उत्सव का रस हमारे जीवन में घुला मिला हुआ है | किसी भी उत्सव के समय मन प्रफुल्लित हो जाता है | अनायास ही खुशियां मनाने लगता है , खुशियां बांटने लगता है | जीवन में जब भी कोई क्षण आनन्द व उल्लास का आता है तो हमारा चित्त अनायास ही प्रसन्न
28 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
31 मार्च 2019
*यह समस्त सृष्टि निरन्तर चलायमान है ! जो कल था वह आज नहीं है जो आज है वह कल नहीं रहेगा | कल इसी धरती पर राम कृष्ण आदि महान पुरुषों ने जन्म लिया था जो कि आज नहीं हैं ! आज हम सब इस धरती पर जीवन यापन कर रहे हैं कल हम भी नहीं रहेंगे ! हमारी आने वाली पीढ़ियां इस धरती पर विचरण करेंगी | जहाँ कल नदियाँ थीं
31 मार्च 2019
23 मार्च 2019
*इस धरा धाम पर मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी बनकर स्थापित हुआ | अपने विकासक्रम में मनुष्य समाज में रहकर के , सामाजिक संगठन बनाकर निरंतर प्रगति की दिशा में अग्रसर रहा | किसी भी समाज में संगठन के प्रति मनुष्य का दायित्व एवं उसकी भूमिका इस बात पर निर्भर करती है कि मनुष्य के अंदर इस जीवन रूपी उद्यान को सुग
23 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मानव जीवन पाकर के प्रत्येक व्यक्ति सफल होना चाहता है | जीवन के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की इच्छा रखने वाला मनुष्य अपने उद्योग , प्रबल भाग्य एवं पारिवारिक सदस्यों तथा गुरुजनों के दिशा निर्देशन में सफलता प्राप्त करता है | परंतु मनुष्य की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि वह कितना सकारात्मक
29 मार्च 2019
25 मार्च 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य के जीवन में संस्कारों का बहुत महत्त्व है | हमारे ऋषियों ने सम्पूर्ण मानव जीवन में सोलह संस्कारों का विधान बताया है | सभी संस्कार अपना विशिष्ट महत्त्व रखते हैं , इन्हीं में से एक है :- यज्ञोपवीत संस्कार ! जिसे "उपनयन" या "जनेऊ संस्कार" भी कहा जाता है | ऐसा माना गया है कि मनुष्य
25 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x