कर्म प्रधान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अप्रैल 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (18 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्म प्रधान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर द्वारा बनाई हुई सृष्टि कर्म पर ही आधारित है | जो जैसा कर्म करता है उसको वैसा ही फल प्राप्त होता है | यह समझने की आवश्यकता है कि मनुष्य के द्वारा किया गया कर्म ही प्रारब्ध बनता है | जिस प्रकार किसान जो बीज खेत में बोता है उसे फसल के रूप में वहीं बाद में काटना पड़ता है | कोई भी मनुष्य अपने किए हुए कर्मों से एवं उससे मिलने वाले प्रतिफल से स्वयं को बचा नहीं सकता है | मनुष्य को कोई भी कर्म करने के पहले यह विचार अवश्य कर लेना चाहिए कि इसका फल क्या मिलेगा ? क्योंकि इतिहास गवाह है कि जिन्होंने जैसे कर्म किए हैं देर सवेर उसको उसका फल भुगतना ही पड़ा है | ईश्वर ने इस सृष्टि को कर्म प्रधान बनाया है ।इसलिये प्रत्येक मनुष्य को प्रतिदिन अपने किये हुये कर्मों पर विचार करके अपनी उन्नति का उपाय करना चाहिये | यहाँ कोई किसी के सुख - दुख के लिए उत्तरदायी नहीं होता है | हमारे धर्मशास्त्रों में लिखा :--- "स्वयं कर्म करोत्यात्मा स्वयं तत्फलमश्नुते ! स्वयं भ्रमति संसारे स्वयंतस्माद्विमुच्यते !!" अर्थात :- मनुष्य स्वयं कर्म करता है और स्वयं ही उसका फल भोगता है | वह स्वयं ही इस संसार सागर में डूबता रहता है तथा स्वयं ही प्रयास करके इससे मुक्त हो जाता है तथा मोक्ष को प्राप्त करता है | यदि मनुष्य अपने कर्मों के फल को भोगने से स्वयं को बचा पाता तो भगवान के अवतार माने जाने वाले मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम अपने पिता महाराज दशरथ की मृत्यु नहीं होने देते | योगेश्वर भगवान श्री कृष्ण अभिमन्यु को बचा लेते | परंतु ऐसा नहीं हुआ क्योंकि प्राणी मात्र को अपने शुभ और अशुभ कर्मों का फल अवश्य भोगना पड़ता है | अच्छे फल की प्राप्ति के लिए प्रत्येक मनुष्य को अच्छे कर्म करने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए | यदि मनुष्य किसी के साथ कोई ऐसा कर्म करता है जिसे समाज मान्यता नहीं देता है मान लीजिए कल उसके साथ भी वैसा ही कर्म करने वाला कोई प्रकट हो जाएगा |* *आज के आधुनिक युग में मनुष्य कब क्या कर डालेगा इसका अनुमान लगाना भी मुश्किल कार्य है | आज चारों ओर छल , कपट , घात , प्रतिघात एवं विश्वासघात का ही बोलबाला दिखाई पड़ रहा है | परिवार से लेकर के समाज तक देश से लेकर के संपूर्ण विश्व में इन कर्मों का ही प्रसार आज देखने को मिल रहा है | तनिक जायदाद के लिए भाई - भाई के साथ विश्वासघात कर रहा है , पुत्र पिता के साथ छल कर रहा है , गुरुद्वारों में शिष्य अपने गुरु की गद्दी प्राप्त करने के लिए कपट का सहारा लेते हुए अपने ही सद्गुरु से घात कर रहे हैं | कुल मिलाकर जो भी कर्म आज मनुष्य के द्वारा किए जा रहे हैं या जो भी आज ऐसा कर रहे हैं उन सभी से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूंगा कि आप आज जो बीज खेत में डाल रहे हैं कल उसी की फसल आपको काटना है | आज जो आप अपने भाई के साथ कर रहे हैं , जो अपने पिता के साथ कर रहे हैं या जो अपने गुरु के साथ कर रहे हैं कल वही प्रतिफल आपको मिलेगा | आपके साथ भी कोई वैसा ही कर्म करने वाला इस संसार में प्रकट हो जाएगा | क्योंकि मानस में बाबा जी ने स्पष्ट लिख दिया है :- " कर्म प्रधान विश्व रचि राखा " कोई यदि यह सोचे कि आज जो मैं कर रहा हूं कल बहुत सुखी रहूंगा ऐसा कदापि नहीं हो सकता है | संसार रूपी खेत में कर्म रूपी जैसा बीज मनुष्य के द्वारा डाला जाता है वैसी ही फसल मनुष्य को प्राप्त होती है | यह अकाट्य है इसको कोई काट नहीं सकता |* *मनुष्य को कोई भी कर्म करने के पहले उसके प्रतिफल के विषय में अवश्य विचार कर लेना चाहिए कि हम जो करने जा रहे हैं इसका परिणाम क्या होगा | अन्यथा फिर मनुष्य को पछतावे के अलावा और कुछ नहीं प्राप्त होता |*

अगला लेख: प्रायश्चित :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 मार्च 2019
*सम्पूर्ण विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ से "वसुधैव कुटुम्बकम्" का उद्घोष हुआ | हमारे मनीषियों ने ऐसा उद्घोष यदि किया तो उसके पीछे प्रमुख कारण यह था कि मानव जीवन में कुटुम्ब अर्थात परिवार का महत्त्वपूर्ण व विशिष्ट स्थान है | देवी - देवताओं से लेकर ऋषि - मुनियों तक एवं राजा - महाराजाओं से लेकर असु
27 मार्च 2019
05 अप्रैल 2019
*चौरासी लाख योनियों में भटकने के बाद जीव को देव दुर्लभ मानव शरीर प्राप्त होता है | इस शरीर को पाकर के मनुष्य की प्रथम प्राथमिकता होती है स्वयं को एवं अपने समाज को जानने की , उसके लिए मनुष्य को आवश्यकता होती है ज्ञान की | बिना ज्ञान प्राप्त किये मनुष्य का जीवन व्यर्थ है | ज्ञान प्राप्त कर लेना महत्व
05 अप्रैल 2019
29 मार्च 2019
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने
29 मार्च 2019
04 अप्रैल 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
04 अप्रैल 2019
28 मार्च 2019
*मनुष्य जीवन में संयम का बहुत ही ज्यादा महत्त्व है | ईश्वर ने मनुष्य की अनुपम कृति की है | सुंदर अंग - उपांग बनाये मधुर मधुर बोलने के लिए मधुर वाणी प्रदान की | वाणी का वरदान मनुष्य को ईश्वर द्वारा इस उद्देश्य से प्रदान किया है कि वह जो कुछ भी बोले उसके पहले गहन चिंतन कर ले तत्पश्चात वाणी के माध्यम स
28 मार्च 2019
27 मार्च 2019
*ईश्वर की बनाई इस महान श्रृष्टि में सबसे प्रमुखता कर्मों को दी गई है | चराचर जगत में जड़ , चेतन , जलचर , थलचर , नभचर या चौरासी लाख योनियों में भ्रमण करने वाला कोई भी जीवमात्र हो | सबको अपने कर्मों का फल अवश्य भुगतना पड़ता है | ईश्वर समदर्शी है , ईश्वर की न्यायशीलता प्रसिद्ध है | ईश्वर का न्याय सिद्ध
27 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने
29 मार्च 2019
28 मार्च 2019
*हमारा देश भारत पर्वों एवं त्योहारों का देश है | यहां पर पर्व एवं उत्सव का रस हमारे जीवन में घुला मिला हुआ है | किसी भी उत्सव के समय मन प्रफुल्लित हो जाता है | अनायास ही खुशियां मनाने लगता है , खुशियां बांटने लगता है | जीवन में जब भी कोई क्षण आनन्द व उल्लास का आता है तो हमारा चित्त अनायास ही प्रसन्न
28 मार्च 2019
29 मार्च 2019
*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है जो एक समाज में रहता है | किसी भी समाज में रहने के लिए मनुष्य को समाज से संबंधित बहुत से विषय का ज्ञान होना चाहिए , और मानव जीवन से संबंधित सभी प्रकार के ज्ञान हमारे महापुरुषों ने पुस्तकों में संकलित किया है | पुस्तकें हमें ज्ञान देती हैं | किसी भी विषय के बारे में जानने
29 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x