ठाकुर उपाधि न तो वंश गत है । यह तुर्को और मुगलों की उतरन के रूप में एक । जमीदारीय खिताब था ।. प्रस्तुति-करण यादव योगेश कुमार "रोहि"

08 अप्रैल 2019   |  Yadav Yogesh kumar -Rohi-   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

_____________________________________

टेकफुर शब्द का जन्म खिताबुक और प्रारम्भिक तुर्क काल में किया गया था ।
जिसका प्रयोग " स्वतंत्र या अर्ध-स्वतंत्र अल्पसंख्यक व ईसाई शासकों या एशिया माइनर और थ्रेस में स्थानीय बीजान्टिन गवर्नरों के सन्दर्भ में किया गया था ।

उत्पत्ति और अर्थ की दृष्टि से
इस शीर्षक (उपाधि) की उत्पत्ति अनिश्चित है।
भाषा वैज्ञानिकों द्वारा यह सुझाव दिया गया है ; कि यह अरबी निकोर के माध्यम से बीजान्टिन शाही नाम निकेफोरोस से निकला है।

कभी-कभी यह भी कहा जाता है कि यह आर्मेनियाई टैगशेवर शब्द से नि:सृत हुआ है ।
जिसका अर्थ होता है "क्राउन-बेयरर (Crown bearer )" अर्थात् "राजमुकुट धारण करने वाला "

13 वीं शताब्दी में फारसी या तुर्की में लिखने वाले इतिहासकारों द्वारा यह शब्द और इसके रूपों ( "tekvur " tekur "tekir ", का प्रयोग "भू-खण्ड मालिकों के सन्दर्भ में शुरु किया गया था।

ताक्वुर (tekvur) रूप में इतिहास कार "बीजान्टिन लॉर्ड्स या गवर्नरों को दर्शाते हैं ।

अनातोलिया ( बिथिनिया , पोंटस ) और थ्रेस में कस्बों और किलों के संरक्षक को ताक्वुर कहते थे ।
तथा टेक्फुर शब्द प्रायः बीजान्टिन के सीमावर्ती युद्ध के नेताओं (सामन्तों ) तथा अक्रितई के कमाण्डरों को भी दर्शाता है ।
लेकिन बीजान्टिन राजकुमारों और सम्राटों को भी खुद को उदाहरण के लिए, पैलेस ऑफ तुर्की के नाम तेक्फुर सराय के मामले में कॉन्स्टेंटिनोपल में पोर्फिरोजेनिटस के मामले में भी यही शब्द प्रचलित है ।
__________________________________________


आर्मेनियन भाषा में ठाकुर शब्द 👇

թագաւոր
Old Armenian

Etymology-
Borrowed wholly from Parthian "tag(a)-bar (“king”, literally “crown bearing”)

(compare Persian تاجور‎ (tâjvar) and reshaped under the influence of the suffix -աւոր (-awor). The first part is the source of Old Armenian թագ (tʿag), the second part goes back to Proto-Indo-European *bʰer-. Formation in Armenian as "թագ" (tʿag) -աւոր (-awor) is unlikely.

Noun---
թագաւոր • (tʿagawor)= king ।

թագաւոր թագաւորաց ― tʿagawor tʿagaworacʿ ।

― the king of kings (Emperor)
թագաւոր հայոց ― tʿagawor hayocʿ ― the king of Armenia

կեցցէ՛ թագաւոր ― kecʿcʿḗ tʿagawor ― long live the king! God save the king!

թագաւոր կենդանեաց ― tʿagawor kendaneacʿ ― king of beasts (lion)

թագաւոր թռչնոց ― tʿagawor tʿṙčʿnocʿ ― king of birds (eagle)

թագաւոր ծաղկանց ― tʿagawor całkancʿ#― king (queen) of flowers (rose)

թագաւոր իժ ― tʿagawor iž ― basilisk
թագաւորք ― tʿagaworkʿ ― certain hymns of the Armenian Church
թագաւոր կալ յումեքէ ի վերայ աշխարհի ուրուք ― tʿagawor kal yumekʿē i veray ašxarhi urukʿ ― to be made king of some country

թագաւոր առնել ― tʿagawor aṙnel ― to make a king, to cause to reign
Declension
i-a-type
Synonyms
արքայ (arkʿay)
Derived terms
[▼]Terms derived from թագաւոր (tʿagawor)
Related terms
թագ (tʿag)
թագուհի (tʿaguhi)
Descendants👇
Armenian: թագավոր (tʿagavor)
Middle Armenian: թագւոր (tʿagwor)
Arabic: تكفور‎ (takfūr)
Old Catalan: tafur
Catalan: tafur
Old Portuguese: tafur, taful
Galician: tafur
Portuguese: taful
Old Spanish: tafur
Spanish: tahúr
Persian: تکفور‎ (takfur)
Turkish: tekfur
Armenian: թագվոր (tʿagvor)
Persian: تکور‎ (takvor)
Classical Syriac: ܬܟܘܘܪ‎ (takkāwōr)
________________________________________

References--👇
Petrosean, H. Matatʿeay V. (1879),

“թագաւոր”, in Nor Baṙagirkʿ Hay-Angliarēn [New Dictionary Armenian–English], Venice: S. Lazarus Armenian Academy
Awetikʿean, G.; Siwrmēlean, X.; Awgerean, M. (1836–1837), “թագաւոր”, in Nor baṙgirkʿ haykazean lezui [New Dictionary of the Armenian Language] (in Old Armenian), Venice: S. Lazarus Armenian Academy
Ačaṙean, Hračʿeay (1971–1979), “թագ”, in Hayerēn armatakan baṙaran [Dictionary of Armenian Root Words] (in Armenian), 2nd edition, Yerevan: University Press
Godel, Robert (1975) An introduction to the study of classical Armenian, Wiesbaden: Dr. Ludwig Reichert Verlag, page Number 63
__________________________________________


ताक्वुर = राजा
पुरानी अर्मेनियाई भाषा में
ताक्वुर tekvur शब्द की व्युत्पत्ति देखें अनेक पश्चिमीय एशिया की भाषाओं में 👇
पार्थियन फारसी की उपशाखा में " टैग ए -बार "tag(a)-bar (“king”, literally “crown bearing”)
( ताक्वुर शाब्दिक रूप से अर्थ "ताज पहनने वाला " )
यह यहाँं पार्थियन से पूरी तरह से उधार लिया गया और प्रत्यय ( -ओवर ) के प्रभाव में पुनः बदल दिया गया है
अर्थात्‌ "टेकॉवर"

टेक ऑवर शब्द में पहला भाग पुरानी अर्मेनियाई भाषा में ताज ( ताग ) है ।
और, दूसरा भाग प्रोटो-इण्डो-यूरोपीय भाषा के बियर- पर वापस जाता है।
ताज के रूप में अर्मेनियाई में गठित ( t'ag ) -year ( -awor ) असंभव है।👇

नाम
राजा • ( तागॉवर )

राजा
राजा के राजा - तागावर( t'agaworac ) - राजाओं के राजा (सम्राट ) ।
अर्मेनिया के राजा - तागावर हायक ' - आर्मेनिया का राजा
उदाहरण वाक्य रूप में 👇
राजा रहेगा - "kec'c'ḗ t'agawor "-
लंबे समय तक राजा रहते हैं! भगवान राजा को बचाओ!
long live the king! God save the king!

पशुओं का राजा - तागावर केंडानेक ' - जानवरों का राजा (शेर)

राजा पक्षी - t'agawor t'ṙč'noc ' - पक्षियों के राजा (ईगल)

राजा फूल - t'agawor całkanc ' - फूलों के राजा (रानी) (गुलाब)

कैरेबियन के राजा - t'agawor iž - बेसिलिस्क
राजाओं - t'agawork ' - आर्मेनियाई चर्च के कुछ भजन

दुनिया भर में राजा - t'agawor kal yumek'ē i veray ašxarhi uruk ' - कुछ देश के राजा बनने के लिए।

राजा को लेने के लिए - राजा बनाने के लिए, राजा बनाने के लिए

अस्वीकरण
ia -type
समानार्थी शब्द
राजा ( arkayay )
व्युत्पन्न शब्द-
राजा ( t'agawor ) से ली गई शर्तें
संबंधित शब्द -
ताज ( ताग )
रानी ( तागुही )

Descendants--👇

1-अर्मेनियाई: राजा ( tagagavor )

2-मध्य अर्मेनियाई: कौवा ( t'agwor )

3-अरबी: تكفور ( takfūr )

4-पुराना कैटलन: tafur

5-कातालान: tafur

6-पुरानी पुर्तगाली: ताफुर , ताफ

7-गैलिशियन्: tafur

8-पुर्तगाली: taful

9-पुरानी स्पेनिश: tafur

10-स्पेनिश: tahúr

11-फारसी: تکفور ( takfur )

12-तुर्की: Tekfur

13-अर्मेनियाई: ताज ( t'agvor )

14-फारसी: تکور ( takvor )

15-क्लासिकल सिरिएक: ܬܘܘܘ ( takkawwōr )
__________________________________________


सन्दर्भित श्रोत-👇

पेट्रोसेन, एच। मतायत वी। (1879), " राजा ", नोर नोरघगिरक में, हे-एंग्लियारन [ नया शब्दकोश अर्मेनियाई-अंग्रेज़ी ], वेनिस: एस लाजर अर्मेनियाई अकादमी
Awetik'ean, जी .; सिवरमेलेन, एक्स .; Awgerean, एम। (1836-1837), " राजा ", नॉर नॉरफ़ॉक में, पुराने अर्मेनियाई, वेनिस में: एस लाजर अर्मेनियाई अकादमी..

Achaffianic, Hrač'eay (1 971-19 7 9), " टैग ", Hayerēn armatakan baṙaran [ आर्मेनियाई रूट शब्द का शब्दकोश ]
दूसरा संस्करण, येरेवन। यूनिवर्सिटी प्रेस
गोडेल, रॉबर्ट (1 9 75) शास्त्रीय अर्मेनियाई , विस्बादेन के अध्ययन के लिए एक परिचय :
डॉ लुडविग रीइचेर वेरलाग की पुस्तक पेज 63 से उद्धृत
_________________________________________


(मॉड इस्तांबुल द्वारा सन्दर्भित तथ्य )

इसी प्रकार ( इब्न बीबी ---जो एक फारसी इतिहासकार है और 13 वीं शताब्दी के दौरान रूम के सेल्जूक सल्तनत के इतिहास के लिए प्राथमिक स्रोत के लेखक के रूप में जाने जाते थे।
उन्होंने कोन्या में सुल्तानत के कुलपति के प्रमुख के रूप में कार्य किया और समकालीन घटनाओं पर इतिवृत्त तैयार किया ।
उनकी सबसे मशहूर किताब "एल-इवामिरुएल-अलियाये फिल-उमुरी'ल-अलायिये" है यह भी सिक्किशिया के अर्मेनियाई राजाओं को टेक्वुर के रूप में सन्दर्भित करते हैं ।
जबकि वह और डेडे कॉर्कट महाकाव्य ट्रेबीज़ोंड के साम्राज्य के शासकों को " दंजित के टेकवुर " के रूप में संदर्भित करता है ।

प्रारम्भिक तुर्क अवधि में, इस शब्द का इस्तेमाल किले और कस्बों के बीजान्टिन गवर्नर दोनों के लिए किया जाता था।

जिसके साथ तुर्क उत्तर-पश्चिमी अनातोलिया और थ्रेस में तुर्क विस्तार के दौरान लड़े थे,
लेकिन बीजान्टिन सम्राटों के लिए भी, मलिक ("राजा") के साथ एक दूसरे के साथ और शायद ही कभी, फासिलीयस (बीजान्टिन शीर्षक बेसिलस का प्रतिपादन) के सन्दर्भों में ताक्वुर "tekvur" शब्द की प्रयोग होता था ।

हसन Çolak सुझाव देता है कि यह उपयोग कम से कम वर्तमान राजनीतिक वास्तविकताओं और बीजान्टियम की गिरावट को प्रतिबिंबित करने के लिए एक जानबूझकर विकल्प के तौर पर था।
जो 1371-94 ईस्वी के बीच और फिर 1424 के बीच और 1453 में कॉन्स्टेंटिनोपल के पतन के कारण रंप बीजान्टिन राज्य एक सहायक वासल उसमान के लिए प्रयुक्त हुआ ।
_________________________________________


बीसवीं शताब्दी के तुर्क इतिहासकार एनवेरी कुछ हद तक अद्वितीय रूप से दक्षिणी ग्रीस के फ्रैंकिश शासकों और एजियन द्वीपों के लिए लोगों के लिए "टेकफुर" शब्द का प्रयोग करते हैं । 👇

सन्दर्भ सूचिका:----
^ ए बी सी डी Savvides 2000 , पीपी 413-414।
^ ए बी Çolak 2014 , पी। 9।
^ कोलक 2014 , पीपी। 13 एफ ..
^ कोलक 2014 , पी। 19।
^ कोलक 2014 , पी। 14।
स्रोत संपादित करें
कोलक, हसन (2014)। " Tekfur , Fasiliyus और Kayser : ओटोमन दुनिया में बीजान्टिन इंपीरियल Titulature की अपमान, लापरवाही और स्वीकृति" । Hadjianastasis, Marios में। ओटोमन इमेजिनेशन के फ्रंटियर: रोड्स मर्फी के सम्मान में अध्ययन । BRILL। पीपी 5-28। आईएसबीएन 978 9 004280 9 15 ।
Savvides, एलेक्सियो (2000)। "टेकफुर" । इस्लाम का विश्वकोश, नया संस्करण, खंड एक्स: टी-यू । लीडेन और न्यूयॉर्क: ब्रिल। पीपी 413-414। आईएसबीएन 90-04-11211-1 ।
__________________________________________


विशेष बीजान्टिन साम्राज्य किया था ?
बीजान्टिन साम्राज्य जिसे पूर्वी रोमन साम्राज्य के रूप में भी जाना जाता है।
पूर्व में रोमन साम्राज्य की निरन्तरता अथवा सातत्य विलुप्त प्राचीन काल और मध्य युग के दौरान भी जारी थी , जब इसकी राजधानी शहर "कॉन्स्टेंटिनोपल (आधुनिक "इस्तांबुल" था ।
जो बीजान्टियम के रूप में स्थापित किया गया था ।

आधुनिक इस्तांबुल , 5 वीं शताब्दी ईस्वी सन् में पश्चिमी रोमन साम्राज्य के विखण्डन और पतन से बच गया और 1453 ईस्वी सन् में तुर्क तथा तुर्की साम्राज्य गिरने तक एक अतिरिक्त हज़ार साल तक अस्तित्व में रहा।

इसके अधिकांश अस्तित्व के दौरान साम्राज्य सबसे शक्तिशाली था ; यह यूरोप में आर्थिक, सांस्कृतिक और सैन्य बल था ।

दोनों "बीजान्टिन साम्राज्य" और "पूर्वी रोमन साम्राज्य" इतिहास के अन्त के बाद बनाए गए ऐतिहासिक भौगोलिक शब्द हैं;
इसके नागरिकों ने अपने साम्राज्य को रोमन साम्राज्य के रूप में सन्दर्भित करना जारी रखा 👇

( ग्रीक : Βασιλεία τῶν Ῥωμαίων , tr। Basileia tôn Rhōmaiōn ; लैटिन : इंपीरियम रोमनम ), या रोमानिया ( Ῥωμανία ), और खुद को "रोमियों" के रूप में।
__________________________________________

अल -ए सालजूक ) ओघुज तुर्क सुन्नी मुस्लिम राजवंश था जो धीरे-धीरे एक फारसी बन गया समाज और मध्ययुगीन पश्चिम और मध्य एशिया में तुर्क-फारसी परम्पराओं में योगदान दिया।

सेल्जूक्स ने सेल्जुक साम्राज्य और सुल्तानेट ऑफ रूम की स्थापना की , जो उनकी ऊंचाई पर अनातोलिया से ईरान के माध्यम से फैली थी और प्रथम क्रूसेड के लक्ष्य थे।
सेल्जुक गुक्मरानों की वंशगत नामावलि :--
Seljuq राजवंश
देश
Seljuk साम्राज्य
रम के सल्तनत
स्थापित
10 वीं शताब्दी - सेल्जूक
टाइटल
सेल्जूक साम्राज्य के सुल्तान
रूम के सुल्तान
दमिश्क के अमीर
Aleppo के Emir
विघटन
दमिश्क :
1104 - तख्तटेक ग्रेट सेल्जूक द्वारा बाकताश को हटा दिया गया था ।👇

1194 - तेखिश के साथ युद्ध में टोग्रुल 3 की मौत हो गई थी

रूम :
1307 - मेसूद द्वितीय की मृत्यु हो गई
सेल्जूक तुर्को का प्रारम्भिक इतिहास:---
सेल्जूक्स ओघुज तुर्क की क्यनीक शाखा से निकले , जो 9 वीं शताब्दी में मुस्लिम दुनिया की परिधि पर रहते थे।
अर्थात्‌ ईसा की नवीं सदी में सेल्जूक तुर्को ने इस्लाम कबूल कर लिया था ।

कैस्पियन सागर के उत्तर में और अराल सागर अपने याबघु खगनेट में ओघज़ संघ की, तुर्कस्तान के कज़ाख स्टेप में है ।
10 वीं शताब्दी के दौरान, विभिन्न घटनाओं के कारण, ओघुज़ मुस्लिम शहरों के साथ निकट संपर्क में आया था।

जब सेल्जूक कबीले के नेता सेल्जूक ओघुज के सर्वोच्च सरदार यबघू के साथ गिर रहे थे, तो उन्होंने टोकन-ओघुज के बड़े हिस्से से अपने कबीले को अलग कर दिया और निचले सीर दरिया के पश्चिमी तट पर शिविर लगाया ।
सन् 9 85 ईस्वी के आसपास, सेल्जूकों का इस्लाम में धर्मांतरित हो गया।

11 वीं शताब्दी में सेल्जूक्स खुरासन प्रांत में अपने पूर्वजों के घरों से मुख्य भूमि फारस में चले गए;
जहाँ उन्हें गजनाविद साम्राज्य का सामना करना पड़ा।
1025 में, ओघुज़ तुर्क के 40,000 परिवार कोकेशियान अल्बानिया के क्षेत्र में स्थानांतरित हो गए और सेल्जूक्स ने सन् 1035 ईस्वी में नासा मैदानी इलाकों की लड़ाई में गजनाविदों को हराया।

तुघरील, चघरी और याबघू को गवर्नर, जमीन के अनुदान का प्रतीक मिला, और उन्हें देहकान (डैकन) का खिताब दिया गया।
दंडानाकान की लड़ाई में उन्होंने एक गजनाविद सेना को हरा दिया, और 1050/51ईस्वी में तुघ्रिल द्वारा इस्फ़हान की सफल घेराबंदी के बाद,
उन्होंने बाद में एक साम्राज्य की स्थापना की जिसे बाद में ग्रेट सेल्जुक साम्राज्य कहा जाता है।

सेल्जूकों नें स्थानीय आबादी के साथ मिश्रित और निम्नलिखित दशकों में फारसी संस्कृति और फारसी भाषा को अपनाया।

बाद की अवधि -----
फारस में पहुंचने के बाद, सेल्जूक्स ने फारसी संस्कृति को अपनाया और फारसी भाषा को सरकार की आधिकारिक भाषा के रूप में इस्तेमाल किया था

और तुर्क-फारसी परम्परा के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसमें "तुर्किक शासकों द्वारा संरक्षित फारसी संस्कृति" शामिल है।

आज, उन्हें फारसी संस्कृति , कला , साहित्य और भाषा के महान संरक्षक के रूप में याद किया जाता है।

उन्हें पश्चिमी तुर्क के आंशिक पूर्वजों के रूप में माना जाता है ।

- वर्तमान में अजरबेजान गणराज्य के ऐतिहासिक निवासियों (ऐतिहासिक रूप से शिरवन और अरान के रूप में इन्हें जाना जाता है),
अज़रबैजान (ऐतिहासिक अज़रबैजान, जिसे ईरानी अज़रबैजान भी कहा जाता है ),
तुर्कमेनिस्तान , और तुर्की की सीमाओं में परिबद्ध है ।।

________________________________________

(भारतीय में ठाकुर उपाधि का प्रचलन का समय)

तुर्की के इतिहास को तुर्क जाति के इतिहास और उससे पूर्व के इतिहास के दो अध्यायों में देखा जा सकता है।
सातवीं से बारहवीं सदी के बीच में मध्य एशिया से तुर्कों की कई शाखाएँ यहाँ भारत के सीमा वर्ती क्षेत्रों में आकर बसीं। इससे पहले यहाँ से पश्चिम में देव संस्कृति के अनुयायी आर्य (यवन, हेलेनिक) और पूर्व में कॉकेशियाइ जातियों का बसाव रहा था।

तुर्की में ईसा के लगभग 7500 वर्ष पहले मानव बसाव के प्रमाण यहाँ मिले हैं।
हिट्टी साम्राज्य की स्थापना 1900-1300 ईसा पूर्व में हुई थी।1250 ईस्वी पूर्व ट्रॉय की लड़ाई में यवनों (ग्रीक) ने ट्रॉय शहर को नेस्तनाबूत कर दिया और आसपास के इलाकों पर अपना नियन्त्रण स्थापित कर लिया।

1200 ईसापूर्व से तटीय क्षेत्रों में यवनों का आगमन आरंभ हो गया।

छठी सदी ईसापूर्व में फ़ारस के शाह साईरस ने अनातोलिया ( तुर्की ) पर अपना अधिकार जमा लिया। इसके करीब 200 वर्षों के पश्चात 334
इस्वी पूर्व में सिकन्दर ने फ़ारसियों को हराकर इस पर अपना अधिकार किया।

बाद में सिकन्दर अफ़गानिस्तान होते हुए भारत तक पहुंच गया था।

इसापूर्व 130 इस्वी सन् में अनातोलिया रोमन साम्राज्य का अंग बना।
ईसा के पचास वर्ष बाद संत पॉल ने ईसाई धर्म का प्रचार किया और सन्113 में रोमन साम्राज्य ने ईसाई धर्म को अपना लिया।
इसके कुछ वर्षों के अन्दर ही कान्स्टेंटाईन साम्राज्य का अलगाव हुआ और कान्स्टेंटिनोपल इसकी राजधनी बनाई गई।
छठी सदी में बिजेन्टाईन साम्राज्य अपने चरम पर था पर 100 वर्षों के भीतर मुस्लिम अरबों ने इस पर अपना अधिकार जमा लिया।
______________________________________


अरबों के बाद तुकों ने भारत पर आक्रमण किया।
तुर्क चीन की उत्तरीपश्चिमी
सीमाओं पर निवास करने वाली एक असभ्य एवं बर्बर जन-जाति थी।

उनका उद्देश्य एक विशाल मुस्लिम साम्राज्य स्थापित करना तो था ही परन्तु यहाँं के -जाति-व्यवस्था मूलक असमानताओं से लाभ उठाना भी था ।
अलप्तगीन नामक एक तुर्क
सरदार ने गजनी में स्वतन्त्र तुर्क राज्य की स्थापना की। यह समय सन 977 ईस्वी का था।

अलप्तगीन के दामाद सुबुक्तगीन ने गजनी पर अपना अधिकार कर लिया और भारत पर आक्रमण
करने वाला प्रथम मुस्लिम तुर्की आक्रान्ता था ।
मुहम्मद बिन कासिम 712 ईस्वी में अरबी का पहला आक्रान्ता था जबकि भारत पर
आक्रमण करने वाला प्रथम तुर्की मुसलमान सुबुक्तगीन था।
सुबुक्तगीन से अपने राज्य को होने वाले भावी खतरे का पूर्वानुमान लगाते हुए दूरदर्शी हिन्दूशाही वंश
के शासक जयपाल ने दो बार उस पर आक्रमण भी किया परन्तु हार गया ।
______________________________________


सुबुक तिगिन (फ़ारसी - ابو منصور سبکتگین, अबु मंसूर सबक़तग़िन) ख़ोरासान के गज़नवी साम्राज्य का स्थापक था और भारत पर अपने आक्रमणों के लिए प्रसिद्ध महमूद गज़नवी का पिता था ।
सुबुकतिगिन ने अलप्तिगिन के दो परवर्ती शासकों के अन्दर भी एक ग़ुलाम के रूप में शासन का कार्यभार देखा और सन् 977 में वो ग़ज़नी का सुल्तान बना।
ये ही भारत में ताक्वुर "tekvur" उपाधि के धारक थे ।
यह ताक्वुर tekvur ही भारतीय भाषाओं में ठक्कुर तथा ठाकुर बनकर प्रतिष्ठित हो गया ।
भारतीय इतिहास में ठक्कुर उपाधि धारण करने वाले वही सामन्त हुए जो तुर्को के अधीन माण्डलिकों के रूप में थे ।

तुर्को और मुगलों की भारत में आव्रजन मध्य-एशिया से ही हुआ ।
मुगल मंगोल के अधिवासी थे --जो मंगोलिया है यह पूर्व और मध्य एशिया में एक भूमि से घिरा देश है।
इसकी सीमाएं उत्तर में रूस, दक्षिण, पूर्वी और पश्चिमी में चीन से मिलती हैं।
यद्यपि, मंगोलिया की सीमा कज़ाख़िस्तान से नहीं मिलती, लेकिन इसकी सबसे पश्चिमी छोर कज़ाख़िस्तान के पूर्वी सिरे से कुछ दूर है

आधुनिक तुर्क पहले यूराल और अल्ताई पर्वतों के मध्य बसे हुए थे।
जलवायु के बिगड़ने तथा अन्य कारणों से ये लोग आसपास के क्षेत्रों में चले गए।
लगभग एक हजार वर्ष पूर्व वे लोग एशिया माइनर (तुर्की) में बसे।
नौंवी सदी में ओगुज़ तुर्कों की एक शाखा कैस्पियन सागर के पूर्व बसी और धीरे-धीरे ईरानी संस्कृति को अपनाती चलाती गई।

ये सल्जूक़ तुर्क थे ---जो वस्तुत: ईरानी संस्कृति तथा भाषाओं का जीवन में व्यवहार करते थे ।

अत: तुर्की भाषाओं पर ईरानी भाषाओं का प्रभाव स्पष्टत: परिलक्षित होता है

सल्जूक़ तुर्क स्वयं को पठान तथा तक्वुर खिताबो से नवाज़ा करते थे ।

इसके साथ ही ये सेल्जुक तुर्क कैस्पियन सागर के पश्चिम में व मध्य तुर्की के कोन्या में स्थापित हो गए।
ईस्वी सन् 1071 में उन लोगों ने बिजेंटाइनों को परास्त कर एशिया माइनर पर अपना आधिपत्य जमा लिया।
__________________________________________

मध्य टर्की में कोन्या को राजधानी बनाकर उन्होंने उस्मान ख़लीफा के नैतृत्व में इस्लामी संस्कृति को अपनाया।
इस साम्राज्य को 'रुम सल्तनत' कहते हैं क्योकि इस इलाके़ में पहले इस्तांबुल के रोमन शासकों का अधिकार था ।

जिसके नाम पर इस इलाक़े को जलालुद्दीन रुमी कहते थे। यह वही समय था जब तुर्की के मध्य (और धीरे-धीरे उत्तर) भाग में ईसाई रोमनों (और ग्रीकों) का प्रभाव घटता जा रहा था ।

इसी क्रम में यूरोपीयों का उनके पवित्र ईसाई भूमि, अर्थात्‌ येरुशलम और आसपास के क्षेत्रों से सम्पर्क टूट गया -
क्योकि अब यहाँ ईसाईयों के बदले मुस्लिम शासकों का राज हो गया था।👇

अपने ईसाई तीर्थ स्थानों की यात्रा का मार्ग सुनिश्चित करने और कई अन्य कारणों की वजह से यूरोप में पोप ने धर्म युद्धों का आह्वान किया।

यूरोप से आए धर्म योद्धाओं ने यहाँ पूर्वी तुर्की पर अधिकार बनाए रखा पर पश्चिमी भाग में सल्जूक़ों का साम्राज्य बना रहा।

लेकिन इनके दरबार में फ़ारसी भाषा और संस्कृति को बहुत महत्व दिया गया; अपने सामानान्तर के पूर्वी सम्राटों, गज़नी के शासकों की तरह, इन्होंने भी तुर्क शासन में फ़ारसी भाषा को दरबार की भाषा बनाया।

सल्जूक़ दरबार में ही सबसे बड़े सूफ़ी कवि रूमी (जन्म 1215) को आश्रय मिला और उस दौरान लिखी शाइरी को भारय में सूफ़ीवाद की श्रेष्ठ रचना माना जाता है।
सन् 1220 के दशक से मंगोलों ने अपना ध्यान इधर की तरफ़ लगाया।
कई मंगोलों के आक्रमण से उनके संगठन को बहुत क्षति पहुँची और 1243 ईस्वी में साम्राज्य को मंगोलों ने जीत लिया।

यद्यपि इसके शासक ईस्वी 1308 तक शासन करते रहे परन्तु साम्राज्य बिखर गया था।

भारतीय इतिहास में ठाकुर शब्द पूज्य प्रतिमा । २. मिथिला के ब्राह्मणों की एक उपाधि रहा है ।👇

देवता । ठाकुर इति ख्यातः । यथा “श्रीदामनामगोपालः श्रीमान् सुन्दरटक्कुरः ।। ” इत्यनन्तसंहिता ।।

देवपतिमायां, २ द्विजोपाधिभेदे च । यथा गोविन्द- ठक्कुरः काव्यप्रदीपकर्त्ता । ३ देवतायाञ्च । “सुदामा नाम गोपालः श्रीमान् सुन्दरठक्वुरः” अनन्तसंहिता । इति वाचस्पत्ये ठकारादिशब्दार्थसङ्कलनम् ।
भारतीय इतिहास में ठाकुर शब्द का प्रयोग कालान्तरण में इन अर्थों में होने लगा 👇
_______________________________________

नाइयों के लिए एक संबोधन (जैसे—आओ भाई नाऊ ठाकुर)।

देवमूर्ति।

मालिक, स्वामी।

किसी भूखंड का स्वामी।

मुखिया।

नायक, सरदार।

पूज्य व्यक्ति।

परमेश्वर
_______________________________________


ठाकुर शब्द विशेषत तुर्की अथवा ईरानी संस्कृति
में अफगानिस्तान के पठान जागीर-दारों में भी प्रचलित रहा ।
पख़्तून लोक-मान्यता के अनुसार यही जादौन पठान जाति ‘बनी इस्राएल’ यानी यहूदी वंश की है।
इस कथा की पृष्ठ-भूमि के अनुसार पश्चिमी एशिया में असीरियन साम्राज्य के समय पर लगभग 2800 साल पहले बनी-इस्राएल के दस कबीलों को देश -निकाला दे दिया गया था।
और यही कबीले पख़्तून हैं।

परन्तु राजस्थान में जादौन चारण बन्जारों तथा बाद में राजपूतों के रूप में भी पहचाने गये ।
भारत में हर्षवर्धन के बाद की स्थिति सामाजिक रूप से विकृतिपूर्ण रही।
इस युग मे भारत अनेक छोटे छोटे राज्यों में विभाजित हो गया जो आपस मे लड़ते रहते थे।
इनकी ये लड़ाईयाँ आपसी शौर्य प्रदर्शन तथा अहं तुष्टि करण के लिए तो थी परन्तु ये सुन्दर स्त्रीयों को पीने के लिए भी युद्ध-रत होते थे ।

इस समय के शासक राजपूत कहलाते थे ;
राजस्थान इनका मुख्य स्थान था ।
तथा सातवीं से बारहवीं शताब्दी के इस युग को राजपूत युग कहा गया है।
तुर्को का आगमन हो चुका था ।
तब राजपूतों का एक विशेषण और हुआ ठाकुर ।
ये ब्राह्मणों के द्वारा क्षत्रिय बनाकर बौद्धों के विरुद्ध खड़े किए गये ।
ये तुर्को के अधीन माण्डलिकों के रूप में उनके अनुसार
शासन करने से ताक्वुर "tekvur" उपाधि धारण करने लगे ।

ये ब्राह्मणों द्वारा प्रदत्त उपाधियाँ हैं।

बाद में इन्हीं कबीलों से मुगल साम्राज्य का उदय ईस्वी सन्1526 में शुरू हुआ।
मुगल वंश का संस्थापक बाबर था, अधिकतर मुगल शासक तुर्क और सुन्नी मुसलमान थे।
मुगल शासन 17 वीं शताब्दी के आखिर में और 18 वीं शताब्दी की शुरुआत तक चला और 19 वीं शताब्दी के मध्य में समाप्त हुआ।
और फिर रानी विक्टोरिया के माध्यम से भारत पर -परोक्ष रूप से अंग्रेजों का वर्चस्व स्थापित हो गया।
तब भी ठाकुर उपाधि धारक अंगकी हुकूमत के चाटुकार नुमाइन्दे होते थे ।
ये राज पूत भी कहलाते थे ।
__________________________________________

अंग्रेज इतिहास वेत्ता कर्नल टॉड व स्मिथ आदि विद्वानों के अनुसार "राजपूत वह विदेशी जन-जातियाँ है ।
जिन्होंने भारत के आदिवासी जन-जातियों पर आक्रमण किया था ;
और अपनी धाक जमाकर कालान्तरण में यहीं जम गये इनकी जमीनों पर कब्जा कर के जमीदार के रूप "
और वही उच्च श्रेणी में वर्गीकृत होकर राजपूत कहलाए
ब्राह्मणों ने इनके सहयोग से अपनी - व्यवस्था कायम की "
________________________________________

" 'पृथ्वीराज चौहान सभा में रहने वाले चारण-कवि चन्द्रबरदाई लिखते हैं कि परशुराम द्वारा क्षत्रियों के सम्पूर्ण विनाश के बाद ब्राह्मणों ने माउंट-आबू पर्वत पर यज्ञ किया व यज्ञ कि अग्नि से चौहान, परमार, प्रतिहार व सोलंकी आदि राजपूत वंश उत्पन्न हुये।

इसे इतिहासकार विदेशियों के हिन्दू समाज में विलय हेतु यज्ञ द्वारा शुद्धिकरण की पारम्परिक घटना के रूप मे देखते हैं "
अठारहवीं सदी की रचना भविष्य पुराण में इनकी उत्पत्ति- का वर्णन इस प्रकार है 👇
यह पुराण ब्रह्म, मध्यम, प्रतिसर्ग तथा उत्तर- इन 4 प्रमुख पर्वों में विभक्त है-। ऐैतिहासिक घटनाओं का वर्णन प्रतिसर्ग पर्व में वर्णित है।
---जो बड़ी चालाकी से भविष्य की घटना के रूप में निर्धारित कर दी परन्तु इसे पुराण में अनेक शब्द व्युत्पत्ति मूलक प्रक्षिप्त हैं । _____________________________________

जैसे पृथ्वीराज चौहान को चापिहान लिखना जैसे चौहान शब्द चापिहान का ही तद्भव रूप हो ! परन्तु मूर्ख लेखक को शब्द व्युत्पत्ति का कोई ऐैतिहासिक ज्ञान नहीं था । _______________________________________
वस्तुत: चौहान शब्द मंगोलिया के (चाउ-हुन ) श्वेत-हूण का तद्भव रूप है ।
_____________________________________


डॉ. डी. आर. भण्डारकर राजपूतों को गुर्जर मानकर उनका संबंध श्वेत-हूणों के स्थापित करके विदेशी वंशीय उत्पत्ति को और बल देते हैं।
परन्तु गुर्ज्जरः अहीरों की शाखा के रूप में गौश्चर का तद्भव रूप है ।
इसकी पुष्टि में वे डॉ. डी. आर. भण्डारकर बताते हैं कि पुराणों में गुर्जर और हूणों का वर्णन विदेशियों के सन्दर्भ में मिलता है।
इसी प्रकार उनका कहना है कि अग्निवंशीय प्रतिहार, परमार, चालुक्य और चौहान भी गुर्जर थे, क्योंकि राजोर अभिलेख में प्रतिहारों को गुर्जर कहा गया है।
परन्तु डॉ. डी. आर. भण्डारकर की यह भ्रान्ति मूलक अवधारणा है । जॉर्जिया गुर्जिस्तान की शाखा के रूप में जो गुर्ज्जरः हैं ।
वह हूण हो सकते हैं परन्तु गुर्ज्जरों की एक शाखा अहीरों के रूप में स्वयं को नन्द का वंशज मानती है ।

👇 चौहान शब्द भारतीय इतिहास में चौथी शताब्दी ईस्वी में उद्भासित होता है ।

श्वेत-हूण, चाहल (यूरोपीय इतिहास का भारतीय रूप चोल संस्करण चालुक्य जो बाद में सौलंकी बन गया ) के वंशजों के रूप में कैस्पियन समुद्र के पूर्व में बसे हुए थे।
यही वह अवधि थी जब चाहल (चोल) गजनी क्षेत्र में ज़बुलिस्तान (अफगानिस्तानी प्रान्त)पर कब्जा कर रहे थे।
यह वंश मध्य एशियाई है और मूल निवासीयों के साथ अन्तःक्रिया के कारण यह भारतीय, ईरानी और तुर्की भी है।
________________________________________


शताब्दी ईस्वी में व्हाइट हूण, चाहल्स (चालुक्य) (यूरोपीय इतिहास का चोल संस्करण) के वंशज, । हालांकि, नाम चोल को एक और कबीले द्वारा साझा किया जाता है और अंतर मिश्रण होता है;। इसलिए वंश मिश्रित है। चाहल (चोल) नाम लेबनान, इज़राइल और मध्य एशियाई देशों के मूल निवासीयों के रूप में पाया जा जाता है।

अरबी में चौहान شوهان shwhan - उपनाम है ।
मुसलमान भी चौहान शब्द का प्रयोग करते हैं।

__________________________________________

Chauhan Surname User-submission: Descandants of White Huns, the Chahals (Chols of European history) --- in the fourth century AD, were settled on the east of Caspian sea. This was the period when Chahals were occupying Zabulistan in the Ghazni area. Ancestry is Central Asian and due to interbreeding with natives it is Indian, Iranian, and Turkish. Chauhan Surname Meaning Submit Information on This Surname for a Chance to Win a $100 Genealogy DNA Test DNA test information User-submitted Reference Descandants of White Huns, the Chahals (Chols of European history) in the fourth century AD, were settled on the east of Caspian sea. This was the period when Chahals were occupying Zabulistan in the Ghazni area. Ancestry is Central Asian and due to interbreeding with natives it is Indian, Iranian, and Turkish. However, the name Chahal is shared by another clan and inter mixing has occurred; so ancestry is mixed. The name Chahal can be found native to Lebanon, Israel and Central Asian countries. - hsingh1861 Phonetically Similar Names SurnameSimilarityIncidencePrevalency Chaouhan93307/ Chauahan93253/ Chauhaan93243/ Chauhana9394/ Chauhanu9360/ Chauehan9346/ Chauohan9335/ Chauhann9321/ Chaauhan9318/ Chauhani9315/ SHOW ALL SIMILAR SURNAMES Chauhan Surname Transliterations TransliterationICU LatinPercentage of Incidence Chauhan in Bengali চৌহানcauhana- Chauhan in Hindi चौहानcauhana98.92 SHOW ALL TRANSLITERATIONS Chauhan in Marathi चौहानcauhana77.03 चौहाणcauhana16.16 छगनchagana1.99 चोहानcohana1.23 SHOW ALL TRANSLITERATIONS Chauhan in Tibetan ཅུ་ཝཱན།chuwen66.67 ཅུ་ཧན།chuhen33.33 Chauhan in Oriya େଚୗହାନecahana60.75 େଚୗହାନ୍ecahan14.52 ଚଉହାନca'uhana6.99 େଚୖହାନecahana4.84 େଚୖାହାନecaahana3.23 େଚୗହାଣecahana2.15 େଚୗହନecahana2.15 େଚୗାନecaana2.15 SHOW ALL TRANSLITERATIONS Chauhan in Arabic شوهان(shwhan-सौहान ) The surname statistics are still in development, sign up for information on more maps and data SUBSCRIBE By signing up to the mailing list you will only receive emails specifically about surname reference on Forebears and your information will not be distributed to 3rd parties. Footnotes Surname distribution statistics are generated from a global sample of 4 billion people Rank: Surnames are ranked by incidence using the ordinal ranking method; the surname that occurs the most is assigned a rank of 1; surnames that occur less frequently receive an incremented rank; if two or more surnames occur the same number of times they are assigned the same rank and successive rank is incremented by the total preceeding surnames Similar: Surnames listed in the "Similar Surnames" section are phonetically similar and may not have any relation to Chauhan WEBSITE INFORMATION AboutContactCopyrightPrivacyCredits RESOURCES Forenames Surnames Genealogical Resources England & Wales Guide © Forebears 2012-2018 _______________________________________

प्राचीन चीन का सबसे लंबा स्थायी राजवंश चौ ( चाउ) ने चीन को लगभग 1027 से 221 ई०पू० तक शासन किया।
यह चीनी इतिहास में सबसे लंबा राजवंश था और उस समय जब प्राचीन चीनी संस्कृति का विकास हुआ था। चौ चाउ (Châu) राजवंश ने दूसरे चीनी राजवंश, शांग (शुंग) का पालन किया।

मूल रूप से पादरी, चौउ ने प्रशासनिक नौकरशाही के साथ परिवारों पर आधारित एक (प्रोटो-) सामन्ती सामाजिक संगठन स्थापित किया।

उन्होंने एक मध्यम वर्ग भी विकसित किया। हालांकि शुरुआत में एक विकेन्द्रीकृत आदिवासी प्रणाली, चाउ समय के साथ केंद्रीकृत हो गया।

अब ये हूण तो थे ही .. विदित हो की सुंग एक चीनी वंशगत विशेषण भी है और पुष्य-मित्र सुंग कालीन शुल्क तथा भारद्वाज ब्राह्मणों का भी ....
हुन उत्पत्ति के सन्दर्भों में इतिहास कारों का यह मत भी मान्य है कि अपने जीवन में यौद्धिक क्रियाओं में हूण रोमन साम्राज्य तक पहुंचें और बाद में एकजुट हुए ---

हूण भयानक योद्धा थे जिन्होंने चौथी और 5 वीं शताब्दी में यूरोप और रोमन साम्राज्य के अधिकांश क्षेत्रों को आतंकित किया था।

वे प्रभावशाली घुड़सवार थे जो सबसे आश्चर्यजनक सैन्य उपलब्धियों के लिए जाने जाते थे।

जैसे ही उन्होंने यूरोपीय महाद्वीप में जाने वाले रास्ते को लूट लिया, हुनों ने क्रूर, अदम्य यौद्धिक प्रतिष्ठा हासिल की। हुन उत्पत्ति के विषय में विद्वानों में मतभेद है । कोई भी नहीं जानता कि हूण कहाँ से आये थे।

कुछ विद्वानों का मानना ​​है कि वे नामांकित (Xiongnu) लोगों से निकले हैं जिन्होंने 318 बीसी ( ई०पू०) में ऐैतिहासिक रिकॉर्ड में प्रवेश किया था। और क्यून राजवंश के दौरान और बाद में हान राजवंश के दौरान चीन को भी आतंकित किया।

चीन की महान दीवार को शक्तिशाली (Xiongnu ) लोगो के खिलाफ सुरक्षा में मदद के लिए बनाया गया था।
अन्य इतिहासकारों का मानना ​​है कि हूण कजाकिस्तान से या एशिया में कहीं और से पैदा हुए थे।
चौथी शताब्दी से पहले, हूण ने सरदारों के नेतृत्व में छोटे समूहों में यात्रा की और उन्हें कोई व्यक्तिगत राजा या नेता नहीं पता था।
वे 370 एडी के आसपास दक्षिण-पूर्वी यूरोप पहुंचे और 70 से अधिक वर्षों तक एक के बाद एक क्षेत्र पर विजय प्राप्त की।
हूण घुड़सवार स्वामी (सरदार) थे जिन्होंने कथित तौर पर घोड़ों को सम्मानित किया और कभी-कभी घुड़सवारी पर शयन।

उन्होंने तीन साल की उम्र में घुड़सवारी सीखा और पौराणिक कथाओं के अनुसार, उनके चेहरे को एक युवा उम्र में एक तलवार से पीटा जाता था ।

ताकि उन्हें दर्द सहन करने के लिए प्रशिक्षित किया जा सके। अधिकांश हुन सैनिकों ने बस कपड़े पहने लेकिन राजनीतिक रूप से सोने, चांदी और कीमती पत्थरों में छिद्रित सड़कों और रकाबों के साथ अपने कदमों को बाहर निकाला।

उन्होंने पशुधन उठाया लेकिन किसान नहीं थे और शायद ही कभी एक क्षेत्र में बस गए थे। वे भूमि को शिकारी-समूह के रूप में, जंगली खेल पर भोजन और जड़ें और जड़ी बूटी इकट्ठा करते थे।

हूणों ने युद्ध के लिए एक अनूठा दृष्टिकोण लिया।

वे युद्ध के मैदान पर तेजी से और तेजी से चले गए और प्रतीत होने वाले विवाद में लड़े, जिसने अपने दुश्मनों को भ्रमित कर दिया और उन्हें दौड़ में रखा।
वे विशेषज्ञ तीरंदाज थे जिन्होंने अनुभवी बर्च, हड्डी और गोंद से बने रिफ्लेक्स क्रोस वॉ ( नावक धनुष)का उपयोग किया था।
भविष्य पुराण में आबू पूर्वत पर अग्निवंशीय राजपूतों की उत्पत्ति का परिकल्पना है । _________________________________________

भविष्य पुराण के प्रतिसर्ग पर्व अध्याय सात में महाराज विक्रमादित्य के चरित्र-उपक्रम में सूत जी और शौनक के संवाद का भूमिका करण किया गया है कि - सूतजी बोले -चित्र-कूट ( आज का बुन्देलखण्ड और बघेलखण्ड ) पर्वत के समीप वर्ती क्षेत्र में परिहार नामक एक राजा हुआ ;

उसने रमणीय कलिञ्जर नगर में अपने पराक्रम से बौद्धों को परास्त कर पूर्ण प्रतिष्ठा प्राप्त की तभी राजपूताना रे क्षेत्र ( दिल्ली नगर) में चपहानि (चौहान)नामक राजा हुआ ;
उसने अति सुन्दर नगर अजमेर में सुख-पूर्वक राज्य लिया । उसके राज्य में चारों वर्ण स्थित थे।

आनर्त (गुजरात ) प्रदेश में शुल्क नामक राजा हुआ उसने द्वारिका को राजधानी बनाया ।

शौनकजी ने कहा ----- हे महाभाग ! अब आप अग्नि वंशी राजाओं का वर्णन करें ।

सूतजी बोले--- ब्राह्मणों इस समय मैं योग- निद्रा के वशीभूत हो गया हूँ ; अब आप लोग भी भगवान का ध्यान करें । अब मैं अल्प विश्राम करुँगा।

यह सुन कर ब्राह्मण- भगवान विष्णु के ध्यान में लीन हो गये । दीर्घ अन्तराल के पश्चात् ध्यान से उठकर सूत जी पुन: बोले ----महामुने कलियुग के सैंतील़स सौ दश वर्षों व्यतीत होने पर प्रमर ( परमार) नामक राजा ने राज्य करना प्रारम्भ किया ।

उन्हें महामद ( मोहम्मद) नामक पुत्र उत्पन्न हुआ । तब तीन हजार वर्ष पूर्ण होने पर कलियुग का आगमन हुआ  तब शकों के विनाश के लिए और आर्य धर्म की वृद्ध के लिए वे ही शिव-दृष्टि गुह्यकों की निवास भूमि कैलास से शंकर की आज्ञा पाकर पृथ्वी पर विक्रमादित्य नाम से प्रसिद्ध हुए ।

अम्बावती नगरी में आकर विक्रमादित्य ने बत्तीस मूर्तियों से समन्वित किया ।भगवती पार्वती के द्वारा प्रेषित एक वैताल उसकी रक्षा में सदैव तत्पर रहता था  इन चारों क्षत्रियों ने ब्राह्मणों के निर्देश पर अशोक के वंशजों को अपने अधीन कर भारत वर्ष के सभी बौद्धों को नष्ट कर दिया ।

अवन्त में परमार ---प्रमर राजा हुए उसने चार योजन लम्बी अम्बावती नगरी में स्थित होकर सुख-पूर्वक जीवन व्यतीत किया । 👇

अध्याय सोलहवाँ समाप्त हुआ !! गीताप्रेस गोरख पुर संस्करण कल्याण भविष्य पुराण अंक पृष्ठ संख्या--244 _____________________________________

भविष्य पुराण में वर्णन है कि बिम्बसार के पुत्र अशोक के समय कान्यकुब्ज (कन्नौज) देश का एक ब्राह्मण आबू पर्वत पर चला गया और वहाँ उसने विधि-पूर्वक ब्रह्महोत्र सम्पन्न किया तभी वेद मन्त्रों के प्रभाव से यज्ञ कुण्ड से चार क्षत्रियों की उत्पत्ति हुई । 👇

1- प्रमर (परमार) सामवेदी मन्त्र प्रभाव से ,
2- चपहानि ( कृष्ण यजुर्वेदी त्रिवेदी मन्त्र प्रभाव से
3- गहरवार (शुक्ल यजुर्वेदी और
4--परिहारक अथर्वेदी क्षत्रिय थे ।

ये सब एरावत कुलों में उत्पन्न हाथीयों पर आरूढ (सवार) थे ।

अग्निकुण्ड का सिद्धान्त लेखक चंद्रवरदाई ने अपने ग्रन्थ पृथ्वीराज रासो में राजपूतों की उत्पत्ति का अग्नि कुण्ड का सिद्धान्त प्रतिपादित किया इनकी उत्पत्ति के बारे में उन्होंने बताया कि माउंट आबू पर गुरु वशिष्ट का आश्रम था।

गुरु वशिष्ठ जब यज्ञ करते थे तब कुछ दैत्यो द्वारा उस यज्ञ को असफल कर दिया जाता था!

तथा उस यज्ञ में अनावश्यक वस्तुओं को डाल दिया जाता था अग्निकुण्ड का सिद्धान्त का यथार्थ---- वशिष्ठ के यज्ञ में असुर उत्पात करते हैं जिसके कारण यज्ञ दूषित हो जाता था गुरु वशिष्ठ ने इस समस्या से निजात पाने के लिए अग्निकुंड अग्नि से 3 योद्धाओं को प्रकट किया इन योद्धाओं में परमार, गुर्जर, प्रतिहार, तथा चालुक्य( सोलंकी) पैदा हुए, लेकिन समस्या का निराकरण नहीं हो पाया इस प्रकार गुरु वशिष्ठ ने पुनः एक बार यज्ञ किया और उस यज्ञ में एक वीर योद्धा अग्नि में प्रकट किया यही अन्तिम योद्धा ,चौहान, कहलाया इस प्रकार चन्द्रवरदाई ने राजपूतों की उत्पत्ति अग्निकुण्ड से बताई ।

जितने भी ठाकुर उपाधि धारक हैं वे राजपूत ब्राह्मणों की इसी परम्पराओं से उत्पन्न हुए हैं
_________________________________________

सत्य का प्रमाणीकरण इस लिए भी है कि ठाकुर शब्द तुर्कों की जमींदारीय उपाधि थी ।

संस्कृत ग्रन्थ अनन्त संहिता में श्री दामनामा गोपाल: श्रीमान सुन्दर ठाकुर: का उपयोग भी किया गया है, जो भगवान कृष्ण के संदर्भ में है।
यह समय बारहवीं सदी ही है ।
__________________________________________


पुष्टिमार्गीय सम्प्रदाय में श्रीनाथजी के विशेष विग्रह के साथ कृष्ण भक्ति की जाती है।
जिसे ठाकुर जी सम्बोधन दिया गया है ।
पुष्टिमार्गीय सम्प्रदाय का जन्म पन्द्रवीं सदी में हुआ है ।  और यह शब्द का आगमन बारहवीं सदी में तक्वुर शब्द के रूप में और भारतीय धरा पर इसका प्रवेश तुर्कों के माध्यम से हुआ ।
--जो सातवीं सदी में प्रवेश करते हैं भारतीय धरा पर

ये संस्कृत भाषा में प्राप्त जो ठक्कुर शब्द है वह निश्चित रूप से मध्य कालीन विवरण हैं ।
अनन्त-संहिता बाद की है ; इसमें विष्णु के अवतार की देव मूर्ति को भी "ठाकुर "कह दिया हैं

और उनके मन्दिर को "हवेली" दौनों शब्द पैण्ट-कमी़ज की तरह साथ साथ हैं।

उच्च वर्ग के क्षत्रिय आदि की प्राकृत उपाधि ठाकुर भी इसी से निकली है।

किसी भी प्रसिद्ध व्यक्ति को ठाकुर या ठक्कुर कहा जा सकता है।
बशर्ते वह जमींदार हो ।
दुराग्रहों से आज राजपूताने की कुछ जन-जाति स्वयं को ठाकुर के रूप में जातिगत सम्बोधन दे रहे हैं ।
वस्तुत यह पूर्वाग्रह इस लिए भी है कि वे तुर्को और मुगलों के संक्रमण में रहे हैं ।
वस्तुत ठाकुर उपाधि तुर्को की "उतरन" है ।
जिसे कुछ दम्भवादी राजपूत करने लगे ।
अब दुर्भाग्य तो यह है कि यादवों नायक कृष्ण को भी यह तुर्को की यह "उतरन" पहनादी गयी
__________________________________________
  विशेषकर श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा स्थापित पुष्टिमार्गी सम्प्रदाय के अनुयायी भगवान कृष्ण के लिए ठाकुर जी सम्बोधन देते हैं।

इसी सम्प्रदाय ने उन्हें कृष्ण जी को ठाकुर का प्रथम सम्बोधन दिया ।
यद्यपि किसी पुराण अथवा शास्त्र में ठक्कुर शब्द का प्रयोग कृष्ण के लिए कभी नहीं हुआ है।
क्यों कि ठक्कुर शब्द संस्कृत का है ही नहीं ।

वास्तव में कृष्ण के ठक्कुर सम्बोधन के मूल में कालान्तरण में यह भावना ही प्रबल रही  कि " कृष्ण को यादव सम्बोधन न देकर केवल आभीर (गोप) जन-जाति को हेय सिद्ध किया जा सके ।
अत: इन्हें ठाकुर सम्बोधन दिया जाय।

अब देखिए हरिवंश पुराण में वसुदेव
तथा उनके पुत्र कृष्ण को गोप (आभीर) ही कहा है ।
और गोप यादवों की गोपालन वृत्ति मूलक विशेषण है।
जबकि (यदु अण् )= यादव यदोर्गोत्रापत्यमण्
अर्थात्‌ यदु की सन्तानें यादव हैं ।
आभीर इनकी वीरता प्रवृत्ति-मूलक विशेषण है।
गोष: --जो लौकिक भाषाओं में घोष हो गया 'वह भी गोपालन वृत्ति मूलक विशेषण है।👇
________________________________________


गोपायनं य:  कुरुते जगत: सर्वलौककम् ।
स कथं गां गतो देशे विष्णु: गोपत्वम् आगत ।।९।  (हरिवंश पुराण )
अर्थात् :- जो प्रभु विष्णु पृथ्वी के समस्त जीवों की रक्षा करने में समर्थ है ।
वही गोप (आभीर) के घर (अयन)में गोप बनकर आता है ।९। हरिवंश पुराण १९ वाँ अध्याय ।

जब वेदमाता गायत्री को अहीर कन्या अथवा  गोप की कन्या कह कर वर्णित किया गया है ।
तब फिर स्वयं को आधुनिक समय में गो- संरक्षक घोषित करने वाले रूढ़िवादी इन अहीरों को हीन और हेय क्यों मानते हैं ?
गोप वस्तुत गाय का पालने वाले प्रथम चरावाहे थे ।
पद्म पुराण के सृष्टि खण्ड तथा अग्निपुराण एवं नान्दी उपपुराण आदि पौराणिक ग्रन्थों में ये तथ्य किंवदन्तियों के रूप में  वर्णित हैं ।
यदु का गोप रूप में वर्णन वैदिक सन्दर्भों में पूर्व ही  प्राप्त होता है !

क्यों कि ऋग्वेद के दशम मण्डल के 62 वें सूक्त की दशवीं ऋचा में यदु और तुर्वशु को गोप ही कहा है । देखें--- निम्न पक्ति ऋचाऐं  ऋग्वेद की 👇
____________________________________________

उत् दासा परिविषे स्मत्दृष्टी गोपर् ईणसा यदुस्तुर्वशुश्च मामहे ।। ऋग्वेद 10/62/10

वे गोप ! गो-पालन की शक्ति के द्वारा ( गोप: ईनसा  सन्धि संक्रमण से वर्त्स्य नकार का मूर्धन्य णकार होने से गोपरीणसा रूप सिद्ध होता है ) समृद्धशाली हो गये हैं । वे यदु और तुर्वशु हैं ।
अर्थात् यदु और तुर्वशु --जो  दास अथवा असुर संस्कृति के अनुयायी हैं
वे गोप गायों से घिरे हुए हैं ।
--जो मुस्कराहट पूर्ण दृष्टि वाले हैं हम उन दौनों की प्रशंसा करते हैं ।। ऋग्वेद 10/62/10

इतना ही नहीं  कृष्ण का वर्णन ऋग्वेद के अष्टम् मण्डल के 96 वें--सूक्त में  चरावाहे के रूप में है :- 👇

🗻 ऋग्वेद के अष्टम् मण्डल के 96 में सूक्त की ऋचा संख्या (13,14,15,) पर कृष्ण को असुर या अदेव कहा है ।
'वह भी एक चरावाहे के रूप में
तथा और इन्द्र के साथ कृष्ण के युद्ध का वर्णन है !
जो यमुना नदी (अंशुमती) के तलहटी मे  गायें चराते हैं 
देखें---

👇
__________________________________________

आवत् तमिन्द्र शच्या धमन्तमप स्नेहितीर्नृमणा अधत्त
द्रप्सम पश्यं विषुणे चरन्तम् उपह्वरे नद्यो अंशुमत्या न भो न कृष्णं अवतस्थि वांसम् इष्यामि ।।
वो वृषणो युध्य ताजौ ।।१४।।
ऋग्वेद 8/96/13,14,15,

कृष्ण का जन्म वैदिक तथा हिब्रू बाइबिल में वर्णित यदु के वंश में हुआ था ।
वेदों में यदु को दास अथवा असुर कहा गया है ,तो यह तथ्य रहस्य पूर्ण ही है ।
यद्यपि ऋग्वेद में असुर शब्द  प्रारम्भिक सन्दर्भों में "पूज्य व प्राण-तत्व" से युक्त वरुण , अग्नि आदि  शक्तियों का वाचक है।
वेदों का प्रणयन काल यद्यपि ई०पू० 1500 तक सिद्ध हो चुका है ।
तथा ऋग्वेद की दशम मण्डल तो पाणिनीय कालीन है
परन्तु इस मण्डल की यह ऋचा पाणिनि से पूर्व काल की है ।
क्यों कि इसमें द्वितीय विभक्ति द्विवचन का रूप --जो कर्म कारक में है "दासा " है जबकि पाणिनीय व्याकरण में "दासौ" रूप है ।

कृष्ण को गोप अथवा चरावाहे के रूप में सिद्ध करने के लिए ऋग्वेद के अष्टम मण्डल की 96 वें सूक्त की चौदहवीं ऋचा का निम्नलिखित
क्रिया पद विचारणीय है ।👇
_____________________________________

चरन्तम् उपह्वरे नद्यो अंशुमत्या न भो न कृष्णं
यमुना नदी की उपत्यका में गायों को चराने वाले  हे कृष्ण !

पौराणिक ग्रन्थों में अहीरों को यद्यपि द्वेष वश नकारात्मक रूप में वर्णित किया गया है । तो भी
वेदों की अधिष्ठात्री देवी गायत्री को नरेन्द्र सेन आभीर की कन्या बताया है ।
पद्म-पुराण में वर्णन मिलता है कि..

जब गायत्री के अद्भुत तेज व सौम्य स्वरूप को देखकर इन्द्र उस कन्या के अलौकिक प्रभाव से अभिभूत हो गया
तो उसने इसकी सूचना ब्रह्मा को दी -
👇
पद्म पुराण के सृष्टि खण्ड के अध्याय १६  में गायत्री माता को  नरेन्द्र सैन आभीर की कन्या गायत्री के रूप में वर्णित किया गया है । देखें-- निम्न श्लोक 👇
_________________________________________
" स्त्रियो दृष्टास्तु यास्त्व ,
      सर्वास्ता: सपरिग्रहा :
आभीरः कन्या रूपाद्या ,
      शुभास्यां चारू लोचना ।७।

न देवी न च गन्धर्वीं ,
नासुरी न च पन्नगी ।
वन चास्ति तादृशी कन्या ,
यादृशी सा वराँगना ।८।
_________________________________________

अर्थात् जब इन्द्र ने पृथ्वी पर जाकर देखा
तो वे पृथ्वी पर कोई सुन्दर और शुद्ध कन्या न पा सके
परन्तु एक नरेन्द्र सैन आभीर की कन्या गायत्री को सर्वांग सुन्दर और शुद्ध देखकर  दंग रह गये ।

उसके समान सुन्दर  कोई देवी न कोई गन्धर्वी  न सुर असुर की स्त्री और न कोई पन्नगी ही थी।
इन्द्र ने तब  ने उस कन्या गायत्री से पूछा कि तुम कौन हो  ? और कहाँ से आयी हो ? और किस की पुत्री हो ?
_________________________________________

गोप कन्यां च तां दृष्टवा , गौरवर्ण महाद्युति:।
एवं चिन्ता पराधीन ,यावत् सा गोप कन्यका ।।९ ।।
पद्म पुराण सृष्टि खण्ड अध्याय १६ १८२ श्लोक में
इन्द्र ने कहा कि तुम बड़ा रूप वती हो , गौरवर्ण वाली महाद्युति से युक्त हो ,

अध्याय १७ के ४८३ में प्रभु ने कहा कि यह गोप कन्या पराधीन चिन्ता से व्याकुल है ।
देवी चैव महाभागा , गायत्री नामत: प्रभु ।
गान्धर्वेण विवाहेन ,विकल्प मा कथाश्चिरम्।९।
१८४ श्लोक में विष्णु ने ब्रह्मा जी से कहा कि हे प्रभो इस कन्या का नाम गायत्री है ।

__________________________________________

वस्तुत आभीर और गोप शब्द परस्पर पर्यायवाची है ।
यहा गायत्री के लिये गोप अहीर दोनो प्रयोग किया गया है

गोपों (अहीरों) को देवीभागवतपुराण तथा महाभारत , हरिवंश पुराण आदि मे देवताओं का अवतार बताया गया है ; देखें 👇
______________________________________

" अंशेन त्वं पृथिव्या वै , प्राप्य जन्म यदो:कुले ।
भार्याभ्याँश संयुतस्तत्र , गोपालत्वं करिष्यसि ।१४

अर्थात् अपने अंश से तुम पृथ्वी पर गोप बनकर यादव कुल में जन्म ले ! और अपनी भार्या के सहित अहीरों के रूप में गोपालन करेंगे।।
वस्तुत आभीर और गोप शब्द परस्पर पर्याय वाची हैं l

गर्ग संहिता अश्व मेध खण्ड अध्याय 60,41,में यदुवंशी गोपों ( अहीरों) की कथा सुनने और गायन करने से मनुष्यों के सब पाप नष्ट हो जाते हैं ; एेसा वर्णन है ।

गोप शूद्र नहीं अपितु स्वयं में क्षत्रिय ही हैं ।
जैसा की संस्कृति साहित्य का इतिहास नामक पुस्तक में पृष्ठ संख्या  368 पर वर्णित है👇

अस्त्र हस्ताश़्च धन्वान: संग्रामे सर्वसम्मुखे ।
प्रारम्भे विजिता येन स: गोप क्षत्रिय उच्यते ।।
यादव: श्रृणोति चरितं वै गोलोकारोहणं हरे :
मुक्ति यदूनां गोपानं सर्व पापै: प्रमुच्यते ।102।

अर्थात् जिसके हाथों में अस्त्र एवम् धनुष वाण हैं ---जो युद्ध को प्रारम्भिक काल में ही विजित कर लेते हैं वह गोप क्षत्रिय ही कहे जाते हैं ।
जो मनुष्य गोप अर्थात् आभीर (यादवों )के चरित्रों का श्रवण करता है ।
वह समग्र पाप-तापों से मुक्त हो जाता है ।।

वल्लभाचार्य जी द्वारा स्थापित पुष्टिमार्गी संप्रदाय के अनुयायी भगवान कृष्ण के लिए ठाकुर जी संबोधन देते हैं।
इसी सम्प्रदाय ने उन्हें कृष्ण जी को ठाकुर का प्रथम सम्बोधन दिया ।

यद्यपि किसी पुराण अथवा शास्त्र में ठक्कुर शब्द का प्रयोग कृष्ण के लिए कभी नहीं हुआ है। भ्रान्ति वश बेवजह राजपूत समुदाय के लोग कृष्ण को ठाकुर बिरादरी से सम्बद्ध कर रहे हैं ।

वल्लभाचार्य एक रूढि वादी ब्राह्मण थे ।
और राजपूतों के श्रद्धेय भी थे ।
परन्तु इस सम्बोधन के मूल में कालान्तरण में यह भावना प्रबल रही कि " कृष्ण को यादव सम्बोधन न देकर केवल आभीर (गोप) जन-जाति को हेय सिद्ध किया जा सके ।
इसलिए ठाकुर जी का सम्बोधन दिया जाने लगा ।
वस्तुत जादौन भीटी अथवा अन्य राज-पूत ---जो स्वयं को यदुवंशी क्षत्रिय कहते हैं ।
अपने आप को गोपों से सम्बद्ध नहीं करते हैं । परन्तु कृष्ण तो गोप ही थे ।
अब देखिए हरिवंश पुराण में वसुदेव तथा उनके पुत्र कृष्ण को गोप (आभीर) कहा !
वसुदेव और नन्द दौनों को परस्पर सजातीय वृष्णि वंशी यादव बताया है ।
देवमीढ़ के दो रानीयाँ मादिष्या तथा वैश्यवर्णा नाम की थी ।
मादिषा के शूरसेन और वैश्यवर्णा के पर्जन्य हुए ।
शूरसेन के वसुदेव तथा पर्जन्य के नन्द हुए
नन्द नौ भाई थे --
__________________________________

धरानन्द ,ध्रुवनन्द ,उपनन्द ,अभिनन्द सुनन्द
________________________________

कर्मानन्द धर्मानन्द नन्द तथा वल्लभ ।
हरिवंश पुराण में वसुदेव को भी गोप कहकर सम्बोधित किया है ।
_________________________________________

"इति अम्बुपतिना प्रोक्तो वरुणेन अहमच्युत !
गावां कारणत्वज्ञ सतेनांशेन जगतीं गत्वा गोपत्वं एष्यति !!
अर्थात् हे विष्णु वरुण के द्वारा कश्यप को व्रज में गोप (आभीर) का जन्म धारण करने का शाप दिया गया ..
क्योंकि उन्होंने वरुण की गायों का अपहरण किया था..
________________________________________ 

   हरिवंश पुराण--(ब्रह्मा की योजना नामक अध्याय)
            ख्वाजा कुतुब वेद नगर बरेली संस्करण पृष्ठ संख्या १३३----
और गोप का अर्थ आभीर होता है ।
________________________________________


परन्तु यादवों को कभी भी कहीं भी वर्ण-व्यवस्था के अन्तर्गत क्षत्रिय स्वीकार न करने का कारण
यही है, कि ब्राह्मण समाज ने प्राचीन काल में ही यदु को शुद्र कहा क्यों की उन्होंने अपने पिता को अपना पौरूष ना दिया और शाप के कारण उन्होंने पृथक यदुवंश / यादव राज्य स्थापित किया |
ऋग्वेद के दशम् मण्डल के ६२वें सूक्त का १०वाँ श्लोक प्रमाण रूप में देखें---
_________________________________________

उत् दासा परिविषे स्मद्दिष्टी गोपरीणसा यदुस्तुर्वश्च च मामहे----
---------------------------------------------------------

अन्यत्र ऋग्वेद के द्वित्तीय मण्डल के तृतीय सूक्त के छठे श्लोक में दास शब्द का प्रयोग शम्बर असुर के लिए हुआ है ।
जो कोलों का नैतृत्व करने वाला है !
------------------------------------------------------------

उत् दासं कौलितरं बृहत: पर्वतात् अधि आवहन इन्द्र: शम्बरम् ।।
------------------------------------------------------------

६६-६
ऋग्वेद-२ /३ /६
दास शब्द इस सूक्त में एक वचन रूप में है ।
और ६२वें सूक्त में द्विवचन रूप में है ।
वैदिक व्याकरण में "दासा "
लौकिक संस्कृत भाषा में "दासौ" रूप में मान्य है ।
ईरानी आर्यों ने " दास " शब्द का उच्चारण "दाहे "
रूप में किया है -- ईरानी आर्यों की भाषा में दाहे का अर्थ --श्रेष्ठ तथा कुशल होता है ।
अर्थात् दक्ष--
-----------------------------------------------------------------
यदुवंशी कृष्ण द्वारा श्रीमद्भगवद्गीता  में--
यह कहना पूर्ण रूपेण मिथ्या व विरोधाभासी ही है
कि .......
     "वर्णानां ब्राह्मणोsहम् "
       (  श्रीमद्भगवद् गीता षष्ठम् अध्याय विभूति-पाद)
__________________________________
{"चातुर्यवर्णं मया सृष्टं गुण कर्म विभागश:" }
      (श्रीमद्भगवत् गीता अध्याय ४/३)
क्योंकि कृष्ण यदु वंश के होने से स्वयं ही शूद्र अथवा दास थे ।
फिर वह व्यक्ति समाज की पक्ष-पात पूर्ण इस वर्ण व्यवस्था का समर्थन क्यों करेगा ! ...
गीता में वर्णित बाते दार्शिनिक रूप में तो कृष्ण का दर्शन (ज्ञान) हो सकता है ।
________________________
परन्तु {"वर्णानां ब्राह्मणोsहम् "}
________________________________________
अथवा{ चातुर्यवर्णं मया सृष्टं गुण कर्म विभागश:}
जैसे तथ्य उनके मुखार-बिन्दु से नि:सृत नहीं हो सकते हैं
गुण कर्म स्वभाव पर वर्ण व्यवस्था का  निर्माण कभी नहीं हुआ...
ये तो केवल एक आडम्बरीय आदर्श है ।
केवल जन्म या जाति के आधार पर ही हुआ ..
स्मृतियों का विधान था , कि ब्राह्मण व्यभिचारी होने पर भी पूज्य है
_____________________________________
और शूद्र जितेन्द्रीय होने पर भी पूज्य नहीं है।
क्योंकि कौन दोष-पूर्ण अंगों वाली गाय को छोड़कर,
शील वती गधी को दुहेगा ...
"दु:शीलोSपि द्विज पूजिये न शूद्रो विजितेन्द्रीय:
क: परीत्ख्य दुष्टांगा दुहेत् शीलवतीं खरीम् ।।१९२।।.          ( पराशर स्मृति )
--------------------------------------
हरिवंश पुराण में वसुदेव को गोप कहा है ।
हरिवंश पुराण में वसुदेव का गोप रूप में वर्णन
_______________________________
"इति अम्बुपतिना प्रोक्तो वरुणेन अहमच्युत !
गावां कारणत्वज्ञ: सतेनांशेन जगतीं गत्वा गोपत्वम् एष्यति ।।२२।।
अर्थात् जल के अधिपति वरुण के द्वारा ऐसे वचनों को सुनकर अर्थात् कश्यप के विषय में सब कुछ जानकर वरुण ने कश्यप को शाप दे दिया , कि कश्यप ने अपने तेज के प्रभाव से उन गायों का अपहरण किया है ।
उसी अपराध के प्रभाव से व्रज में गोप (आभीर) का जन्म धारण करें अर्थात् गोपत्व को प्राप्त हों ।

__________________________________________

श्रीमद्भागवत् गीता का वह मूल श्लोकः
जिसमें कृष्ण के स्पष्ट शब्दों में यादव कहा गया है ।

न कि ठाकुर देखें--- सभी जिज्ञासु 👇

सखेति मत्वा प्रसभं यदुक्तं हे कृष्ण हे यादव हे सखेति। अजानता महिमानं तवेदं मया प्रमादात्प्रणयेन वापि।।
(श्रीमद्भगवद् गीता अध्याय 11. श्लोक 41)।।
__________________________________________

क्यों कि मैं आपकी महिमा को न जाननेका अपराधी रहा हूँ? इसलिये --, आपकी महिमा को अर्थात् आप ईश्वरके इस विश्वरूपको न जाननेवाले मुझ मूढ़द्वारा विपरीत बुद्धिसे आपको मित्रसमान अवस्थावाला समझकर जो अपमानपूर्वक हठ से इत्यादि वचन कहे गये हैं --हे कृष्ण हे यादव हे सखे -- तव इदं महिमानम् अजानता इस पाठमें इदम् शब्द नपुंसक लिङ्ग है और महिमानम् शब्द पुंल्लिङ्ग है?

अतः इनका आपसमें व्याधिकरण्यसे विशेष्य विशेषणभावसम्बन्ध है।

यदि इदम् की जगह इमम् पाठ हो तो सामानाधिकरण्यसे सम्बन्ध हो सकता है।
इसके सिवा प्रमादसे यानी विक्षिप्तचित्त होने के कारण अथवा प्रणयसे भी -- स्नेहनिमित्तक विश्वासका नाम प्रणय है ? 
उसके कारण भी मैंने जो कुछ कहा है।
उसे क्षमा ही करें !

आपकी महिमा और स्वरूपको न जानते हुए मेरे सखा हैं ऐसा मानकर मैंने प्रमादसे अथवा प्रेमसे हठपूर्वक (बिना सोचे समझे) हे कृष्ण हे यादव हे सखे इस प्रकार जो कुछ कहा है और हे अच्युत हँसी दिल्लगी में?
चलते फिरते? सोते जागते? उठते बैठते ?
खाते पीते समयमें अकेले अथवा उन सखाओं? कुटुम्बियों आदिके सामने मेरे द्वारा आपका जो कुछ तिरस्कार किया गया है?

यद्यपि यादवों का व्यवसाय गत विशेषण गोप / गौश्चर:
भी लोक में प्रसिद्ध रहा और स्वभाव ( प्रवृत्ति-मूलक) विशेषण आभीर अथवा अहीर सर्व विदित ही है ।
__________________________________________
      यादव योगेश कुमार "रोहि"
सम्पर्क सूत्र:-8077160219....

अगला लेख: चौहान ,परमार ,प्रतिहार,सोलंकी शकृत,शबर,पोड्र,किरात,सिंहल,खस,द्रविड,पह्लव,चिंबुक, पुलिन्द, चीन , हूण,तथा केरल आदि जन-जातियों की काल्पनिक व्युत्पत्तियाँ- प्रस्तुति-करण :–यादव योगेश कुमार "रोहि"



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x